• Hindi News
  • Chhattisgarh
  • Rajnandgaon
  • Rajnandgaon News chhattisgarh news bjp had cheated in the election of vice president 3 out of 15 members had cross voting congress39 angeshwar had won

जपं उपाध्यक्ष चुनाव में भाजपा ने खाया था धोखा, 15 सदस्यों में 3 ने की क्रॉस वोटिंग, कांग्रेस के अंगेश्वर ने मारी थी बाजी

Rajnandgaon News - पंचायत के चुनाव में क्रॉस वोटिंग ने भाजपा और कांग्रेस को भारी नुकसान पहुंचाया है। क्रॉस वोटिंग की वजह से राजनीतिक...

Jan 16, 2020, 07:50 AM IST
पंचायत के चुनाव में क्रॉस वोटिंग ने भाजपा और कांग्रेस को भारी नुकसान पहुंचाया है। क्रॉस वोटिंग की वजह से राजनीतिक समीकरण बिगड़े हैं। जिला और जनपद पंचायत के चुनाव में राजनीतिक उठापटक इस कदर हुई है कि चुनावी रणनीति बनाने वाले नेताओं जोर का झटका लगता रहा है। हैरत की बात है कि वर्ष 2014 में राजनांदगांव जनपद उपाध्यक्ष के चुनाव में भाजपा बहुमत के बाद भी हारी थी। यानी की 15 जनपद सदस्य होने के बाद भी उपाध्यक्ष नहीं बना पाए थे। तीन सदस्यों ने क्रॉस वोटिंग कर नुकसान पहुंचा दिया था। कांग्रेस नेता अंगेश्वर देशमुख उपाध्यक्ष बन गए थे।

राजनांदगांव जनपद पंचायत में अध्यक्ष और उपाध्यक्ष पद को लेकर घमासान की स्थिति बनती है। 2014 के चुनाव में जनपद अध्यक्ष का पद एससी महिला के लिए आरक्षित होने की वजह से भाजपा ने सरिता कन्नौजे को प्रत्याशी बनाया था। सरिता यह चुनाव जीत गई थीं। वहीं उपाध्यक्ष पद के लिए भाजपा ने हेमलता तिवारी और कांग्रेस ने अंगेश्वर देशमुख को प्रत्याशी बनाया था।

कांग्रेस ने चालाकी से इस कुर्सी पर कब्जा जमाया

भाजपा के पास 15 सदस्य थे तो कांग्रेस 10 सदस्यों तक सिमटी हुई थी। भाजपा नेताओं को भरोसा था कि उपाध्यक्ष की कुर्सी पर पार्टी के प्रत्याशी का ही कब्जा होगा पर कांग्रेस ने बड़ी चालाकी से इस कुर्सी पर कब्जा जमाया। दरअसल भाजपा के तीन सदस्यों ने उपाध्यक्ष के चुनाव में पार्टी का साथ नहीं दिया और कांग्रेस के प्रत्याशी अंगेश्वर के पक्ष में मतदान कर दिया था। इस तरह से भाजपा की रणनीति धरी दी धरी रह गई थी।

कुछ सदस्य प्रत्याशी नहीं बनाए जाने से नाराज थे

क्रॉस वोटिंग किसने की? इसे लेकर भाजपा संगठन में खलबली मची थी। इसे लेकर विवाद की स्थिति भी बनी पर कुल मिलाकर कांग्रेस नेता भाजपा में सेंधमारी करने में सफल हो गए थे। बड़ी बात यह है कि भाजपा सत्ता में थी। इसके बाद भी क्रॉस वोटिंग की स्थिति बन गई। दरअसल कुछ सदस्य प्रत्याशी नहीं बनाए जाने से नाराज थे। इसका फायदा कांग्रेस ने उठाया। इधर भाजपा के सदस्यों ने अपनी भड़ास भी निकाल ली।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना