टूर्नामेंट के लिए फंड नहीं, टर्फ में भी गंदगी मैच से पूर्व सफाई के लिए करना होगा खर्च

Rajnandgaon News - अखिल भारतीय हॉकी प्रतियोगिता के रास्ते में कई रोड़े सामने आ रहे हैं। प्रतियोगिता पहले प्रशासनिक अनदेखी का शिकार...

Jan 15, 2020, 07:45 AM IST
Rajnandgaon News - chhattisgarh news no funds for the tournament the turf will also have to be spent for cleaning the dirt before the match
अखिल भारतीय हॉकी प्रतियोगिता के रास्ते में कई रोड़े सामने आ रहे हैं। प्रतियोगिता पहले प्रशासनिक अनदेखी का शिकार हुई, इसके बाद जनप्रतिनिधियों की कमजोरी, फंड का अभाव और अब टर्फ में जमी गंदगी भी खेल को प्रभावित करने वाली है। प्रशासन ने फरवरी में तो टूर्नामेंट के आयोजन का दावा कर दिया है, लेकिन इसके पहले टर्फ को तैयारी करने में भी राशि खर्च करनी होगी।

इंटरनेशल हॉकी स्टेडियम के टर्फ में गंदगी जम गई है। टर्फ में पानी डलते ही ये जमी गंदगी कीचड़ के रूप में सामने आती है। इसका असर खेल व खिलाड़ियों पर पड़ता है। पिछले साल टूर्नामेंट के पहले टर्फ की सफाई की गई थी, इस बार फिर टर्फ में ऐसी ही स्थिति बन गई है। धूल मिट्‌टी की परत टर्फ में जा घुसी है। सफाई के बिना टूर्नामेंट कराना संभव नहीं है। टर्फ की सफाई में ही पखवाड़े भर से अधिक का समय लग सकता है। सफाई में ही मोटी रकम खर्च करनी होगी।

देखरेख में लापरवाही
टर्फ भी फटने लगा: दिल्ली की टीम करती है टर्फ की सफाई

राजनांदगांव. अनदेखी के चलते टर्फ धीरे-धीरे उखड़ने लगा है।

टर्फ को साफ करने के िलए पर्याप्त पानी भी नहीं

इंटरनेशल स्टेडियम में टर्फ की सफाई के अलावा स्प्रिंकलर में भी सुधार की जरूरत है। खिलाड़ियों की मानें तो टर्फ में पानी की बौछार करने वाले सिस्टम सहित स्प्रिंकलर भी खराब हो चुके हैं। इसके चलते टर्फ के हर हिस्से में जरुरत के मुताबिक पानी का छिड़काव नहीं हो पा रहा है। अगर हॉकी प्रतियोगिता होती है तो इसके पहले दिक्कतों को भी दूर करना होगा।

उखड़ने लगा है टर्फ, यहां कोई एक्स्पर्ट तक नहीं

इंटरनेशनल स्टेडियम का निर्माण करोड़ों की लागत से तो किया गया है, लेकिन इसके मेंटेंनेस के नाम पर केवल खानापूर्ति हो रही है। टर्फ का ध्यान रखने कोई एक्सपर्ट भी मौजूद नहीं है। इसके चलते धीरे-धीरे टर्फ उखड़ने लगा है। हालात यह है कि मैदान का आधा हिस्सा पूरी तरह बर्बाद हो गया है। इसकी वजह केवल अनदेखी ही है। अब इसकी मरम्मत करनी होगी।

राजनांदगांव. मैदान में लगे इंटरलाकिंग भी उखड़ने लगे हैं।

10 लाख रुपए मिलता है फंड, खर्च 28 लाख तक

टूर्नामेंट के आयोजन जुड़े सदस्यों के मुताबिक शासन से इस प्रतियोगिता के लिए हर साल 10 लाख रुपए आवंटित किया जाता है, लेकिन इस साल अब तक ये राशि नहीं मिल पाई है। ये भी बड़ी वजह है कि प्रतियोगिता को लेकर प्रशासन सुस्त है। वहीं पूरे टूर्नामेंट में करीब 28 लाख रुपए तक खर्च अाता है। राजगामी और संगठनांें तक का सहयोग लिया जाता है।

आठ टीमें ही बुलाने की तैयारी, ताकि औपचारिकता पूरी हो

टूर्नामेंट नहीं होने के चलते शहर के हॉकी प्रेमियों में नाराजगी है। पहले ही प्रतियोगिता को लेकर विलंब की स्थिति बन चुकी है। हॉकी इंडिया के कैलेंडर बाद स्वीकृति का भी इंतजार है। ऐसे में आयोजन समिति इस बार केवल आठ टीमों के बीच ही मैच करा प्रतियोगिता की औपचारिकता पूरी करने का प्रयास कर रही है। महिला हॉकी प्रतियोगिता को पहले ही स्थगित करने का निर्णय लिया जा चुका है, अब इस प्रतियोगिता को भी समिति करने की तैयारी की जा रही है।

मैदान की सफाई नहीं हुई


Rajnandgaon News - chhattisgarh news no funds for the tournament the turf will also have to be spent for cleaning the dirt before the match
X
Rajnandgaon News - chhattisgarh news no funds for the tournament the turf will also have to be spent for cleaning the dirt before the match
Rajnandgaon News - chhattisgarh news no funds for the tournament the turf will also have to be spent for cleaning the dirt before the match
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना