छत्तीसगढ़ / दूरदर्शन टीम पर नक्सली हमला कैमरामैन और 2 जवान शहीद, भावुक हुए एसपी



अरनपुर थाना क्षेत्र के नीलावाया जंगल में नक्सलियों ने सुरक्षाबलों की टीम को घेरकर की फायरिंग। अरनपुर थाना क्षेत्र के नीलावाया जंगल में नक्सलियों ने सुरक्षाबलों की टीम को घेरकर की फायरिंग।
शहीद एएसआई रुद्र प्रताप। शहीद एएसआई रुद्र प्रताप।
हमले में मारे गए डीडी न्यूज के कैमरामैन अच्युतानंद साहू (लाल शर्ट में)। हमले में मारे गए डीडी न्यूज के कैमरामैन अच्युतानंद साहू (लाल शर्ट में)।
X
अरनपुर थाना क्षेत्र के नीलावाया जंगल में नक्सलियों ने सुरक्षाबलों की टीम को घेरकर की फायरिंग।अरनपुर थाना क्षेत्र के नीलावाया जंगल में नक्सलियों ने सुरक्षाबलों की टीम को घेरकर की फायरिंग।
शहीद एएसआई रुद्र प्रताप।शहीद एएसआई रुद्र प्रताप।
हमले में मारे गए डीडी न्यूज के कैमरामैन अच्युतानंद साहू (लाल शर्ट में)।हमले में मारे गए डीडी न्यूज के कैमरामैन अच्युतानंद साहू (लाल शर्ट में)।

  • दंतेवाड़ा के नीलावाया में पहली बार मतदान केंद्र बनाने से बौखलाए नक्सली
  • पत्रकार गड्‌ढे में छिपे तो वहां भी की फायरिंग, कैमरा साथ ले गए

Dainik Bhaskar

Oct 31, 2018, 01:51 AM IST

दंतेवाड़ा . दंतेवाड़ा जिले में अरनपुर थाना क्षेत्र के नीलावाया में खुलने वाले मतदान केंद्र की ओर जा रही पुलिस पार्टी पर मंगलवार को घात लगाए नक्सलियों ने हमला कर दिया। इसमें डीआरजी के एसआई रूद्रप्रताप सिंह, सहायक आरक्षक मंगलू मंडावी और दूरदर्शन न्यूज के कैमरामैन अच्युतानंद साहू की मौत हो गई। आरक्षक विष्णु नेताम और सहायक आरक्षक राकेश  कौशल गंभीर रूप से जख्मी हैं। दोनों को जिला हास्पिटल में उपचार के बाद हेलिकॉप्टर से रायपुर लाया गया।  शहीद होने वालों में एसआई रूद्रप्रताप सिंह नरियरा (पामगढ़) जिला जांजगीर के रहने वाले थे, जबकि सहायक आरक्षक मंगलू मंडावी वर्तमान में कोसली राहत शिविर में रह रहे थे।

वे मूलत: ओड़सा (बीजापुर) के रहने वाले थे। डीडी न्यूज के कैमरामैन अच्युतानंद साहू बलांगीर (ओड़िशा) के रहने वाले थे। बताया जा रहा है कि नीलावाया का मतदान केंद्र अब तक सुरक्षा कारणों से दूसरी जगह पर शिफ्ट किया जाता रहा है, लेकिन इस बार पुख्ता सुरक्षा के साथ नीलावाया में ही मतदान केंद्र बनाने की तैयारी पुलिस ने की है। गांव में पहली बार मतदान केंद्र खुलने को लेकर ग्रामीणों के उत्साह के बारे में रिपोर्टिंग  करने डीडी न्यूज की तीन सदस्यीय टीम बाइक पर नीलावाया के लिए अरनपुर थाने से निकली थी। 
उनके पीछे डीआरजी के जवानों की बाइक टीम भी थी। नीलावाया के नजदीक पहुंचते ही सड़क किनारे घात लगाए नक्सलियों ने ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। गोली लगने से सबसे आगे बाइक पर चल रहे कैमरामैन अच्युतानंद, एसआई रूद्रप्रताप और सहायक आरक्षक मंगलू की मौके पर ही मौत हो गई। आरक्षक विष्णु और सहायक आरक्षक राकेश कौशल भी गोलीबारी की चपेट में आकर जख्मी हुए। पीछे चल रहे जवानों ने मोर्चा संभाला तब तक नक्सली फायरिंग करते भाग चुके थे। घायल जवानों को साथियों ने जिला हास्पिटल पहुंचाया।

 

Naxali


मंगलू मंडावी के बड़े भाई भी नक्सली हमले में हुए थे शहीद : नीलावाया में शहीद हुए सहायक आरक्षक मंगलू मंडावी के बड़े भाई मंगड़ू मंडावी भी दो साल पहले नक्सली हमले में शहीद हो गए थे। दो साल पहले बड़े तुमनार के साप्ताहिक बाजार में नक्सलियों ने गोलीबारी कर सहायक आरक्षक मंगड़ू मंडावी की हत्या कर दी थी। शहीद जवान का परिवार  कासोली स्थित राहत शिविर में है।

 

मंडावी परिवार मूलत: ओड़सा (बीजापुर) के रहने वाला है। लेकिन सलवा जुडूम आंदोलन के समय परिवार को अपना गांव  छोड़ना पड़ा। तब से वे राहत शिविर में रह रहे हैं। 

 

राहुल गांधी ने ट्वीट कर दी श्रद्धांजलि: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में हुए नक्सली हमले में शहीद कैमरामैन आैर जवानों को श्रद्धांजलि दी है। राहुल गांधी ने अपने ट्वीट संदेश में लिखा है कि छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में हुए नक्सली हमले की खबर से मुझे बहुत दुःख पहुंचा है| शहीद हुए 2 पुलिसकर्मी और दूरदर्शन के कैमरामेन के परिवार के प्रति  मैं अपनी गहरी शोक और संवेदना व्यक्त करता हूं।


तीन नक्सलियों के भी मारे जाने का दावा : डीजी नक्सल ऑपरेशन डीएमएम अवस्थी ने बासागुड़ा के मुरटुण्डा और समेली नीलावाय की घटनाओं का चुनाव से कोई संबंध होने से इनकार किया है। उन्होंने दावा किया कि मंगलवार को नीलावाय में मुठभेड़ के दौरान तीन नक्सलियों के मारे जाने सूचना पुलिस को मिली है। उन्हें घसीटकर ले जाने के निशान मिले हैं।

 
नक्सली नेता ने तीन दिन पहले कहा था मीडिया निर्भीक होकर आए : नक्सली नेता गणेश उईके ने तीन दिन पहले ही प्रेस को बयान जारी कर कहा था कि नक्सली क्षेत्र में मीडिया के लोग निर्भीक होकर आएं। वे स्वेच्छा से बेखाैफ होकर संघर्षरत इलाकों का दौरा करें और चुनाव बहिष्कार की रिपोर्टिंग करें। इसके बावजूद उन्होंने पुलिस की उस गाड़ी में हमला किया जिसमें डीडी न्यूज की टीम बैठी थी।

 

हमले में बच गए पत्रकार धीरज ने जैसा बताया...पहली गोली कैमरामैन को लगी, जब हम गड्‌ढे में छिपे तो वहां भी दागी गोली नीलावाया में 20 साल बाद नया मतदान केंद्र खुला था। हम इस मतदान केंद्र की रिपोर्टिंग के लिए जा रहे थे। हमारे साथ 40 जवानों की नफरी थी। नफरी में सबसे सामने पांच बाइक चल रही थी।

इसमें पहली बाइक में सब इंस्पेक्टर रुद्रप्रताप के साथ कैमरामेन बैठा हुआ था। हम जैसे ही नई सड़क के पास पहुंचे तो सूखे पेड़ के पास से गोली चली। पहली गोली रूद्र प्रताप सिंह के पीछे बैठे कैमरामैन को लगी। इसके बाद  कोई संभल नहीं पाया। चारों और से लगातार फायरिंग की जा रही थी।

जिस दौरान हमला हुआ उस समय नक्सलियों ने हमारे हाथाें में आईडी देख ली थी, हम लोग बचने के लिए जिस गड्‌ढे में छिपे थे उसमें लगातार फायरिंग की जाती रही। फायरिंग के बाद मौके पर पड़ा कैमरा भी नक्सली साथ ले गए। गोलीबारी के बीच कुछ नक्सली शहीद हुए जवानों के हथियार लेकर भागने लगे लेकिन अन्य जवानों ने उनको निशाना बनाया तो वे हथियार छोड़कर भाग खड़े हुए। डीडी न्यूज के संवाददाता  धीरज हमले में बाल-बाल बचे

 

आंसू नहीं रोक पाए एसपी
दंतेवाड़ा के एसपी अभिषेक पल्लव ने कहा, ‘‘मीडियाकर्मी लोगों से यह पूछ रहे थे कि विकास और पुलिस-प्रशासन के बारे में उनकी क्या राय है? गांव वालों की नक्सली 10 दिन से पिटाई कर रहे थे। इसी बौखलाहट में नक्सलियों ने मीडिया पर हमला कर दिया। दो रिपोर्टर्स 150 मीटर रेंगकर गए। नक्सलियों ने उन्हें पास आकर मारने की कोशिश की। तब मेरे एक सहायक आरक्षक ने कूदकर उन्हें धक्का दिया।’’ यह कहते हुए एसपी भावुक हो गए। उन्होंने आगे कहा, ‘‘गोलीबारी में वह शहीद हो गया। मैं उन्हें शाबाशी देता हूं। हमारे 30 जवान थे, जिन्होंने 300 नक्सलियों को भागने को मजबूर किया। ऐसा नहीं होता तो 30 जवान शहीद हो सकते थे।

 

 

नक्सलियों ने चुनाव बहिष्कार की धमकी दी 

डीआईजी (नक्सल) पी सुंदर ने कहा कि आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर सीआरपीएफ और स्थानीय पुलिस के जवान एरिया डॉमिनेशन के लिए निकले थे। अरनपुर में पहली बार वोटिंग होनी है। नक्सलियों ने चुनाव बहिष्कार की धमकी दी है। 

 

12 नवंबर को 8 नक्सल प्रभावित जिलों में होना है मतदान

छत्तीसगढ़ में अगले महीने विधानसभा चुनाव होने हैं। यहां दो चरणों में 12 नवंबर और 20 नवंबर को मतदान होगा। पहले चरण में 8 नक्सल प्रभावित जिलों की 18 सीटों पर चुनाव होगा। इनमें बस्तर, कंकेर, सुकमा, बीजापुर, दंतेवाड़ा, नारायणपुर, कोंडागांव और राजनांदगांव शामिल हैं। नतीजे 11 दिसंबर को आने हैं। 


बीजापुर में हमले में चार जवान हुए थे शहीद

इससे पहले शनिवार को बीजापुर जिले के मुरदंडा में नक्सलियों ने जवानों की बख्तरबंद गाड़ी आईईडी ब्लास्ट कर उड़ा दी थी। विस्फोट में चार जवान शहीद हो गए थे। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना