छत्तीसगढ़ / जेटली और भूपेश के बीच ट्विटर पर वार



Jaitley and Bhupesh war on Twitter
X
Jaitley and Bhupesh war on Twitter

  • छत्तीसगढ़ विस चुनाव में कांग्रेस ने माओवादियों से गठबंधन किया : जेटली
  • झीरम का नाम तो सुना ही होगा, सुपारी किलिंग भूल गए क्या : भूपेश

Dainik Bhaskar

Feb 12, 2019, 01:05 AM IST

रायपुर. इलाज कराकर अमेरिका से लौटे केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली के एक ट्वीट से प्रदेश में राजनीति गरमा गई। जेटली ने रविवार को विधानसभा चुनाव नतीजों को लेकर ट्वीट किया- चुनाव में कांग्रेस ने माओवादियों से गठबंधन किया। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सोमवार को इस पर पलटवार करते हुए ट्वीट किया कि हमारा गठजोड़ प्रदेश के किसानों, आदिवासियों और युवाओं से है।

 

इसके बाद प्रदेश भाजपा और कांग्रेस आमने-सामने आ गए। भाजपा ने सोमवार शाम जवाबी हमले के ट्वीट किया- कांग्रेस का हाथ नक्सलियों,  देशद्रोहियों के साथ। तभी तो अर्बन नक्सलियों के साथ कांग्रेस नेताओं के संबंध उजागर होते हैं। जवानों पर गोलियां दागने वाले नक्सली क्रांतिकारी नजर आते हैं।  उन्हें शर्म भी नहीं आती जो सच छुपाने के लिए झीरम के मृतकों पर राजनीति करने लगते हैं।


वहीं, कांग्रेस प्रदेश महामंत्री शैलेष नितिन त्रिवेदी ने कहा कि देश में माओवाद का सबसे बड़ा शिकार कांग्रेस हुई और न्याय की गुहार लगाती रही। हमारे जख्मों पर मरहम लगाने के बजाय जेटली उल्टे उन्हें कुरेद नमक मिर्च लगा रहे हैं।

 

जेटली का ट्वीट
 

हाल के छत्तीसगढ़ चुनावों में कांग्रेस ने माओवादियों के साथ गठबंधन किया। राहुल गांधी जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय की ‘टुकड़े-टुकड़े’ गैंग के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े थे। कोर्ट में शहरी नक्सलियों का बचाव करने में कांग्रेस सबसे आगे थी।

 

भूपेश का जवाबी ट्वीट
 

ब्लॉग मंत्री जेटली जी! झीरम का नाम तो सुना ही होगा? 2013 में चुनाव से पहले नक्सलियों के सहयोग से हुई सुपारी किलिंग क्या भूल गए। हमारे सभी नेताओं का नाम पूछ पूछ कर नक्सलियों ने उन्हें मारा था। 31 कांग्रेस नेता शहीद हुए थे। और हम पर गठजोड़ का निहायत बेहुदा, बेतुका और बेबुनियाद आरोप लगा रहे हैं? कांग्रेस का गठजोड़ छग के किसानों, आदिवासियों, महिलाओं और युवाओं से है। छत्तीसगढ़ की जनता और लोकतंत्र का तो अपमान न करें साहेब। बाकी गेट वेल सून।

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना