24 घंटे के बाद एफआईआर, चार मिनट में 51.40 लाख लूट की कहानी को नहीं समझ पा रही पुलिस

Rajnandgaon News - भास्कर न्यूज | बालोद/गुंडरदेही बालोद दुर्ग मार्ग में डंगनिया और खप्परवाड़ा के बीच शनिवार को कथित 51 लाख 40 हजार 500 की...

Bhaskar News Network

Aug 19, 2019, 03:00 PM IST
Rajnandgaon News - chhattisgarh news after 24 hours fir is unable to understand the story of 5140 lakh loot in four minutes
भास्कर न्यूज | बालोद/गुंडरदेही

बालोद दुर्ग मार्ग में डंगनिया और खप्परवाड़ा के बीच शनिवार को कथित 51 लाख 40 हजार 500 की लूट के मामले में 24 घंटे बाद भी पुलिस को कोई सुराग नहीं मिल पाया है। पुलिस को इस पर भी संशय बना हुआ है कि लूट वास्तव में हुई भी है कि नहीं? इसी संशय के कारण दूसरे दिन रविवार को 24 घंटे के बाद शाम 6 बजे अज्ञात आरोपियों के खिलाफ धारा 341, 392, 506, आर्म्स एक्ट 25,27 के तहत एफआईआर दर्ज किया गया है।

प्रार्थी व्यापारी रवि राठी से लगातार बयान लिया जा रहा है। व्यापारी को तो इतना भी नहीं मालूम है कि जिन आरोपियों ने उनके साथ लूट की, उन्होंने कौन से कलर के कपड़े पहने हुए थे। उनकी बाइक का रंग कैसा था। वह हड़बड़ी और घबराहट में कुछ ना देख पाने की बात कह रहा है। तो वहीं पुलिस को इस बात पर भी संशय बरकरार है कि महज 4 मिनट के भीतर आरोपियों ने उनसे लूट की तो इस बीच सड़क से कोई और गुजरा क्यों नहीं? कोई चश्मदीद गवाह क्यों अब तक सामने नहीं आ पाया? जबकि बालोद दुर्ग का यह सबसे व्यस्ततम मार्ग है। यहां शाम के समय भी ट्रैफिक रहता है। लेकिन इस लूट की वारदात में पुलिस को एक भी चश्मदीद गवाह नहीं मिल पा रहा है।

पुलिस भी संशय में: लूट के शिकार को ही नहीं पता बाइक और आरोपियों के कपड़ों का रंग

बालोद. थाने में बयान देने के लिए पहुंचा व्यापारी रवि राठी व अन्य।

वारदात के समय व्यस्ततम मार्ग पर थे सिर्फ 4 लूटेरे?

गुंडरदेही थाने में प्रार्थी व्यापारी रवि राठी के अलावा जिनसे उन्होंने पैसा लिया था और जिस व्यापारी को पैसा देना था, उन सभी को बुलाकर थाने में पूछताछ की जा रही है।ये पता लगा रहे हैं कि वास्तव में व्यापारी ने उनसे पैसा लिया था या नहीं? और अगर लिया था तो किस काम से और इतनी बड़ी रकम की उधारी या पेमेंट किसलिए की जा रही थी। मामले में धमतरी के व्यापारी का भी नाम आने के कारण धमतरी पुलिस भी अपने स्तर पर मामले की छानबीन में जुटी है।

कॉल डिटेल भी खंगाल रहे

पुलिस प्रार्थी सहित उनके बड़े भाई व अन्य करीबी लोगों के कॉल डिटेल भी खंगाल रही है। पता किया जा रहा है कि पैसा लेकर निकलने से पहले व्यापारी ने किस-किस से बात की थी। उनके आसपास कोई संदिग्ध व्यक्ति था क्या? जहां घटना होने की बात कही जा रही है वहां पर कैमरा भी नहीं लगा है। ऐसे में कोई फुटेज भी नहीं आ पाया है।घटनास्थल से महज आधे किमी दूर बस्ती है।

बनाई गई विशेष टीम

इस केस को जल्द सुलझाने एसपी एमएल कोटवानी ने जिले के बेहतर काम करने वाले टीआई की एक टीम बनाई है। जो अलग-अलग क्षेत्र में जांच कर रही है। डीएसपी दिनेश सिन्हा ने कहा कि अभी कुछ कह नहीं सकते कि घटना में सच्चाई क्या है? प्रार्थी व्यापारी और अन्य व्यापारियों से भी पूछताछ जारी है। ऐसी स्थिति में पुलिस तो पहले इसी बात में उलझी हुई है लूट सही है या फर्जी?

सवाल यह भी- नकद लेनदेन क्यों?

पुलिस इस दिशा में भी जांच कर रही है कि आखिर व्यापारी ने धमतरी के व्यापारी को 51 लाख नकद देने क्यों बुलाया। क्या चेक से भुगतान या खाते में ट्रांसफर नहीं कराया जा सकता था। आखिर ऐसी क्या वजह रही कि उसे नकद पैसा देना पड़ा। पुलिस इस बात की भी पतासाजी कर रही है कि कहीं व्यापारी अपनी मनगढ़ंत कहानी तो नहीं बना रहा है। उनके अन्य व्यापारियों से लेनदेन के बैकग्राउंड पता किए जा रहे हैं। व्यापारी का यह भी कहना था कि आरोपी लूट के बाद गुंडरदेही की ओर भागे।

चश्मदीद ही नहीं, और भी कई अनसुलझे प्रश्न हैं








घटना का कोई चश्मदीद गवाह नहीं मिला: एसपी

एसपी एमएल कोटवानी ने कहा अभी तक घटना का कोई चश्मदीद गवाह नहीं मिला है। जिससे घटना की पुष्टि हो। व्यापारी के बयान सहित अन्य संभावनाओं पर भी विवेचना चल रही है। हर एंगल से हमारी टीम जांच में जुटी है। आरोपियों का भी सुराग नहीं मिला है।

सबूत जुटाने के लिए यह प्लानिंग कर रही पुलिस






जहां हुई घटना, वहां हर 15 सेकंड में गुजरते हंै वाहन

पुलिस कई अनसुलझे पहलुओं को ही सुलझाने में लगी है। दरअसल जिस जगह लूट हुई है, वह बालोद-दुर्ग मुख्य मार्ग है, यहां हर 15 सेकंड के अंतराल में छोटे से लेकर बड़े वाहन गुजरते है। ऐसे में कोई चश्मदीद का नहीं मिल पाना, यह एक बड़ा सवाल बन रहा है।

भास्कर रिकॉल:

पिछले साल साढ़े 6 लाख रुपए की हो चुकी लूट

पिछले साल राजनांदगांव में सिंधु भवन के सामने अनाज व्यापारी से साढ़े छह लाख रुपए की लूट के मामले में पुलिस ने सात लोगों को गिरफ्तार किया था। जिसमें पांच युवक सहित एक आरोपी की मां व मौसी शामिल रही। लूट का मास्टर माइंड बालोद के हल्दी टटेंगा भरदा का एक युवक था, जो मोतीपुर में रहता था और जेल से छूटने के बाद आरोपी महेश ने लूट की पूरी प्लानिंग की थी। घटना को अंजाम देने से पहले महीनेभर आरोपी ने शहर के फ्लाईओवर से अनाज व्यापारी की रेकी की, फिर दोस्तों के साथ मिलकर लूट की घटना को अंजाम दिया था। आरेापियों ने स्वीकार किया था प्लान बनाकर कई दिनांे तक रेकी किया। इस मामले में भी रेकी कर ही वारदात को अंजाम दिया गया होगा।

X
Rajnandgaon News - chhattisgarh news after 24 hours fir is unable to understand the story of 5140 lakh loot in four minutes
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना