महाभारत छत्तीसगढ़ / परिसीमन से सीटें आरक्षित, डेढ़ दर्जन सीटों पर दूसरे वर्ग का प्रत्याशी चुनने की मजबूरी

Dainik Bhaskar

Oct 13, 2018, 11:03 AM IST


प्रतीकात्मक फोटो। प्रतीकात्मक फोटो।
X
प्रतीकात्मक फोटो।प्रतीकात्मक फोटो।

जॉन राजेश पॉल

 

रायपुर. विधानसभा में जिस वर्ग की आबादी ज्यादा है, उसे प्रतिनिधित्व मिले, इसलिए परिसीमन किया गया। लेकिन राज्य में डेढ़ दर्जन सीटें ऐसी हैं, जहां जिस वर्ग के लिए सीट आरक्षित है, उससे ज्यादा संख्या में दूसरे वर्ग के वोटर हैं। इसके बाद भी दूसरे वर्ग का विधायक चुनने की मजबूरी है। सरगुजा के अंतिम छोर से लेकर बस्तर तक और मैदानी इलाकों में भी कहीं सामान्य या अन्य पिछड़ा वर्ग तो कहीं अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के वोटरों को अपनी बहुलता के बावजूद दूसरे समाज के प्रतिनिधि को विधानसभा में भेजना पड़ रहा है। मनेंद्रगढ़ समेत डेढ़ दर्जन सीटें हैं, जहां वोटर अपनी जनसंख्या ज्यादा होने के बाद भी दूसरे वर्ग के प्रतिनिधि चुन रहे हैं। 

COMMENT