रायपुर / घर से कचरा उठाना काफी नहीं, प्रोसेसिंग पर ही मिलेंगे नंबर, दो बार होगा सर्वेक्षण



Taking the garbage from home is not enough, twice will be surveyed in raipur
Taking the garbage from home is not enough, twice will be surveyed in raipur
X
Taking the garbage from home is not enough, twice will be surveyed in raipur
Taking the garbage from home is not enough, twice will be surveyed in raipur

  • पिछली बार के 5 हजार अंकों के मुकाबले इस बार केवल 4 हजार अंक

Dainik Bhaskar

May 17, 2019, 03:40 AM IST

रायपुर. इस बार स्वच्छता सर्वेक्षण में डोर टू डोर कचरा उठाना ही पर्याप्त नहीं है, कितनी मात्रा में गीले और सूखे कचरे को प्रोसेस किया जा रहा है, यह भी बताना होगा। स्वच्छता लीग के अंतर्गत दो तिमाही में इस संबंध में जानकारी जुटाई जाएगी। स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 के लिए नई प्रस्तावित गाइडलाइन में इस बार सफाई में अच्छी रैंकिंग लाने के लिए शहरों को पहले के मुकाबले और ज्यादा मेहनत करनी होगी, क्योंकि इसमें स्वच्छता लीग का भी कांसेप्ट पहली बार लाया गया है।

 

सफाई सर्वे के दौरान सभी शहरों को दो बार स्वच्छता लीग की कसौटी से गुजरना होगा। पहली लीग की मियाद अप्रैल 2019 से जून 2019 के बीच रखी गई है। यानी शहरों को करीब पंद्रह दिन बाद पहली बाधा पार करनी होगी। कचरे की प्रोसेसिंग पर खासा जोर रहेगा। शहरों को बताना होगा कि वो सूखे और गीले कचरे का कितना प्रतिशत भाग प्रोसेस कर रहे हैं। अगर इसमें शहरों ने कोताही बरती तो स्वाभाविक रूप से इसका असर रैंकिंग पर भी पड़ेगा।

 

स्वच्छता लीग में शहरों को क्वार्टरली रैंकिंग जारी की जाएगी। इसके आधार पर फाइनल सर्वे से पहले शहर खुद की स्थिति का आकलन कर पाएंगे। दूसरा तिमाही असेसमेंट जुलाई 2019 से सितंबर 2019 के बीच होगा। इसके बाद 4 जनवरी से 31 जनवरी 2020 के बीच स्वच्छता सर्वेक्षण का फाइनल राउंड होगा। क्वार्टरली असेसमेंट के लिए 1000 अंक रखे गए हैं। इसको फाइनल रैंकिंग में जोड़ा जाएगा। तिमाही रैंकिंग के आधार पर शहरों की प्रोग्रेस का आकलन भी होगा कि शहर ने कितना सुधार किया है।
 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना