घूम-घूमकर प्रदूषण जांचने का लाइसेंस, चला रहे स्थायी सेंटर

Rajnandgaon News - आरटीओ कार्यालय राजनांदगांव में एजेंटों की दखलंदाजी बढ़ गई है। यहां रेडियम पट्टी का घपला थमा नहीं है कि पीयूसी जांच...

Bhaskar News Network

Nov 10, 2019, 07:52 AM IST
Rajnandgaon News - chhattisgarh news license to check pollution by roaming running permanent centers
आरटीओ कार्यालय राजनांदगांव में एजेंटों की दखलंदाजी बढ़ गई है। यहां रेडियम पट्टी का घपला थमा नहीं है कि पीयूसी जांच में मनमानी उजागर हो गई है। रेडियम घपला अभी रुका भी नहीं है और पीयूसी केंद्र की गड़बड़ी उजागर हो चुकी है। मोबाइल यानी वैन पीयूसी (पाल्यूशन अंडर कंट्रोल) का लाइसेंस लेकर एजेंसी संचालक आरटीओ दफ्तर के बाहर स्थाई दुकान चला रहे है। जो नियम के खिलाफ है। इन्हें घूम-घमकर वाहनों के प्रदूषण की जांच करनी है।

सेंटर संचालक मनमानी पूर्वक कार्यालय में आने वाले लोगों से वाहनों की पीयूसी करा रहे हैं। पीयूसी की फीस भी मनमुताबिक लिया जा रहा है। जबकि आरटीओ से दो पहिया, चार पहिया वाहनों के लिए फीस निर्धारित है। फिर भी एजेंसी संचालकों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की जा रही है, क्योंकि कहीं न कहीं स्थानीय अफसरों का उन्हें संरक्षण मिला हुआ है। भास्कर बीते कई दिनों से परिवहन कार्यालय का मुआयना कर रही है, हर वक्त मोबाइल (वैन) पीयूसी केंद्र कार्यालय के बाहर ही खड़े रहते हैं, कम से कम दो सेंटर बाहर ही रहते हैं। खबर यह भी है कि कई बार बिना जांचे ही वाहनों को प्रमाणित कर दिया जाता है।

फिटनेस में पीयूसी अनिवार्य:भास्कर में पहले भी समाचार प्रकाशित कर बताया था कि आरटीओ में वाहनों को बिना परखे ही मालिकों को फिटनेस प्रमाण पत्र दिया जा रहा है। फिटनेस के तहत प्रदूषण जांच कराना भी अनिवार्य है, दो पहिया और कार व अन्य छोटे वाहनों का तो प्रदूषण जांच किया जा रहा है, लेकिन भारी वाहनों के प्रदूषण जांच में कोताही बरती जा रही है।

दो तरह के लाइसेंस जारी होते हैं: मोटर एक्ट के तहत वाहनों का हर छह महीने में पीयूसी कराना अनिवार्य है। इसलिए शासन ने पीयूसी के लिए एजेंसियों को लाइसेंस देने का फैसला किया। नियम के मुताबिक आरटीओ से दो तरह के लाइसेंस दिए जाते है, पहला स्थाई लाइसेंस जिसमें पीयूसी सेंटर किसी क्षेत्र में सेंटर खोलकर जांच करेंगे। दूसरा मोबाइल लाइसेंस जिसमें वैन या फिर किसी अन्य वाहनों में चलित पीयूसी सेंटर रहेगा, जो घूम-घूमकर वाहनों की जांच करेगा। लेकिन यहां उल्टी गंगा बह रही है।

परिवहन दिवस विशेष

गड़बड़ी: आरटीओ दफ्तर के बाहर खोल ली स्थायी दुकान

राजनांदगांव. आरटीओ कार्यालय के बाहर खड़े मोबाइल पीयूसी।

रेडियम में खेल अब तक चल रहा

गौरतलब है कि बीते दिनों भास्कर ने पड़ताल कर समाचार प्रकाशित की थी। जिसमें बताया गया था कि आरटीओ कार्यालय में किस तरह नियमों को ताक पर रखकर वाहनों में निम्न दर्जे का रेडियम लगाया जा रहा है, यह खेल अभी भी जारी है। दुर्घटना में कमी लाने के लिए नियमत: भारी वाहनों में आगे की ओर सफेद, पीछे लाल और दोनों साइड में पीला रंग का रेडियम लगाया जाना है, यह रेडियम मानक अनुरूप 3 एम का होना चाहिए। लेकिन स्थानीय कार्यालय में 3 एम से निम्न स्तर का रेडियम लगाया जा रहा है।

कार्रवाई की जाएगी


X
Rajnandgaon News - chhattisgarh news license to check pollution by roaming running permanent centers
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना