• Hindi News
  • Chhattisgarh
  • Raipur
  • Inspection by becoming CS in Ambedkar Hospital, DME asks Superintendent for information about the dispute, will be investigated

भास्कर खास / अंबेडकर अस्पताल में सीएस बनकर निरीक्षण, डीएमई ने अधीक्षक से विवाद की जानकारी मांगी, होगी जांच

Inspection by becoming CS in Ambedkar Hospital, DME asks Superintendent for information about the dispute, will be investigated
X
Inspection by becoming CS in Ambedkar Hospital, DME asks Superintendent for information about the dispute, will be investigated

  • स्वास्थ्य विभाग के आला अफसर भी घटनाक्रम से चकित

Dainik Bhaskar

Dec 12, 2019, 02:17 AM IST

रायपुर . अंबेडकर अस्पताल में डिप्टी डायरेक्टर के कथित तौर मुख्य सचिव बनकर निरीक्षण करने को लेकर उपजा विवाद संचालनालय तक पहुंच गया है। स्वास्थ्य विभाग के आला अफसरों ने हालांकि चुप्पी साध ली है, लेकिन पूरे घटनाक्रम को लेकर बड़ी कार्रवाई के आसार हैं। चिकित्सा शिक्षा संचालक ने भी अंबेडकर अस्पताल के अधीक्षक को चिट्‌ठी लिखकर पूरे विवाद का ब्योरा मांगा है। अस्पताल अधीक्षक हालांकि संचालक को पत्र लिखकर डिप्टी डायरेक्टर के बर्ताव की शिकायत कर चुके हैं। 


अस्पताल अधीक्षक डॉ. विवेक चौधरी ने डीएमई को पत्र लिखकर बताया है कि अधिकारी बिना लिखित सूचना अस्पताल का निरीक्षण करने पहुंच गए थे। यही नहीं डाॅ. शर्मा नेे उनके, उप अधीक्षक व बाकी स्टाफ के बारे में प्रतिकूल टिप्पणी भी की। उनकी टिप्पणी निजी थी थी। निजी जीवन पर टिप्पणी करना उचित नहीं है। अधीक्षक की चिट्‌ठी के बाद इस पूरे मामले में आगे कड़ी कार्रवाई के आसार हैं। स्वास्थ्य विभाग के आला अफसर खुद पूरे घटनाक्रम की समीक्षा कर रहे हैं। गोपनीय तौर पर आला अफसर जानकारी ले रहे हैं। विवाद की वजह से कथित तौर पर खुद को मुख्य सचिव बताने वाले अफसर और उनकी टीम ने बुधवार को अस्पताल का दौरा नहीं किया। उन्होंने लगातार एक सप्ताह तक अस्पताल का निरीक्षण करने की बात कही थी।

डीन से कलेक्टर का दुर्व्यवहार शिकायत के बाद हटाए 
पिछले माह अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज के डीन डाॅ. विष्णु दत्त से वहां के कलेक्टर डॉ. सारांश मित्तर ने दुर्व्यवहार किया था। कलेक्टर की शिकायत के बाद डीन को हटाकर डीएमई कार्यालय में अटैच किया गया है। मामले को लेकर मेडिकल टीचर एसोसिएशन ने राज्यपाल व स्वास्थ्य मंत्री से शिकायत की थी, लेकिन कलेक्टर के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई। मामले में आईएमए ने भी डीन से दुर्व्यवहार की निंदा की थी। अस्पताल व कॉलेज में यही चर्चा है कि अंबिकापुर जैसे शहर में कलेक्टर डीन से दुर्व्यवहार कर उन्हें हटा भी सकते हैं, लेकिन यह राजधानी है।
 यहां डॉक्टर व स्टाफ से बदतमीजी बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना