छत्तीसगढ़  / बीएसएफ और नक्सलियों में मुठभेड़ में एक जवान शहीद, दो घायल



फाइल फोटो फाइल फोटो
X
फाइल फोटोफाइल फोटो

  • पंखाजूर से 35 किमी दूर मोहल्ला के जंगल में सर्चिंग पर निकले जवानों पर नक्सलियों ने किया हमला
  • घायल जवानों को जिला अस्पताल में कराया गया भर्ती, बैकअप के लिए मौके पर टीम रवाना 

Dainik Bhaskar

Apr 04, 2019, 02:17 PM IST

कांकेर. छत्तीसगढ़ में कांकेर जिले के पंखाजूर में गुरुवार को नक्सलियों ने बीएसएफ की सर्चिंग टीम पर घात लगाकर हमला किया, इसमें एक एएसआई समेत चार जवान शहीद हो गए। दो जवान जख्मी हुए हैं। बस्तर का यह इलाका महाराष्ट्र बॉर्डर से लगा है। 

 

एंटी नक्सल ऑपरेशन के डीआईजी सुंदराज पी ने बताया कि गुरुवार सुबह नक्सलियों की लोकेशन मिलने पर बीएसएफ-114 बटालियन के जवान सर्चिंग पर निकले थे। पंखाजूर से करीब 35 किमी दूर प्रतापुर थाना क्षेत्र में मोहला के जंगलों में उन पर घात लगाकर हमला किया गया। इसमें एक जवान ई रामकृष्णन की मौके पर ही मौत हो गई। बाद में तीन और जवान एएसआई बोरो, सोमेश्वर और इसरार खान ने पखांजूर के अस्पताल में दम तोड़ दिया।

 

चुनाव का बहिष्कार कर रहे नक्सली
18 अप्रैल को दूसरे चरण में कांकेर में मतदान होना है। कुछ दिन पहले ही नक्सलियों ने पर्चे फेंककर चुनाव का विरोध किया था। लोगों को मतदान न करने की धमकी भी दी थी।

 

बीएसएफ जवानों पर छह महीने में तीसरा हमला

विधानसभा चुनाव के लिए ड्यूटी पर जा रहे बीएसएफ जवानों पर 11 नवंबर को हमला किया गया था। इसमें एसआई महेंद्र कुमार शहीद हो गए थे। 14 नवंबर को मतदान कराकर लौट रहे जवानों पर भी हमला किया गया। हालांकि, इसे नाकाम कर दिया गया था।

नक्सलियों ने पर्चे फेंककर दी थी चुनाव बहिष्कार की धमकी

  1. गुरुवार सुबह नक्सलियों की लोकेशन मिलने पर बीएसएफ 114 बटालियन के जवान पंखाजूर से करीब 35 किमी दूर प्रतापुर थाना क्षेत्र में मोहल्ला के जंगलों में सर्चिंग के लिए निकले थे, तभी घात लगाए नक्सलियों ने उन पर हमला कर दिया। इसमें एक जवान ई रामकृष्णन मौके पर शहीद हो गए हैं, जबकि तीन जख्मी हो गए। मुठभेड़ में घायल जवानों को उपचार के लिए पंखाजूर के जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। 

  2. उपचार के दौरान घायल जवानों की भी मौत हाे गई। इसके चलते एएसआई सहित तीन जवान शहीद हो गए। मौके पर बैकअप टीम को भेजा गया है। एंटी नक्सल ऑपरेशन के डीआईजी सुंदराज पी ने घटना की पुष्टि की है। दरअसल, 18 अप्रैल को दूसरे चरण में कांकेर मतदान होना है। ऐसे में अभी कुछ दिन पहले ही नक्सलियों ने पर्चे फेंक चुनाव का विरोध किया था। साथ ही लोगों को मतदान न करने के लिए धमकी भी दी थी। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना