छत्तीसगढ़ / निकाय चुनाव: 138 साल का रिकॉर्ड टूटा, 1881 में हुए के गठन के बाद पहली बार धमतरी को मिला कांग्रेस का महापौर

धमतरी नगर निगम में जीत के बाद कांग्रेस के नेताओं ने जश्न मनाया। धमतरी नगर निगम में जीत के बाद कांग्रेस के नेताओं ने जश्न मनाया।
X
धमतरी नगर निगम में जीत के बाद कांग्रेस के नेताओं ने जश्न मनाया।धमतरी नगर निगम में जीत के बाद कांग्रेस के नेताओं ने जश्न मनाया।

  • छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले में ब्रिटिश शासन काल में बनी थी नगर पालिका 
  • राजधानी रायपुर में कांग्रेस 15 सालों से काबिज, दुर्ग और रायगढ़ में हुई सालों बाद वापसी

दैनिक भास्कर

Jan 06, 2020, 09:25 PM IST

रायपुर. छत्तीसगढ़ की 5 नगर निगम में सोमवार को पार्षदों ने महापौर चुने। धमतरी की नगर निगम को पहला कांग्रेसी महापौर विजय देवांगन के तौर पर मिला। ब्रिटिश काल में 138 साल पहले धमतरी का बतौर नगर पालिका के तौर पर गठन हुआ था। यहां कांग्रेस की तरफ से कभी कोई प्रतिनिधि इस कुर्सी तक नहीं पहुंच पाया था। शुरूआती दौर में निर्दलीय या जनसंघ के नेता ही यहां शहर प्रमुख की कुर्सी संभाल रहे थे। छत्तीसगढ़ में अगर सियासी पारे के मीटर का इशारा समझें तो इन दिनों यह कांग्रेस की तरफ झुका हुआ है। 


धमतरी नगर निगम का सियासी इतिहास 

ब्रिटिशकालीन म्यूनिसिपल एक्ट के तहत धमतरी नगर पालिका का गठन 27 जुलाई 1881 को हुआ था। तब नगर पालिका की जनसंख्या 6647 थी। पालिका में 8 निर्वाचित और 3 नामित सदस्य, तहसीलदार, पदेन अध्यक्ष और नायब तहसीलदार, अवैतनिक सचिव थे। यह व्यवस्था 1921 तक रही। सन् 1922 में म्यूनिसपल एक्ट लागू हुआ जिसमें स्व. नारायण राव  मेघावाले 14 जनवरी 1922 को प्रथम अशासकीय अध्यक्ष निर्वाचित हुए। इसके बाद स्व. नत्थू जी जगताप सन 1922 से 1934 तक निर्वाचित प्रथम अध्यक्ष हुए।


यह 133 साल तक नगर पालिका रही है, बीते 5 साल से ये नगर निगम है। इस तरह से इस निकाय की उम्र कुल 138 साल हो चुकी है। देश और प्रदेश में भले ही कई दशकों तक कांग्रेस की सत्ता जरूर रही, लेकिन धमतरी निकाय में आज तक कांग्रेस सत्ता पर काबिज नहीं हो सकी थी। नगर पालिका में भाजपा का ही कब्जा रहा। निगम 2014 में बना। इसमें भी भाजपा जीती। अर्चना चौबे महापौर बनीं थीं।


इन जगहों पर कांग्रेस की वापसी हुई

रायपुर की नगर निगम के सियासी हालात को समझें तो 10 साल पहले भाजपा के हाथों से महापौर की कुर्सी कांग्रेस की किरणमयी नायक ने छीन ली थी। इसके बाद कांग्रेस के ही प्रमोद दुबे महापौर बने, अब एजाज ढेबर ने इस हैट्रिक को बरकरार रखा है। दुर्ग नगर निगम में करीब 20 साल बाद कांग्रेस का महापौर शहर सरकार की कमान संभाल रहा है। रायगढ़ में कांग्रेस की वापसी 15 साल बाद हुई और चिरमिरी में करीब 10 साल बाद पूर्ण बहूमत से कांग्रेस की महापौर को चुना गया है। राजनांदगांव, जगदलपुर और बिलासपुर में भी कांग्रेस के उम्मीदवार ही महापौर हैं। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना