--Advertisement--

छत्तीसगढ़ / इंद्रावती नदी पार के गांवों में नक्सलियों का डेरा, ड्रोन देख भागते नजर आए

Dainik Bhaskar

Nov 11, 2018, 02:20 AM IST


Naxal camp
X
Naxal camp

  • कौशलनार, तुमरीगुंडा में 8 से 10 हथियारबंद नक्सलियों की मौजूदगी मिली

दंतेवाड़ा . 12 नवंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव को प्रभावित करने नक्सली लगातार रणनीति बना रहे हैं। इसके साथ ही बनाई जा रही रणनीति को अंजाम तक पहुंचाने की कोशिश में भी वे लगे हुए हैं। 
इंद्रावती नदी पार के गांवों में इन दिनों हथियारबंद नक्सलियों का डेरा लगा होने की सूचना है।

 

यहां हर दिन नक्सली ग्रामीणों को वोट नहीं देने की धमकी दे रहे हैं। वजह यही बताई जा रही है कि अधिकांश ग्रामीण गांव छोड़ने पर मजबूर हैं। शांतिपूर्ण मतदान कराने पुलिस भी लगातार प्रयासरत हैं। जगह-जगह 70 कंपनियों के 7000 जवानों की तैनाती की गई है। पुलिस ड्रोन कैमरे से भी आसपास के इलाकों की नजर रख रही है।

नक्सलियों के इंद्रावती नदी पार के गावों में डेरे की खबर के बाद पुलिस ने ड्रोन से वीडियोग्राफी कराई, जिसमें कौशलनार, तुमरीगुंडा इलाके में करीब 8 से 10 की संख्या में हथियारबंद वर्दीधारी नक्सली देखे गए। जैसे ही ड्रोन को यहां उड़ाया गया, ये नक्सली इसे देख छिप गए। यहां नक्सल मौजूदगी की खबर जैसे ही पुलिस को लगी, सतर्कता और बढ़ा दी गई है। नदी पार के गांवों के शिफ्ट हुए पोलिंग बूथ में जाने वाले सुरक्षाकर्मियों को अलर्ट किया है। एसपी डॉ. अभिषेक पल्लव ने बताया कि कुछ गांवों में नक्सली बैठक ले रहे हैं। सूचना मिल रही हैं। 

 

पिछले चुनाव में तो डुबा दी थी डोंगी : पोलिंग बूथ तक आने ग्रामीणों को नदी पार करनी होगी। नदी पार करने ग्रामीण डोंगी का सहारा लेते हैं। साल 2013 में हुए विधानसभा चुनाव में नक्सलियों ने नदी में बंधी डोंगी को डुबा दिया था ताकि ग्रामीण मतदान करने केंद्रों तक नहीं पहुंच सकें। 

 

बड़े ऑपरेशन की तैयारी में पुलिस : दंतेवाड़ा में चुनाव संपन्न कराने बाहर से आए सुरक्षाबलों की क्षेत्र की परिस्थितियों की जानकारी बेहद कम है। ऐसे में पुलिस किसी प्रकार का बड़ा जोखिम नहीं लेना चाह रही। बताया जा रहा है कि चुनाव के बाद दंतेवाड़ा पुलिस नक्सलियों के खिलाफ बड़ा ऑपरेशन चलाएगी।

Astrology
Click to listen..