आंदोलन / कर्मचारियों ने लहराए पोस्टर, लिखा था 'मेरा वोट उसी को, जो नियमित करे मुझको'



नियमितीकरण की मांग पर पोस्टर लेकर विरोध जताते कर्मचारी। नियमितीकरण की मांग पर पोस्टर लेकर विरोध जताते कर्मचारी।
X
नियमितीकरण की मांग पर पोस्टर लेकर विरोध जताते कर्मचारी।नियमितीकरण की मांग पर पोस्टर लेकर विरोध जताते कर्मचारी।

  • राजधानी में छत्तीसगढ़ संयुक्त प्रगतिशील कर्मचारी महासंघ के बैनर तले कर्मचारी कर रहे प्रदर्शन
  • आश्वासन देकर खत्म कराई गई थी हड़ताल, लेकिन न नियमितीकरण हुआ, न बर्खास्तगी समाप्त

Sep 23, 2018, 03:30 PM IST

रायपुर.  नियमितीकरण के आश्वासन के बाद भी अभी तक हाथ खाली रहने से कर्मचारियों का गुस्सा फूट पड़ा है। कर्मचारियों ने इसके खिलाफ पोस्टर अभियान छेड़ दिया है। छत्तीसगढ़ संयुक्त प्रगतिशील कर्मचारी महासंघ के बैनर तले प्रदेश भर के कर्मचारियों ने  जगह-जगह पर गाड़ियों, दीवारों में पोस्टर लगा दिया हैं। इन पोस्टर में लिखा है कि ‘मेरा वोट उसी को जो नियमित करे मुझको’।

1.80 लाख कर्मचारी अनियमित, शहर में लगाए  10 हजार पोस्टर

  1. प्रदेश में अनियमित कर्मचारी करीब 1.80 लाख हैं। आक्रोश रैली के तहत अब तक वो शहर में 10 हजार पोस्टर लगा चुके हैं। इससे पहले कर्मचारियों की हड़ताल खत्म करने के लिए राजनांदगांव पूर्व सांसद और वर्तमान महापौर मधुसूदन यादव ने मुख्यमंत्री के मांगों पर विचार करने का आश्वासन दे कर हड़ताल खत्म कराई थी। इसके बाद भी कुछ नहीं हुआ। 

  2. 23 दिन चली हड़ताल, 140 कर्मचारी किए गए बर्खास्त

    अनियमित कर्मचारी नियमितीकरण की मांग काे लेकर 16 जुलाई से लेकर 7 अगस्त तक हड़ताल पर थे। 23 दिनों तक चली इस हड़ताल के दौरान 140 कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया गया। कर्मचारियों का आरोप है कि नियमित करने और बहाली का आश्वासन देकर हड़ताल खत्म कराई गई। जितनी बार विरोध की तैयारी होती है, उतनी बार कहते हैं कि मांगों पर विचार हो रहा है। 

  3. जो लिखित में करेगा घोषणा, उसी को वोट

    कर्मचारियों ने साफ कर दिया है कि अब जो लिखित में नियमित करने की घोषणा करेगा और आश्वासन देगा, उनका वोट उसी को मिलेगा। कर्मचारियों का कहना है कि आश्वासनों के अनुसार, 20 से ज्यादा विभागों के हड़ताली कर्मचारियों को वेतन भी नहीं मिला है। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना