महाभारत छत्तीसगढ़ / सैटलमेंट की कोशिश... सरकार बनी तो हाउसिंग बोर्ड का अध्यक्ष

Dainik Bhaskar

Oct 13, 2018, 10:47 AM IST



प्रतीकात्मक फोटो। प्रतीकात्मक फोटो।
X
प्रतीकात्मक फोटो।प्रतीकात्मक फोटो।

एक कद्दावर नेता पहली बार बेचैन हैं। बेचैनी का आलम इस तरह समझ सकते हैं कि सीट बदलने के लिए एक नेताजी से सैटलमेंट की कोशिश की, लेकिन नेताजी ने निर्दलीय चुनाव लड़कर उल्टे दस हजार वोट काटने की धमकी दे डाली। अब नई खबर यह है कि कद्दावर नेताजी ने अपने पुराने करीबी के पास पार्टी में लौटने का प्रस्ताव भेजा है। सरकार बनने पर गृह निर्माण मंडल के अध्यक्ष का ऑफर है। गृह निर्माण मंडल यानी सरकार का सबसे बड़ा उद्यम। लालबत्ती। बंगला-गाड़ी। और मंत्री का दर्जा भी। दरअसल, करीबी के पास समाज के आठ हजार वोट हैं। इन वोटों का नेताजी की जीत में अहम योगदान होता था, लेकिन इस बार करीबी ही चुनौती दे रहा है। इतने बड़े ऑफर से आप समझ सकते हैं कि करीबी की क्या कीमत है? 

COMMENT