छत्तीसगढ़ / शराबबंदी पर मंत्री लखमा का विवादित बयान- बोले, आदिवासी शराब पीकर खुश रहते हैं

कवासी लखमा, आबकारी मंत्री कवासी लखमा, आबकारी मंत्री
X
कवासी लखमा, आबकारी मंत्रीकवासी लखमा, आबकारी मंत्री

  • आबकारी मंत्री कवासी लखमा ने  कहा- गृहग्राम में फिर शुरू करेंगे भैंस की बलि प्रथा
  • कांग्रेस सरकार ने सत्ता में आने से पहले चुनाव के दौरान प्रदेश में शराबबंदी को लेकर किया था वादा

दैनिक भास्कर

Oct 19, 2019, 03:38 PM IST

जगदलपुर. प्रदेश सरकार के शराबबंदी के वादे पर आबकारी मंत्री ने विवादित बयान दिया है। अक्सर बयानों के कारण चर्चा में रहने वाले प्रदेश के आबकारी मंत्री कवासी लखमा ने कहा है कि बस्तर के आदिवासी शराब पीकर खुश रहते हैं और सरकार ने शराबबंदी का वादा कर दिया था। आबकारी मंत्री ने भैंसे की बलि देने की प्रथा फिर से शुरू करने की भी बात कही।

पुलिस और नक्सलियों के बीच फंसे हैं बस्तर के आदिवासी

दरअसल, लोगों के हंगामे और जगह-जगह हो रहे प्रदर्शन को देखते हुए विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस ने सत्ता में आने पर शराबबंदी का वादा किया था। हालांकि, सरकार के नौ माह बीतने के बावजूद अभी तक इस दिशा में कुछ खास कदम नहीं उठाए गए हैं। इसके चलते सरकार लगातार विपक्ष के निशाने पर है। ऐसे में अब आबकारी मंत्री का बयान काफी चौंकाने वाला है। मीडिया से बात करते हुए आबकारी मंत्री कवासी लखमा ने कहा कि बस्तर के आदिवासी शराब पीकर खुश रहते हैं।

आबकारी मंत्री कवासी लखमा ने कहा कि बस्तर के आदिवासी परेशान हैं। यहां के लोग पुलिस और नक्सलियों के बीच फंसे हुए हैं। उन्होंने ग्रामीणों को आश्वासन भी दिया कि, वे अपने गृहग्राम नागारास में भैंस की बलि प्रथा को एक बार फिर से प्रारंभ करवाएंगे। यह पहली बार नहीं है जब मंत्री कवासी लखमा का विवादित बयान सामने आया है। इससे पहले भी स्कूली बच्चों को नेता बनने का रास्ता बताने के दौरान एसपी और कलेक्टर का कॉलर पकड़ेने की सलाह दी थी।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना