--Advertisement--

छत्तीसगढ़ / सभी शासकीय विश्वविद्यालयों की कार्यपरिषद भंग, जल्द होगा गठन

Dainik Bhaskar

Jan 14, 2019, 12:50 AM IST


dissolution of the council of all government universities
X
dissolution of the council of all government universities

  • कार्यपरिषद में कांग्रेस विधायकों को मिलेगा मौका

रायपुर . राज्य सरकार ने प्रदेश के सभी शासकीय विश्वविद्यालयों की कार्यपरिषदों को भंग करने का फैसला किया है। इसका आदेश एक-दो दिन में जारी कर दिए जाएंगे। साथ ही उच्च शिक्षा विभाग से इनका नए सिरे से गठन करने को कहा है। बीते 15 वर्षों में इन कार्यपरिषदों में भाजपा के विधायकों और सरकार से निकटता रखने वाले लोगों का दबदबा रहा है।

 

ये भी पढ़ें

Yeh bhi padhein

 

राज्य के उच्च शिक्षा विभाग के अधीन  7 शासकीय और  8 निजी  विश्वविद्यालय हैं। इनके अलावा एक-एक तकनीकी, कृषि और कामधेनु विश्वविद्यालय भी है। इनके संचालन में कार्यपरिषदों की अहम भूमिका रहती है। इनमें शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े शिक्षाविद, सामाजिक क्षेत्र के नामचीन और विधायिका के प्रतिनिधि के रूप में 2 से 5 विधायकों को सदस्य बनाया जाता है। 


कुछेक सदस्यों की नियुक्ति राज्यपाल अपने प्रतिनिधि के रूप में करते हैं। अविभाज्य मध्यप्रदेश के जमाने से कार्यपरिषदों का गठन राजनीति तुष्टिकरण का केंद्र बन चुका है।  ताकि शासन द्वारा नियुक्त कुलपतियों के कामकाज में दिक्कतें न आए। दो साल के कार्यकाल और किसी बड़े नफे के बावजूद  शिक्षाविदों में सदस्य नामजद होने की होड़ रहती है।


एक-दो महीने में हो जाएंगी नियुक्तियां : पिछले कार्यकाल में भाजपा का इन कार्यपरिषदों में दबदबा रहा है। नई नियुक्तियां अगले एक-दो माह में कर ली जाएंगी।  विधायकों को चुनने बाकायदा विधानसभा में नामांकन से लेकर निर्वाचन की प्रकिया अपनाई जाती है और सामाजिक क्षेत्र के प्रतिनिधि राज्य सरकार की सिफारिश पर कुलाधिपति नियुक्त करते हैं। विधायकों  का निर्वाचन 8 फरवरी से शुरू हो रहे बजट सत्र के दौरान कर लिए जाने के संकेत हैं।

 

शुक्ला का नाम सभी कार्यपरिषदों के लिए : इधर राजभवन के सूत्रों के मुताबिक कुलाधिपति के प्रतिनिधि के रुप में डा. अंजनी कुमार शुक्ला प्रदेश के सभी शासकीय विश्वविद्यालयों के लिए नामजद किए जा रहे हैं। डा. शुक्ला इस समय निजी विवि नियामक आयोग के अध्यक्ष हैं। राजभवन के सूत्रों के अनुसार उनकी इस तरह की नियुक्ति के लिए राजभवन से ही शासन को प्रस्ताव भेजा गया है।


 

Astrology
Click to listen..