छत्तीसगढ़ / आवारा पागल कुत्ते के काटने से महिला की मौत पर 10 लाख मुआवजा दिया जाए



Woman's death by stray mad dog bites
X
Woman's death by stray mad dog bites

  • बालोद जिला प्रशासन को हाईकोर्ट का आदेश
  • कहा- ऐसे कुत्ते का उन्मूलन ग्राम पंचायत की जिम्मेदारी
     

Dainik Bhaskar

Feb 15, 2019, 01:40 AM IST

बालोद . आवारा पागल कुत्ते के काटने से महिला की मौत पर प्रदेश सरकार को 10 लाख रुपए क्षतिपूर्ती देनी होगी। ये राशि 3 माह में देने के आदेश जिला प्रशासन को हाईकोर्ट ने दिए हैं। जिले के खुटेरी (गुंडरदेही) निवासी ओम बाई पत्नी शोभाराम को 22 अप्रैल 2017 को कुत्ते ने काटा था।

 

इलाज बेअसर रहा और 10 जून 2017 को ओम बाई की मौत हो गई। महिला की आवारा पागल कुत्ते के काटने से मौत होने का सरपंच, कोटवार और पंच ने प्रमाणपत्र भी जारी किया। इसके बाद शोभाराम ने कलेक्टर से मुआवजे की मांग की। लेकिन तहसीलदार ने रिपोर्ट दी कि रेवन्यू बुक सर्कुलर में आवारा या पागल कुत्ते के काटने से मौत पर मुआवजा प्रावधान नहीं है। इसके बाद शोभाराम ने हाईकोर्ट में याचिका लगाई। जस्टिस प्रशांत मिश्रा की बेंच में केस की सुनवाई हुई। हाईकोर्ट ने आदेश में कहा है कि छत्तीसगढ़ ग्राम पंचायत नियम के तहत पागल व आवारा कुत्ते का उन्मूलन ग्राम पंचायत की जिम्मेदारी थी, जिसे निभाने में वह  नाकाम रही।

 

 छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट द्वारा दिव्या वर्मा की मौत मामले में संज्ञान लेते हुए जनहित याचिका में 22 जून 2017 को दिए गए आदेश का हवाला देते हुए हाईकोर्ट ने याचिकाकर्ता को 10 लाख रुपए क्षतिपूर्ति के रूप में प्राप्त करने का हकदार माना है। इलाज के दौरान जमा किए गए डेढ़ लाख रुपए को छोड़ शेष 8.50 लाख रुपए 3 माह में देने के निर्देश हैं।


बालोद कलेक्टर ने शपथ पत्र पेश कर कोर्ट को बताया कि महिला के इलाज के लिए चंदूलाल चंद्राकर मेमोरियल हॉस्पिटल को डेढ़ लाख रुपए का भुगतान किया जा चुका। मुख्यमंत्री स्वेच्छा अनुदान से 40 हजार रुपए का भी भुगतान किया गया। प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना के तहत प्रक्रिया शुरू कर बीमा कंपनी को निर्देशित किया गया। पर याचिकाकर्ता एफआईआर की कॉपी मुहैया नहीं करा सका।
 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना