लोकार्पण में फूंके 56 लाख जांच में फर्जीवाड़े की पुष्टि

Rajnandgaon News - पूर्ववर्ती भाजपा सरकार के कार्यकाल में विद्युत वितरण कंपनी के अफसरों ने बोरी सब स्टेशन के लोकार्पण में 56 लाख रुपए...

Oct 12, 2019, 07:55 AM IST
पूर्ववर्ती भाजपा सरकार के कार्यकाल में विद्युत वितरण कंपनी के अफसरों ने बोरी सब स्टेशन के लोकार्पण में 56 लाख रुपए फूंक दिए थे। शासन की ओर से इसकी स्वीकृति नहीं दी गई थी। कलेक्टर तक को इसकी सूचना दिए बगैर राशि खर्च कर दी गई। मामले में शिकायत के बाद जांच हुई तो फर्जीवाड़ा भी सामने आया। मामले में अब तक कार्रवाई नहीं होने से नाराज सर्व जनहित समिति के सदस्य अब एसपी से मुलाकात कर एफआईआर की मांग करेंगे। एडीएम की ओर से ईई को जारी किए गए नोटिस को आधार बनाते हुए एफआईआर के लिए आवेदन देंगे।

सब स्टेशन की लागत लगभग डेढ़ करोड़ रुपए थी और कंपनी के अफसरों ने लोकार्पण कार्यक्रम के नाम पर 56 लाख रुपए खर्च कर दिए। सर्व जनहित समिति की ओर से इसकी शिकायत की गई। सूचना के अधिकार के तहत दस्तावेजों की मांग करने पर फर्जीवाड़ा सामने आया। यहां दूसरे विभागों के नाम पर बिल जारी कर लाखों रुपए का भुगतान कर दिया गया है। शुरुआत में मामले की जांच बिजली कंपनी के अफसरों से ही कराई जा रही थी। कंपनी के अफसरों ने जांच के बाद आरोपों से घिरे ईई वीआरके मूर्ति को क्लीनचिट दे दिया था।

अफसरों ने किया गुमराह: जांच से असंतुष्ट समिति के अध्यक्ष अशोक फड़नवीस ने दूसरे एजेंसी के माध्यम से जांच कराने की मांग की तो कलेक्टर ने एडीएम को इसका जिम्मा सौंपा। एडीएम ने जांच में पाया कि नियम विरुद्ध सरकारी राशि का आहरण किया गया है। वहीं जो राशि कलेक्टर के माध्यम से जारी होने थी, उसे अफसरों ने अपने स्तर पर जारी करा दिया। इन बिंदुओं पर फर्जीवाड़ा पाते हुए एडीएम ने संबंधित अफसर को नोटिस जारी कर रिकवरी के लिए भी लिख दिया है। खबर है कि एडीएम की जांच रिपोर्ट कलेक्टर तक पहुंच गई है। मामले में बड़े स्तर पर कार्रवाई होनी है। इसलिए कलेक्टर ने जांच रिपोर्ट पर एक बार फिर से चर्चा करने एडीएम को बुलाया है।

नोटिस जारी किया गया है


X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना