--Advertisement--

एजुकेशन / रिसर्च में कमजोर महंत कॉलेज, नैक की टीम भड़की, कहा- शोध से नहीं जुड़ना गलती नहीं बल्कि गुनाह है



Mahant College in  Weak  Research
X
Mahant College in  Weak  Research

  • छात्रों का रिजल्ट, बुक बैंक समेत बिंदुओं पर मिली तारीफ

Dainik Bhaskar

Oct 12, 2018, 10:43 PM IST

रायपुर. नेशनल एसेसमेंट एंड एक्रीडिटेशन काउंसिल (नैक) की टीम शुक्रवार को महंत कॉलेज के निरीक्षण के दौरान रिसर्च पेपर और प्रोजेक्ट को लेकर नाराज हुई। कॉलेज के मूल्यांकन के लिए पहुंची टीम के सदस्य ये देखकर हैरान रह गए कि कॉलेज में रिसर्च पर कोई काम नहीं हो रहा है।

 

पिछले चार-पांच साल में रिसर्च पर क्या और कितना काम हुआ? कॉलेज प्रबंधन नैक की टीम के सामने इस संबंध में एक भी पेपर पेश नहीं कर सका। इससे नाराज नैक टीम के सदस्यों ने ये तक कह  दिया कि- रिसर्च से नहीं जुड़ना गलती नहीं बल्कि गुनाह है।

 
टीम सदस्यों ने कई तरह की कड़ी टिप्पणी की। उन्होंने कहा कि कॉलेज में रिसर्च का माहौल नहीं होना, शिक्षकों का रुझान कम होना, रिसर्च पेपर और प्रोजेक्ट का नहीं होना, ये बताता है कि यहां रिसर्च को लेकर गलती नहीं हो रही बल्कि गुनाह किया जा रहा है। रिसर्च के  बिना कॉलेज या यूनिवर्सिटी में पढ़ाई अधूरी है। निरीक्षण के बाद तीन सदस्यीय टीम ने एक रिपोर्ट कॉलेज प्रबंधन को सौंपी  है।

 

माना जा रहा है कि अगले महीने तक ये स्पष्ट हो  जाएगा कि नैक की टीम ने कॉलेज को कौन से ग्रेड का माना है। राजधानी में अभी एक भी कॉलेज के पास ए प्लप्लस या फिर ए ग्रेड नहीं है। दरअसल ज्यादातर कॉलेजों ने मूल्यांकन के लिए निरीक्षण ही नहीं करवाया है। उच्च शिक्षा विभाग और पं.रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय के लगातार दबाव के बाद अब कॉलेज प्रबंधन मूल्यांकन में दिलचस्पी ले रहे हैं। इसी कड़ी में महंत कॉलेज ने नैक को मूल्यांकन के लिए आवेदन किया था। 

 

नैक की टीम उसी के बाद यहां आई। दो दिनों तक टीम ने कॉलेज का मूल्यांकन किया। चर्चा है कि कुछ बिंदुओं में कॉलेज का पक्ष मजबूत रहा। छात्रों का रिजल्ट, पढ़ाई, बुक बैंक, ग्रीन सोलर सिस्टम सहित कुछ सुविधाओं को लेकर कॉलेज प्रबंधन को खासी तारीफ भी मिली है। केवल रिसर्च, कॉलेज ग्राउंड व भवन सहित इंफ्रास्ट्रक्चर से जुड़े कुछ बिंदुओं पर ही कमजोरी सामने आयी है। लाइब्रेरी को लेकर भी टीम ने कुछ सुझाव दिए हैं।

 

नैक टीम के सदस्यों ने कहा कि लाइब्रेरी में छात्रों को किताब दिए जाने की संख्या दो से बढ़ाया जाना बेहतर होगा। छात्रों को लाइब्रेरी के मामले में अन्य सुविधा भी दी जानी चाहिए। इस मामले में कॉलेज के अधिकारियों का कहना है कि नैक से जो भी सुझाव मिले हैं उसे अमल में लाना जल्द शुरू किया जाएगा। रिसर्च के मामले में टिप्पणी की गई है। इस पर विशेष ध्यान दिया जाएगा।
 

नैक की लिस्ट में अब महंत कॉलेज भी शामिल हो गया है। ऐसा पहली बार हुआ है जब राजधानी के इस पुराने कॉलेज की ग्रेडिंग हो रही है। इससे पहले तक नैक की लिस्ट में रविवि से जुड़े सिर्फ 16 कॉलेज ही शामिल थे। इनके पास ही ग्रेडिंग है, जबकि कॉलेजों की संख्या करीब 130 है।

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..