लिमिट खत्म, बारदाने का संकट केन्द्रों में 15 दिन का ही है स्टॉक

Rajnandgaon News - लिमिट का रोड़ा खत्म होते ही धान खरीदी केन्द्रों में किसानों की भीड़ बढ़ने लगी है। बड़ी संख्या में किसान उपज बेचने...

Jan 16, 2020, 07:46 AM IST
Rajnandgaon News - chhattisgarh news limit is over stock is only for 15 days in gunny crisis centers
लिमिट का रोड़ा खत्म होते ही धान खरीदी केन्द्रों में किसानों की भीड़ बढ़ने लगी है। बड़ी संख्या में किसान उपज बेचने पहुंच रहे हैं। इसके चलते केन्द्रों में अव्यवस्था की स्थिति बनी हुई है। दूसरी ओर पर्याप्त बारदाना नहीं होने से संकट गहराने लगा है। केन्द्रों में सिर्फ 15 दिन के लिए बारदाना स्टॉक है। जबकि एक माह के भीतर सभी किसानों का धान खरीदने का टारगेट दे दिया गया है। बारदानों की आपूर्ति नहीं हुई तो शेष बचे किसान धान नहीं बेच पाएंगे।

खरीदी केन्द्रों में वर्तमान में सबसे बड़ी समस्या जगह की बनी हुई है। दो दर्जन से अधिक केन्द्र ऐसे हैं जहां पर धान खरीदी से ज्यादा रखरखाव में पसीना बहाना पड़ रहा है। विडंबना है कि 31 लाख 15 हजार क्विंटल धान की खरीदी के एवज में 13 लाख 60 हजार 116.40 क्विंटल का ही उठाव हो पाया है। मार्कफेड की ओर से 11 लाख 50 हजार धान का डीओ जारी किया गया है।

किसानों की भीड़
यह भी समस्या: सॉफ्टवेयर 9 बजे के बाद बंद, पूरी एंट्री नहीं

राजनांदगांव. कन्हारपुरी खरीदी केन्द्र में बारदाने का संकट बना हुआ है।

नया स्टॉक मंगाया जाएगा

मार्कफेड की ओर से केंद्रों में 15 दिन के ही बारदाने का स्टॉक रखा गया है। इसके बाद खरीदी प्रभावित हो सकती है जबकि शासन की ओर से 15 फरवरी तक ही खरीदी तिथि तय की गई है। समय कम होने और बारदाने का संकट के बीच समिति प्रबंधकों को सभी किसानों का धान बेचने टारगेट दिया गया है। मार्कफेड के अफसरों का कहना है कि 15 दिन के बाद नया स्टॉक मंगाया जाएगा। इसकी तैयारी शुरू कर दी गई है।

बैंक को मिली राहत

लिमिट खरीदी का रोड़ा खत्म होने से जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक को लिंकिंग वसूली में राहत मिली है। लिमिट खरीदी के चक्कर में सैकड़ों किसान धान बेचने से वंचित रह जाते हैं, ऐसे में बैंक लिंकिंग वसूली नहीं कर पाता। वर्तमान में 21483.17 लाख की वसूली कर ली गई है।

परिवहन शुरू कर दिया गया है


परिवहन की यह है स्थिति

वहीं परिवहन के लिए 5 लाख 43 हजार क्विंटल धान का टीओ जारी किया है पर इसमें सिर्फ 3 लाख 30 हजार क्विंटल का उठाव कर पाएं हैं। इस वजह से केन्द्रों में धान जाम की स्थिति बनी हुई है। इधर लिमिट तो खत्म कर दिया गया है पर सॉफ्टवेयर खुले रखने का समय बढ़ाया नहीं गया है। इसके चलते समिति प्रबंधक केन्द्र में पहुंचे सभी किसानों का धान नहीं खरीद पा रहे हैं।

बाहर रख रहे हैं धान

इधर किसानों ने बताया कि टोकन लेकर केन्द्र पहुंच तो रहे हैं पर समिति प्रबंधक रखरखाव की समस्या बताकर दूसरे दिन बुला रहे हैं। ऐसे में परिवहन का खर्च डबल हो जाता है। किसानों ने बताया कि रखरखाव की समस्या होने की वजह से धान को बाहर रखना पड़ रहा है।

X
Rajnandgaon News - chhattisgarh news limit is over stock is only for 15 days in gunny crisis centers
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना