छत्तीसगढ़ / कुशालपुर में पीलिया, एक ही इलाके के 9 बच्चे पीड़ित, कई और को होने का शक



Nine children suffering from jaundice in Kushalpur, many others suspected of being
X
Nine children suffering from jaundice in Kushalpur, many others suspected of being

  • घर घर दस्तक देकर जांच: हेल्थ कैंप लगाया, आज विशेषज्ञों की टीम करेगी जांच
  • शहर के कई इलाकों में अभी भी नलों से गंदा पानी सप्लाई होने की शिकायत है

Dainik Bhaskar

Jun 15, 2019, 05:21 AM IST

कुशालपुर. तुलसीपारा में पीलिया फैल गया है। शुक्रवार तक 9 बच्चे पीलिया से पीड़ित हो चुके हैं। इनमें दो बच्चों के खून की जांच में पीलिया होने की पुष्टि हो चुकी है। बाकी बच्चों की जांच रिपोर्ट नहीं आई है। इलाके में कुछ और बच्चे पीड़ित हैं। एक साथ इतने बच्चों के पीड़ित होने का पता चलते ही प्रशासनिक अमले में खलबली मच गई। जिला प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग और नगर निगम की टीम तुलसीपारा पहुंच गयी। टीम के सदस्य एक-एक बच्चों के घर पहुंचे। उसके बाद आस-पास के करीब 100 घरों में दस्तक देकर एक-एक सदस्य की बीमारी के बारे में पूछा गया।

 

पीड़ित बच्चों की स्थिति की जानकारी लेने के साथ ही ये देखा गया कि उन्हें अभी क्या ट्रीटमेंट दिया जा रहा है। बच्चों के परिजनों को सावधान रहने की सलाह दी गई। डाक्टरों की एक टीम का वहां कैंप लगा दिया गया है।तुलसीपारा इलाके में बच्चों में पीलिया फैलने की खबर से आस-पास की बस्ती के लोग भी बेचैन हैं। अभी तक जितने पीड़ित बच्चे मिले हैं उन सभी की उम्र आठ से दस साल बताई जा रही है। सभी तुलसीपारा के हैं। बच्चों में पीलिया कैसे हुआ अभी इसका खुलासा नहीं हुआ है। आशंका जताई जा रही है कि गंदा पानी पीने या दूषित खाद्य पदार्थ के उपयोग से बच्चों को पीलिया हुआ है।

 

पीड़ित बच्चों के परिवार वालों ने अफसरों को बताया है कि वे 15 दिन पहले लौटकर आए हैं। गर्मी की छुट्टी मनाने वे गांव गए थे। लौटने के चार-पांच दिन बाद से ही तबीयत बिगड़नी शुरू हुई। स्वास्थ्य और जिला प्रशासन की टीम ने आस-पास के इलाकों में भी जांच शुरू कर दी है। बच्चों के सामान्य होने तक वहां हेल्थ चेकअप कैंप लगेगा। स्वास्थ्य विभाग के अमले को सुबह पीलिया फैलने की सूचना मिली। उसके बाद कलेक्टर डाॅ. एस. भारतीदासन ने स्वास्थ्य विभाग की टीम वहां रवाना की।

 

डाक्टरों और पैरामेडिकल स्टाफ की काम्बेट टीम ने तुलसी नगर कुशालपुर में करीब 100 घरों का डोर-टू-डोर सर्वे किया। काम्बेट टीम को इस दौरान पीलिया के संभावित सात मरीज मिले। दो बच्चों का निजी अस्पताल में ईलाज चल रहा है। उनकी स्थिति ठीक है और उन्हें शनिवार को अस्पताल से छुट्टी दी सकती है। शेष मरीजों की स्थिति सामान्य बताई जा रही है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. केआर सोनवानी ने बताया कि काम्बेट टीम ने घरों में सर्वे के दौरान 500 क्लोरिन टेबलेट बांटी।

 

कई इलाकों में गंदे पानी की सप्लाई
शहर के कई इलाकों में अभी भी नलों से गंदा पानी सप्लाई होने की शिकायत है। ब्राम्हणपारा, बैजनापारा और गुढ़ियारी के कुछ पैच में गंदा पानी आ रहा है। लोगों की शिकायत है कि नल खुलने के बाद एक-दो बाल्टी पानी गंदा आता है। उसके बाद साफ पानी आना शुरू होता है। लोगों का मानना है कि कहीं न कहीं पाइप लाइन फूटी है। इसे तुरंत दुरुस्त करना होगा। ठीक नहीं करने पर वहां भी पीलिया फैलने का खतरा है।

COMMENT