अंतागढ़ मामला / कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने कहा- आईपीएस आरएन दास की भूमिका की भी होनी चाहिए जांच



फाइल फोटो फाइल फोटो
X
फाइल फोटोफाइल फोटो

  • रायपुर में पत्रकारों से बात-चीत में मंत्री चौबे ने दिया बयान, बोले-जो कांग्रेस ने कहा वही मंतूराम के बयान में आया  
  • अंतागढ़ उपचुनाव 2014 में कांग्रेस के प्रत्याशी मंतु ने लिया था नाम वापस, आईपीएस पर धमकी देने का आरोप 

Dainik Bhaskar

Sep 09, 2019, 03:03 PM IST

रायपुर. छत्तीसगढ़ के कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने कहा कि मंतुराम के बयान के आधार पर आईपीएस आरएन दास के खिलाफ जांच होनी चाहिए। मंत्री, रायपुर में आयोजित हैंडलूम सेलर मीट में हिस्सा लेने पहुंचे थे। दरअसल अंतागढ़ उपचुनाव 2014 में नाम वापस लेने वाले कांग्रेस के प्रत्याशी मंतु राम ने हाल ही में दिए अपने बयान में कई खुलासे किए हैं। मंतु ने कहा है कि चुनाव के वक्त कांकेर एसपी रहे आरएन दास ने नाम वापस लेने की धमकी दी थी।

डील के रूपयों की जांच को लेकर कांग्रेसियों ने  ईडी को सौंपा ज्ञापन  

  1. मंतु राम ने कोर्ट में दिए अपने बयान में यह भी कहा था कि पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन, अजीत जोगी, अमित जोगी, पूर्व मंत्री राजेश मूणत के बीच 7.5 करोड़ की डील हुई थी। अब इस मुद्दे को लेकर कांग्रेसी नेता सोमवार को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) पहुंचे। यहां अधिकारियों को ज्ञापन सौंपकर कहा गया कि इस डील के लिए इतने रूपए आए कहां से इसकी जांच की जाए। 

  2. दो दिन पहले न्यायिक मजिस्ट्रेट नीरज श्रीवास्तव की कोर्ट में मंतु राम पवार ने बयान में कहा कि मुझे चुनाव मैदान से हटने के लिए जान से मारने की धमकी मिली थी। कांकेर के एसपी ने फोन पर सीधे धमकी दी थी। बाद में मुझे पता चला कि चुनाव मैदान से हटाने के लिए बड़ी राजनीतिक साजिश रची गई। इसके लिए पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह, अजीत जोगी, पूर्व मंत्री राजेश मूणत और अमित के बीच सौदा हुआ।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना