छत्तीसगढ़ / शहीद कभी मरा नहीं करते... नक्सली हमले में एसपी की शहादत के 10 साल बाद भी सेवा में तैनात हैं 6 जवान, गाड़ी और बंगला भी



Even after 10 years of SP's martyrdom in the Maoist attack, 6 jawans, trains and bungalows are also stationed in service
X
Even after 10 years of SP's martyrdom in the Maoist attack, 6 jawans, trains and bungalows are also stationed in service

  • छत्तीसगढ़ के नक्सल आॅपरेशन में देश केे पहले शहीद एसपी विनोद कुमार चौबे को अनूठी श्रद्धांजलि
  • आज ही के दिन शहीद हुए एसपी वीके चौबे को कीर्ति चक्र मिला था
     

Dainik Bhaskar

Jul 12, 2019, 04:37 AM IST

सूरज यदु | राजनांदगांव . शहीद कभी मरा नहीं करते, वो अमर हो जाते हैं। इस कहावत को छत्तीसगढ़ पुलिस ने अपनी अनोखी श्रद्धांजलि से चरितार्थ किया है। बात हाे रही है 10 साल पहले राजनांदगांव जिले के घोर नक्सल प्रभावित इलाके मदनवाड़ा कोरकोट्‌टी में शहीद हुए एसपी वीके चौबे की। देश में ये पहला नक्सली हमला था, जिसमें कोई एसपी शहीद हुआ था। इस घटना में 29 जवान शहीद हुए थे।

 

छत्तीसगढ़ पुलिस ने एसपी के शहादत के 10 साल बीत जाने के बाद भी उनके रुतबे और मान को बरकरार रखा है। रायपुर देवेंद्र नगर के आफिसर्स कॉलोनी में मौजूद एसपी चौबे का बंगला डी 2/39 आज भी उनके नाम पर ही है। बंगले के बाहर नेम प्लेट पर आईपीएस विनोद कुमार चौबे उनके जीवनकाल की तरह अंकित है। बंगले पर 6 जवानों की तैनाती रहती है, जो उसी तरह सेवा दे रहे हैं, जैसे एसपी के रहते उन्हें दिया करते थे। उनके आॅफिस और गाड़ी को भी बिल्कुल वैसे ही रखा गया है। 


तत्कालीन डीजीपी विश्वरंजन ने ये फैसला लिया था और इसे शहीद चौबे के रिटायरमेंट की तारीख तक यथावत रखा जाएगा। एसपी चौबे अगर जीवित रहते, तो इस साल 22 सितंबर को रिटायर होते। लेकिन पुलिस विभाग ने उन्हें शहादत के बाद अमर माना और उन्हें सेवा काल के दौरान मिलने वाली गाड़ी, बंगले, गार्ड और जवानों की सुविधा को यथावत रखा। जवान रोज की तरह ड्यूटी पहुंचते हैं, ऑफिस की साफ-सफाई समय पर होती है। शहीद एसपी चौबे को भारत सरकार ने 18 मार्च 2011 को कीर्ति चक्र प्रदान किया था।

 

बारूदी सुरंग विस्फोट कर जवानों को घेरा था : 12 जुलाई 2009 को राजनांदगांव से 100 किमी दूर मानपुर के मदनवाड़ा में नक्सलियों ने दो जवानों को गाेली मार दी थी। सूचना पर एसपी चौबे जवानों को साथ लेकर तत्काल मौके के लिए रवाना हुए थे। लेकिन उनके पहुंचने से पहले ही कोरकोट्‌टी में नक्सलियों ने बारूदी सुरंग विस्फोट किया। इससे गाड़ी अनियंत्रित हो गई और मौका देख नक्सलियों ने सड़क की दोनों दिशाओं से गोलियां बरसानी शुरू कर दी। एसपी चौबे सहित 29 जवान हमले में शहीद हो गए थे।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना