तैयारी / चुनाव में हाथियों का खतरा, मोबाइल बैरिकेडिंग से बूथों की होगी घेराबंदी

Dainik Bhaskar

Oct 14, 2018, 12:48 AM IST



सिंबोलिक इमेज सिंबोलिक इमेज
X
सिंबोलिक इमेजसिंबोलिक इमेज

अंबिकापुर. सरगुजा सहित संभाग के पड़ोसी जिलों में आतंक मचा रहे उत्पाती हाथी भी इस बार प्रभावित इलाकों में विधानसभा चुनाव में बड़ी समस्या खड़ी कर सकते हैं। इसलिए पोलिंग बूथों पर निगरानी के लिए टीम तैयार की जा रही है। शांतिपूर्ण चुनाव के लिए इन क्षेत्रों में हाथियों के मूवमेंट पर नजर रखने के साथ बूथों की सुरक्षा के लिए इंतजाम करने को कहा गया है।

 

प्रभावित इलाकों में सौ से अधिक गांव केवल सरगुजा में हैं। जबकि पड़ोसी जिलों सूरजपुर, बलरामपुर के अलावा जशपुर और कोरिया के भी कई गांव हाथी प्रभावित हैं। सौ से अधिक हाथी इन इलाकों में डटे हैं। वन विभाग हाथियों से निपटने के लिए टीम तैयार कर रहा है।

 

इसमें हाथी मित्र दल के एक्सपर्ट भी शामिल किए जा रहे हैं। टीम को प्रभावित क्षेत्रों में तैनात किया जाएगा। जहां हाथियों की उपस्थिति का पता करने के बाद सुरक्षा के इंतजाम किए जाएंगे। जिन क्षेत्रों में हाथी रहेंगे वहां के बूथों को बैरिकेडिंग कर सुरक्षित किया जाएगा। मोबाइल टीम बैरिकेड्स लेकर साथ चलेगी।

 

जहां बैरिकेड नहीं लगे हैं। वहां विशेष जोर  दिया जा रहा है :  प्रभावित इलाकों में पेड़ों में मास्टर बैरिकेड लगाए जा रहे हैं, ताकि गांवों में हाथी घुस न सकें। अंबिकापुर डीएफओ प्रियंका पांडेय ने बताया कि प्रभावित इलाकों में निगरानी के लिए टीम बनाई जा रही है। अभी चुनाव में एक महीने का समय है और तब तक  तैयारी पूरी कर ली जाएगी। अभी दो हाथियों के रेडियो कॉलर लगे हैं।
 

COMMENT

किस पार्टी को मिलेंगी कितनी सीटें? अंदाज़ा लगाएँ और इनाम जीतें

  • पार्टी
  • 2019
  • 2014
336
60
147
  • Total
  • 0/543
  • 543
कॉन्टेस्ट में पार्टिसिपेट करने के लिए अपनी डिटेल्स भरें

पार्टिसिपेट करने के लिए धन्यवाद

Total count should be

543