छत्तीसगढ़ / बिना बैंड के ही प्रदेशभर के खिलाड़ियों ने किया मार्चपास्ट, कई बिना जूतों के दौड़े

राज्यस्तरीय स्कूल खेल प्रतियोगिता में दौड़ के दौरान कई बच्चे बिना जूतों के ही दौड़े राज्यस्तरीय स्कूल खेल प्रतियोगिता में दौड़ के दौरान कई बच्चे बिना जूतों के ही दौड़े
X
राज्यस्तरीय स्कूल खेल प्रतियोगिता में दौड़ के दौरान कई बच्चे बिना जूतों के ही दौड़ेराज्यस्तरीय स्कूल खेल प्रतियोगिता में दौड़ के दौरान कई बच्चे बिना जूतों के ही दौड़े

  • 19वां राज्यस्तरीय शालेय खेल : हर बार पाहुरबेल या दीप्ति कॉन्वेंट से बुलवाते थे बैंड, इस साल मिले ही नहीं 
  • 3 नवंबर तक चलेंगी प्रतियोगिताएं पहले दिन एथलेटिक्स, डॉज बॉल नेटबॉल के खेल आयोजित किए गए 

दैनिक भास्कर

Nov 01, 2019, 12:07 PM IST

जगदलपुर. इंदिरा प्रियदर्शिनी स्टेडियम में गुरूवार से 19वीं राज्यस्तरीय शालेय खेल प्रतियोगिता की शुरुआत हुई। इस दौरान उद्घाटन समारोह में 12 जोन से आए बच्चों ने मार्चपास्ट किया। बच्चों ने मार्चपास्ट बिना बैंड के किया। जबकि कायदे से मार्चपास्ट में बैंड जरूरी तौर पर शामिल किया जाता रहा है। मोबाइल पर बैंड की धुन को माइक पर लगाकर मार्चपास्ट करवाया गया। अब तक हुए खेल आयोजनों में मार्चपास्ट के लिए पाहुरबेल स्थित निजी स्कूल या दीप्ति कॉन्वेंट स्कूल के बैंड को बुलाया जाता था।

दौड़ने के लिए जूते मिले नहीं, लेकिन सांसद ने चित्रकोट जलप्रपात दिखाने का दिया आश्वासन

खेल स्पर्धाओं का उद्घाटन मुख्य अतिथि रहे सांसद दीपक बैज ने ध्वजारोहण कर किया। इसके बाद मार्चपास्ट की उन्होंने सलामी भी ली। उन्होंने खेल भावना से खेलने के लिए बच्चों को प्रेरित किया। वहीं विधायक रेखचंद जैन और राजमन बेंजाम ने भी अपनी बात रखी। इसके साथ ही सांसद बैज ने स्पर्धाओं के समापन के बाद सभी बच्चों को चित्रकोट जलप्रपात दिखाने की बात कही, जिस पर बच्चों ने भी खुशी जाहिर की। 

राज्यस्तरीय खेलों में शामिल हाेने आए कई खिलाड़ियों को जूते तक नहीं मिल सके। पहले दिन हुई दौड़ के दौरान देखा गया कि कई खिलाड़ी नंगे पांव ही खेल में शामिल हुए। खिलाड़ियों ने बताया कि उन्हें अपने जिले से ही जूते नहीं मिले। जबकि बस्तर को अगर मेजबानी मिली है तो खिलाड़ियों के पास व्यवस्था नहीं होने पर प्रशासन को जूतों की व्यवस्था करके देनी थी। ऐसे में बच्चे दौड़ के साथ ही अन्य खेलों में भी बिना जूतों के ही शामिल हुए। 

खेल स्पर्धाओं की शुरूआत एथलेटिक्स से हुई, जिसमें 600 मीटर और डेढ़ हजार मीटर दौड़ करवाई गई। मिली जानकारी के अनुसा बताया जा रहा है कि इसके पहले बच्चों को राष्ट्रीय एकता दिवस पर एकता की शपथ दिलवाई गई, वहीं आयोजन में खेल भावना से खेलने डॉज बॉल की राष्ट्रीय खिलाड़ी द्रौपदी भवानी ने खिलाड़ियों को शपथ दिलाई। 

पहले दिन एथलेटिक्स में 600 मीटर और डेढ़ हजार मीटर दौड़ के मुकाबले हुए, जिसमें 600 मीटर बालक वर्ग 14 वर्ष में बस्तर के अनिल तामो प्रथम, सोमारूराम द्वितीय और कांकेर के अर्जुन कवासी तृतीय स्थान पर रहे, जबकि बालिका वर्ग में बस्तर की प्रमिला मंडावी ने पहला, कोरिया की सोनिका रजवाड़े ने दूसरा और सरगुजा की संजू लकड़ा ने तीसरा स्थान हासिल किया।

डेढ़ हजार मीटर दौड़ बालग वर्ग जूनियर में बिलासपुर के सुलेमान खान पहले, कबीरधाम के फागूराम मंडावी दूसरे, बस्तर के राहुल कुमार तीसरे, बालिका वर्ग में बस्तर की सुनीता कुहरामी पहले, प्रमिला मंडावी दूसरे और बिलासपुर की मंजू साहू तीसरे स्थान पर रहीं। 19 वर्ष बालक वर्ग में दुर्ग के मुकेश कुमार साहू ने प्रथम, जांजगीर के चंद्रप्रकाश दूसरे और राजनांदगांव के अजित कुमार तीसरे व बालिका वर्ग में दुर्ग की तेजेश्वरी प्रथम, राजनांदगांव की रजिता यादव द्वितीय और कोरिया की संगीता सिंह तीसरे स्थान पर रहीं। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना