रायपुर / सिरदर्द चौक: 15 साल में डिजाइन तीन बार बदला पर बढ़ते गए सड़क हादसे फ्लाईओवर भी फंसा, फिर टूटेगा चौराहा



three times changed the design of chowk in last 15 years, road accidents have increased
three times changed the design of chowk in last 15 years, road accidents have increased
X
three times changed the design of chowk in last 15 years, road accidents have increased
three times changed the design of chowk in last 15 years, road accidents have increased

  • इस साल अब तक 12 लोगों की मौत हो चुकी है, कुल 43 हादशे हुए

Dainik Bhaskar

May 16, 2019, 04:54 AM IST

रायपुर. प्रदेश के संभवत: सबसे बड़े तथा व्यस्त चौराहे टाटीबंध चौक की खामियां सुधारने के लिए चार प्लान पिछले 15 साल में फेल हो गए। नए प्लान लागू होते रहे और हादसे तथा मौतें भी बढ़ती रहीं। तीन बार चौक की डिजाइन बदली गई, पिछले साल यहां इंटरचेंज फ्लाईओवर मंजूर हुअा पर यह जमीन अधिग्रहण में फंस गया। इस बीच, पिछले छह महीने में इस चौराहे पर 57 हादसे हो गए हैं और अब ट्रैफिक पुलिस ने एक बार फिर राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचआई) से डिजाइन बदलने की मांग उठा दी है।

 

इस आधार पर यही नहीं, पुलिस इस चौक का डिजाइन भी बदलने जा रही है। इसके तहत अब इसके चारों ओर का फुटपाथ और ट्रैफिक की भूलभुलैया बन गई लैंडस्केपिंग तोड़ने की तैयारी है। यह प्लान ट्रैफिक पुलिस ने सर्वे के बाद तैयार कर नेशनल हाईवे को भेजा था और एनएचआई ने इसी आधार पर नए प्लान को मंजूरी दी है। 


प्रदेश की पिछली सरकार ने केंद्र से इस चौराहे पर इंटरचेंज फ्लाईओवर मंजूर करवाया था। पिछले साल दिसंबर में इसका टेंडर भी जारी कर दिया गया। लेकिन 1600 वर्गमीटर जमीन के अधिग्रहण के चक्कर में टेंडर ही फंस गया है। एनएचआई ने साफ कर दिया है कि जबतक जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया पूरी नहीं होगी, टेंडर को खोला नहीं जाएगा। इस वजह से फ्लाईओवर में देरी को देखते हुए पुलिस ने खुद खमियां दूर करने की तैयारी शुरू की है। 

 

चौराहे पर ये बदलाव करने जा रही है पुलिस
रम्बल ब्रेकर : 
चौक के चारों ओर रम्बल ब्रेकर से 50-70 मीटर पहले ही गाड़ियां धीमी हो जाएंगी। इससे हादसे नहीं होंगे। 
टूटेगा फुटपाथ : चौक-गार्डन के चारो ओर 4-5 फीट के फुटपाथ को अनुपयोगी होने के कारण तोड़ेंगे ताकि सड़क चौड़ी हो। 
लैंडस्केपिंग हटेगी : सुंदर बनाने के लिए की गई लैंडस्केपिंग पार्किंग में तब्दील हो गई। इसे तोड़कर पतला डिवाइडर बनेगा।  
ग्रिल निकालेंगे : भिलाई की ओर जाने वाले जहां जाम में फंसते हैं, वहां फुटपाथ तोड़कर गार्डन की ग्रिल भी निकाली जाएगी। 
डिवाइडर सुधरेंगे : चौराहे पर बने घुमावदार डिवाइडरों को हटाया जाएगा। इनकी वजह से लोग चौराहे पर फंस रहे हैं। 
गड्ढे भरेंगे : हैवी ट्रैफिक के दौरान बारिश में चौक पर गड्ढे हो जाते हैं। इनकी वजह से हादसे हो रहे हैं। इन्हें तुरंत भरा जाएगा। 

 

इन खामियों पर भी सुधार जरूरी

  • टाटीबंध चौक पर दुर्ग, बिलासपुर, मंदिर हसौद-रायपुरा और जीई रोड का ट्रैफिक यहां डायवर्ट होता है। चौक के सभी मर्जिंग पाइंट बेहद खतरनाक हैं क्योंकि बड़े वाहन स्पीड में होते हैं इसलिए दोपहिया अक्सर फंसते हैं। 
  • जीई रोड से शहर की ओर आकर रायपुरा या तेलीबांधा जाने वाले ट्रैफिक के लिए चौक के पास लेफ्ट टर्न नहीं है। यहां दो दुकानें हैं, साथ ही बेतरतीब सिटी बस स्टाॅप बन गया है। इससे पूरा ट्रैफिक मर्ज हो रहा है। 
  • बिलासपुर-भनपुरी के वाहनों के लिए चौक के मर्जिंग पाइंट के पास ही लेफ्ट टर्न की जगह छोड़ी गई है। भास्कर टीम ने दो घंटे रहकर देखा कि इसका उपयोग नहीं होता। जहां से ट्रैफिक जाता है, वह रोड संकरी है।  
  • बिलासपुर-भनपुरी से रायपुरा-तेलीबांधा की ओर से आने वाले वाहनों के लिए बायपास रोड और सर्विस रोड हैं। लेकिन टाटीबंध चौक के पास आकर दोनों मर्ज हो जाती हैं। इससे भी हादसे की अाशंका बढ़ गई है।

डिजाइन सुधारने को मंजूरी दी गई है 
आमानाका  इंस्पेक्टर रमाकांत साहू ने कहा कि चौक का सर्वे कर लिया है। खामियों की पूरी रिपोर्ट एनएचआई को भेजी है क्योंकि हादसे इसी से हो रहे हैं। खामियां दूर करने की जरूरत है। एनएचआई की  क्षेत्रीय अधिकारी बीएल मीणा ने कहा कि पुलिस का पत्र मिला है। इंटरचेंज फ्लाईओवर बनने तक हादसे रोकने के लिए सुधार जरूरी हैं। इसीलिए डिजाइन सुधारने को मंजूरी दी गई है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना