भास्कर एक्सक्लूसिव / मंत्री जयसिंह की केंद्र को चेतावनी- धान नहीं खरीदोगे तो कोयला रोक देंगे



Minister Jaising's warning to the Center - If you do not buy paddy, we will stop coal
X
Minister Jaising's warning to the Center - If you do not buy paddy, we will stop coal

  • आर्थिक नाकेबंदी की धमकी के बाद 13 को दिल्ली कूच की तैयारी
     

Dainik Bhaskar

Nov 09, 2019, 12:28 AM IST

रायपुर . केन्द्र सरकार द्वारा सेंट्रल पुल में चावल नहीं खरीदे जाने की घोषणा के बाद केन्द्र आैर राज्य सरकार के बीच टकराव बढ़ने लगा है। छत्तीसगढ़ के राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि केन्द्र हमारा चावल नहीं लेगा तो हम कोरबा से जाने वाला कोयला भी रोक देंगे। यदि कोरबा का कोयला रोका तो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के प्रदेश गुजरात समेत एमपी, महाराष्ट्र, गुजरात आैर गोवा में ब्लैक आउट हो जाएगा। 


राजीव भवन में अग्रवाल ने कहा कि जरूरत पड़ी तो राज्य सरकार आर्थिक नाकेबंदी करने के लिए मजबूर होगी। उन्होंने कहा कि जब दो साल तक नियमों को शिथिल किया गया था तो फिर अब क्यों केन्द्र चावल लेने से मना कर रहा है। केन्द्र सरकार ने छत्तीसगढ़ सरकार से यह कहते हुए सेंट्रल पुल में चावल लेने से मना कर दिया है कि यहां के किसानोें का धान का बोनस दिया जा रहा है। लेकिन छत्तीसगढ़ सरकार की आेर से लगातार केन्द्र सरकार से 24 लाख मीट्रिक टन चावल सेंट्रल पुल में लेने की मांग की जा रही है। इसी बीच छत्तीसगढ़ सरकार आैर कांग्रेस संगठन द्वारा 13 नवंबर को 500 से ज्यादा गाड़ियों के काफिले के साथ दिल्ली जाने की तैयारी की जा रही है। इसमें किसानों द्वारा हस्ताक्षर किए गए लगभग 20 लाख पत्र दिल्ली ले जाया जाएगा।

 

गुजरात, महाराष्ट्र और गोवा के बड़े हिस्से में ब्लैकआउट का खतरा

अग्रवाल की चेतावनी इसलिए भी महत्वपूर्ण मानी जा रही है क्योंकि यदि कोरबा में सालाना 130 मिलियन टन कोयले का उत्पादन होता है। यहां के काेयले से कोरबा का एनटीपीसी आैर बिलासपुर का सीपत सीधे प्रभावित होगा क्योंकि यहां पर आैर कहीं दूसरे राज्य से कोयला नहीं आता आैर सबसे आश्चर्य की बात यह है कि इन दोनों बड़ी कंपनियों के बाद सिर्फ दो से तीन दिन का काेयला ही शेष है। इनमें एनटीपीसी से 2600 मेगावाट आैर सीपत से 2980 मेगावाट बिजली पैदा होती है। इन दोनों प्लांट से मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, गोवा आैर गुजरात में बिजली जाती है। वहीं इसके अलावा महाराष्ट्र बिजली बोर्ड, गुजरात बिजली बोर्ड, राजस्थान बिजली बोर्ड का बड़ा लिंकेज कोरबा की कोयला खदानों से है। इन राज्यों के पावर प्लांट को भी कोयला संकट का सामना करना पड़ेगा। इसके अलावा कई राज्यों के निजी कंपनियों के पास भी कोरबा का कोयला जाता है।

 

सिर्फ सायलो ही रोका तो मच जाएगा हड़कंप, 40 रैक रोज 
भास्कर ने अपने पड़ताल में पाया कि गेवरा, दीपका खदान से रोज रैक लगता है जिसे सायलो कहते हैं। काेयले की सप्लाई रोकना तो बहुत बड़ी बात हो जाएगी यदि सिर्फ रोज छूटने वाले सायलो को ही रोक देंगे तो हड़कंप मच जाएगा। क्योंकि यहां से रोज 40 रेक कोयला देश के अलग-अलग हिस्सों में जाता है। इनमें एक रैक में तीन हजार टन कोयला होता है। इसके अलावा सड़क मार्ग से काेयले की सप्लाई अलग होती है। 

 

500 गाड़ियों के काफिले के साथ 13 को दिल्ली कूच 
12 तारीख तक प्रदेश भर में प्रदर्शन और किसानों से पीएम मोदी के नाम लिखी गई चिट्‌ठी पर हस्ताक्षर करवाने के बाद 13 नवंबर को छत्तीसगढ़ कांग्रेस के नेता दिल्ली के लिए कूच करेंगे। लगभग 500 गाड़ियों के काफिले में सबसे आगे किसानों की चिट्‌ठियों से भरा ट्रक और सीएम भूपेश बघेल होंगे।

 

25 सौ रुपए में ही खरीदेंगे किसानों से धान: अकबर
इधर मंत्री मोहम्मद अकबर ने कहा कि हम केन्द्र से 24 लाख मीट्रक टन चावल सेंट्रल पुल में लेने का आग्रह कर रहे हैं। वहीं दूसरी आेर हमारे दिल्ली जाने का कार्यक्रम भी यथावत है। उन्होने कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा धान का समर्थन मूल्य 1815 आैर 1835 रुपए ही निर्धारित किया गया है। छत्तीसगढ़ सरकार किसानों से हर हालत में 25 सौ रुपए प्रति क्विंटल की दर से ही धान खरीदेगी। अकबर ने कहा कि यदि केन्द्र सरकार राज्य का आग्रह नहीं मानती है सरकार ने ए से लेकर जेड तक विकल्प तैयार कर लिए हैं।

 

चावल खरीदें नहीं ताे परिणाम गंभीर हाेंगे
 मोदी सरकार से दोनों हाथ जोड़कर आग्रह कर रहे हैं कि वे छत्तीसगढ़ का चावल खरीद लें। अगर ऐसा नहीं हुआ तो परिणाम गंभीर होंगे। - भक्त चरण दास, राष्ट्रीय प्रवक्ता व पर्यवेक्षक, कांग्रेस
 

सीएम को भ्रम है कि वे पीएम को झुका देंगे 
सीएम बघेल की जिद है कि वे पीएम मोदी को झुका देंगे तो यह उनका भ्रम है। केंद्र की पॉलिसी सभी को ध्यान में रखकर बनती है। मोदी ने सोच समझकर पॉलिसी बनाई है। - रेणुका सिंह, केंद्रीय राज्य मंत्री

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना