--Advertisement--

छग / बस्तर में फोर्स ढूंढ रही 2 हजार बूथों के रास्ते में बिछी बारुदी सुरंग, 15 दिन में 110 से जगह मिले विस्फोटक



बस्तर में फोर्स। बस्तर में फोर्स।
X
बस्तर में फोर्स।बस्तर में फोर्स।

  • चुनाव के दिन डयूटी पर तैनात कर्मचारियों और सुरक्षा बलों को निशाना बना सकते हैं नक्सली 
  • बस्तर की 12 सीटों पर शांतिपूर्ण मतदान के लिए सुरक्षा बलों की 650 कंपनियां तैनात

Dainik Bhaskar

Nov 12, 2018, 05:23 AM IST

रायपुर (मोहम्मद निजाम / अमिताभ अरुण दुबे).   बस्तर में चुनाव के पहले सुरक्षा बल मतदान केंद्रों के रास्तों में दबी बारुदी सुरंगें और लैंडमाइन तलाश रहे हैं। 4 हजार से ज्यादा मतदान केंद्रों में 2 हजार को संवेदनशील घोषित किया गया है। इन्हीं में जहां इंटेलिजेंस का इनपुट है, उन मतदान केंद्रों तक पहुंचने वाले हर रास्ते में लैंड माइन और बारुदी सुरंग को ढूंढा जा रहा है। 15 दिन में 110 से ज्यादा रास्तों को खोदकर बारुद निकाला जा चुका है। खुफिया सूत्रों के मुताबिक, नक्सलियों ने मतदान के दिन केंद्र जाने वाले दलों को निशाना बनाने की साजिश की है।

 

बस्तर के नक्सली इलाकों में ज्यादातर मतदान केंद्रों को थानों के करीब रखा गया है। चुनाव के दिन मतदान सामग्री और मतदान दल थाने से ही बूथ भेजे जाएंगे। मतदान के लिए 650 कंपनियों को पूरे बस्तर में तैनात किया गया है। नक्सलियों से निपटने के लिए आधुनिक शस्त्र दिए गए हैं। अतिसंवेदनशील केंद्रों पर मतदान दल को पहुंचाने के लिए 12 से ज्यादा हेलिकॉप्टर उपलब्ध रहेंगे, जबकि दो दर्जन से ज्यादा बूथों तक पोलिंग पार्टियां बाइक, नाव से या पैदल ले जाई जाएंगी।


पहले चरण में 31.78 लाख वोटर : पहले चरण में करीब 31.78 लाख से ज्यादा मतदाता 190 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला करेंगे। राजनांदगांव की हाईप्रोफाइल सीट पर सबसे ज्यादा 30 उम्मीदवार हैं। 14 सीटों में महिला मतदाताओं की तादाद पुरुषों से ज्यादा है। कुल 15,57,109 पुरुष और 16,21,171 महिला मतदाता हैं। 


10 सीटों पर दोपहर 3 बजे तक ही वोटिंग: 18 में से 10 सीटों पर दोपहर 3 बजे तक वोट पड़ेंगे। ये सीटें मोहला-मानपुर, अंतागढ़, भानुप्रतापपुर, कांकेर, केशकाल, कोंडागांव, नारायणपुर, दंतेवाड़ा, बीजापुर और कोंटा हैं। वहीं, खैरागढ़, डोंगरगढ़ , खुज्जी, राजनांदगांव, डोंगरगांव, बस्तर, जगदलपुर और चित्रकोट में सुबह 8 बजे से 5 बजे तक वोटिंग होगी।

 

नक्सलियों की धमकी का कोई असर नहीं :  दंतेवाड़ा के डीआईजी रतनलाल डांगी ने कहा कि इस बार भी चुनाव पूरी तरह सफल रहेंगे। इसके लिए पूरी तैयारियां की गई हैं। जनता की लोकतंत्र में मजबूत आस्था है। नक्सलियों की धमकी का कोई असर नहीं होगा। लोग पहले से ज्यादा वोट के लिए आएंगे। 

 

 

 

 

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..