छत्तीसगढ़ / छुट्टियों में सरकारी स्कूलों में समर कैंप नहीं लगेंगे, गर्मी के कारण सरकार का फैसला

Dainik Bhaskar

May 16, 2019, 05:26 AM IST



मंत्री प्रेमसाय सिंह । मंत्री प्रेमसाय सिंह ।
X
मंत्री प्रेमसाय सिंह ।मंत्री प्रेमसाय सिंह ।

  • उच्चस्तर पर हस्तक्षेप के बाद अफसरों का यू-टर्न 
  • इससे राजधानी ही नहीं, ग्रामीण इलाकों के भी लाखों बच्चों और शिक्षकों को मिलेगी राहत

रायपुर. सरकारी स्कूलों में पहली से आठवीं के बच्चों के लिए गर्मी की छुट्टियों में लगाए जाने वाले समर कैंप तथा स्पेशल क्लासेस को स्थगित कर दिया गया है। भीषण गर्मी को देखते हुए सरकार ने फैसला लिया। हालांकि इस बारे में चर्चा है कि उच्च स्तर पर हस्तक्षेप के बाद मंत्री प्रेमसाय सिंह को आगे आकर समर कैंप निरस्त करने के निर्देश देने पड़े। स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव खुद गर्मी में समर कैंप लगाने के पक्ष में नहीं थे। उन्होंने खुलकर इसका विरोध किया था। अफसरों ने पढ़ाई और रचनात्मक कार्यों में फिसड्‌डी बच्चों को बाकी बच्चों के बराबरी में लाने के लिए समर कैंप लगाने का निर्णय लिया था। 

 

अफसरों ने इस साल परीक्षा के कुछ दिन पहले ही ये तय किया कि इस बार पहली से आठवीं तक के बच्चों की परीक्षा एक तरह से उनकी मानसिक स्थिति का लेवल पता करने के लिए ली जाए। उसके बाद पूरे राज्य के सरकारी स्कूलों को निर्देश जारी कर टेस्ट का नया फार्मेट बनाया गया। राज्य शैक्षिक अनुंधान परिषद के माध्यम से पर्चे तैयार करवाए गए। उसके बाद बच्चों की परीक्षा ली गई। परीक्षा के बाद पूरा रिजल्ट ऑन लाइन अपलोड करवाया गया। उसके बाद पढ़ाई में कमजोर बच्चों को अलग कर उनके लिए गर्मी की छुट्‌टी के दौरान स्कूलों में समर क्लासेस लगाने का निर्देश जारी किया।

 

कई जिलों में शुरू हो चुकी थी कैंप की तैयारी

हर जिले में जिला शिक्षा अधिकारियों ने अपने स्तर पर तैयारी शुरू कर दी थी। कुछ जिलों में 15 के बाद कैंप लगने थे तो किसी में 20 के बाद। कई जिलों में समर कैंप की शुरुआत कर दी गई थी। इसकी शिकायत मिलने पर स्वास्थ्य मंत्री ने इसका विरोध करते हुए कहा था कि बच्चों की क्षमता बढ़ाने के नाम पर गर्मी की छुटि्टयों में स्कूल बुलाना उचित नहीं है। उसके बाद ही शिक्षा मंत्री ने फैसले को बदलने का निर्णय लिया और बुधवार को इस बारे में आदेश जारी किए गए।

 

पिछली सरकार में भी फेल हो गया था सीबीएसई जैसा यह फार्मूला
भाजपा के शासनकाल में गर्मी में स्कूल लगाने का फार्मूला फेल हो चुका है। तीन साल पहले पिछली सरकार ने गर्मी में पढ़ाई में पिछड़े लगाने का फैसला करते हुए सीबीएसई के फार्मूले पर 1 अप्रैल से शिक्षा सत्र चालू करने कर दिया था। छत्तीसगढ़ में अप्रैल में ही तेज गर्मी पड़ने लगती है। गर्मी में बच्चे स्कूल नहीं आ रहे थे। इस वजह से फार्मूला फेल हो गया था। अब नई सरकार ने पहले ही शिक्षा सत्र में एक तरह से वही फार्मूला लागू करने की कोशिश की।

 

पीईटी व पीपीएचटी के प्रवेश पत्र अब परीक्षा के पहले तक निकालने की छूट
प्री इंजीनियरिंग टेस्ट (पीईटी) और प्री फार्मेसी टेस्ट (पीपीएचटी) के लिए व्यावसायिक परीक्षा मंडल व्यापमं के अफसर अलग तरह का सिस्टम अपना रहे हैं। ऐसा पहली बाहर हुआ कि किसी परीक्षा के प्रवेश पत्र निकालने के लिए उम्मीदवारों के मोबाइल पर छह-छह बार एसएमएस भेजा गया। कभी समय बढ़ाने का तो कभी संशोधन किए जाने का। यहां तक भी अफसर चुप नहीं बैठे। अब परीक्षा शुरू होने के पहले तक प्रवेश पत्र डाउनलोड करने की छूट दे गई है। 16 मई को पीईटी सुबह 9 बजे से होगी। परीक्षार्थी उस समय तक प्रवेश पत्र डाउनलाेड कर सकेंगे।

 

 


 

COMMENT