--Advertisement--

जगदलपुर / वॉट्सएप ग्रुप्स का चुनावी ऑफर- सियासी खबरें फैलानी हैं तो जमा कराइए पैसे



Election Offer for Whatsapp Groups
X
Election Offer for Whatsapp Groups

  • सियासत की खबरों को लेकर शहर में चल रहे 12 से ज्यादा वॉट्सएप ग्रुप्स 
  • इनसे राजनैतिक दलों के साथ-साथ शहर के आम लोग भी जुड़े 
  • इन ग्रुप्स पर जिला प्रशासन की निगरानी नहीं, अफसरों ने कहा- हम जानकारी जुटाएंगे

Dainik Bhaskar

Oct 19, 2018, 03:39 PM IST

जगदलपुर.  छत्तीसगढ़ के जगदलपुर जिले में विधानसभा चुनाव के दौरान कुछ लोग सियासी वॉट्सएप ग्रुप्स बनाकर पैसा कमाने की तैयारी कर रहे हैं। इन ग्रुप्स से राजनीतिक दलों के साथ-साथ शहर के आम लोग जुड़े हैं। इनमें से कुछ पैसे लेकर सदस्यता दे रहे हैं।

 

इन ग्रुप्स को चलाने वाले अपने सदस्यों को राजनीति से जुड़ी हर खबर उपलब्ध कराना चाहते हैं। जगदलपुर में 6 अक्टूबर को ऐसा ही एक ग्रुप जगदलपुर टुडे (सियासत) बनाया गया है। 12 अक्टूबर से इस पर सदस्यता लेने वाले से एक तय शुल्क लिया जाएगा। इसका विरोध भी हो रहा है। लोगों का कहना है कि जब वॉट्सएप मुफ्त है तो इस पर ग्रुप बनाकर पैसा क्यों वसूला जा रहा है।

 

दो तरह से होगी कमाई: इन वॉट्सएप ग्रुप्स की दो तरह से कमाई करने की योजना है। पहली- अलग-अलग राजनीतिक पार्टियों के नेताओं और प्रत्याशियों के प्रचार से। ऐसा कहा जा रहा है कि इनसे ये ग्रुप्स 25 से 75 हजार शुल्क ले सकते हैं। दूसरी- ग्रुप्स से जोड़े गए सदस्यों से ढाई से तीन हजार रुपए चार्ज करके। सियासी हलचल ग्रुप के एडमिन संतोष उस्तान कहते हैं, "इसमें गलत क्या है? लोग अपनी मर्जी से सदस्यता ले रहे हैं।"

 

भास्कर ने कलेक्टर जगदलपुर के कलेक्टर डॉ. अयाज फकीरभाई तंबोली से पूछा तो उन्होंने कहा, "वॉट्सएप ग्रुप्स को लेकर कोई निर्देश नहीं हैं, हालांकि, ब्रॉडकास्ट मैसेज भेजने वालों को जिला प्रशासन से मंजूरी लेना जरूरी है।"

 

सदस्यता नहीं ली तो हटा दिए जाएंगे ग्रुप से : एक सियासी ग्रुप के एडमिन विकास दुग्गड़ ने इसे चुनाव से संबंधित पेड न्यूज बनाने और चुनाव के बाद इसे बंद करने की वकालत की।

 

एक पेड वॉट्सएप ग्रुप का स्क्रीन शॉट।

 

 

 

 

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..