कोरोनावायरस का असर / चीन से दवा सप्लाई ठप; भारत में अप्रैल तक का स्टॉक बचा, निर्यात पर रोक संभव

भारत में एंटीबॉयोटिक्स, एंटी डायबिटिक, स्टेरॉयड, हॉर्मोन्स और विटामिन की दवाओं की कमी हो सकती है। भारत में एंटीबॉयोटिक्स, एंटी डायबिटिक, स्टेरॉयड, हॉर्मोन्स और विटामिन की दवाओं की कमी हो सकती है।
X
भारत में एंटीबॉयोटिक्स, एंटी डायबिटिक, स्टेरॉयड, हॉर्मोन्स और विटामिन की दवाओं की कमी हो सकती है।भारत में एंटीबॉयोटिक्स, एंटी डायबिटिक, स्टेरॉयड, हॉर्मोन्स और विटामिन की दवाओं की कमी हो सकती है।

  • भारत से अलग-अलग देशों में हर साल 1.3 लाख करोड़ रु. की दवा निर्यात की जाती है
  • अगले एक महीने में चीन से सप्लाई शुरू नहीं हुई तो गंभीर हालात पैदा हो सकते हैं

पवन कुमार

पवन कुमार

Feb 13, 2020, 09:34 AM IST

नई दिल्ली. चीन में फैले कोरोनावायरस की वजह से भारत में दवाओं का गंभीर संकट पैदा हो सकता है। भारत के पास अप्रैल तक का दवा स्टाॅक बचा है। दवाओं की कीमत न बढ़े और इस स्थिति से कैसे निपटा जाए, इसके लिए सरकार ने एक उच्च स्तरीय कमेटी गठित की है। इसमें 8 अहम तकनीकी विभागों के विशेषज्ञ शामिल किए गए हैं। कमेटी ने एक प्राथमिक रिपोर्ट भी सरकार को सौंप दी है। इसमें कहा गया है कि अगले एक महीने में चीन से सप्लाई शुरू नहीं हुई तो गंभीर हालात पैदा हो सकते हैं। भारत में चीन से 80% एपीआई (दवा बनाने का कच्चा माल) आता है। चीन से करीब 57 तरह के मॉलिक्यूल्स आते हैं। 19 तरह के कच्चे माल के लिए भारत पूरी तरह से चीन पर ही निर्भर है। 

वायरस फैलने के बाद चीन में उत्पादन बंद हुआ

चीन में जनवरी में छुटि्टयां थीं, इसलिए कच्चा माल कम आया था। उसके बाद वायरस फैल गया और चीन में उत्पादन तत्काल रोक दिया गया। इस वजह से सप्लाई एक महीने से ठप है। वहां स्थिति सामान्य होने के बाद जब उद्योग शुरू होंगे तो समुद्री रास्ते से भारत तक दवा पहुंचने में कम से कम 20 दिन लगेंगे।

दूसरे देशों पर भी इसका प्रभाव

इस स्थिति को देखते हुए उच्चस्तरीय सूत्र कह रहे हैं कि सरकार दवाओं के निर्यात पर रोक लगा सकती है। भारत से अलग-अलग देशों में हर साल 1.3 लाख करोड़ रु. की दवा निर्यात की जाती है। देश में कुल ढाई लाख करोड़ रु. का दवा कारोबार है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि यदि चीन में हालात नहीं सुधरे तो भारत में एंटीबॉयोटिक्स, एंटी डायबिटिक, स्टेरॉयड, हॉर्मोन्स और विटामिन की दवाओं की कमी हो सकती है। न सिर्फ भारत, बल्कि विश्व के कई दूसरे देशों में भी चीन से ही एपीआई मंगाई जाती है। इसलिए समस्या और गंभीर हो सकती है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना