50 करोड़ के मोटल व ओपन एयर थियेटर के लिए अब तक नहीं बन पाई परियोजना रिपोर्ट

Rajnandgaon News - केंद्र सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट में शामिल प्रसाद योजना के क्रियान्वयन में लेटलतीफी की जा रही है। केंद्रीय पर्यटन...

Oct 12, 2019, 07:55 AM IST
Rajnandgaon News - chhattisgarh news project report for 50 million motel and open air theater has not been completed yet
केंद्र सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट में शामिल प्रसाद योजना के क्रियान्वयन में लेटलतीफी की जा रही है। केंद्रीय पर्यटन मंत्रालय के पास अब तक परियोजना रिपोर्ट नहीं पहुंची है, इसलिए काम शुरू में लेटलतीफी हो रही है।

बता दें कि देश के 26 धार्मिक स्थलों को प्रसाद योजना के माध्यम से डेवलप कर विश्व स्तरीय सुविधाएं मुहैया कराने के लिए केंद्र ने 600 करोड़ रुपए की योजना बनाई है। इसमें छत्तीसगढ़ से केवल धर्मनगरी डोंगरगढ़ को चयनित किया गया है। यहां पर पहले फेज में 65 करोड़ रुपए विकास कार्यों के लिए मिलेंगे। प्रसाद योजना से ऊपर मंदिर पहाड़ी की ओर ऑक्सीजोन के समीप 9 एकड़ 52 डिसमिल जमीन मोटल व ओपन एयर थियेटर के लिए आरक्षित कर ली गई है। पहले ही फेज में मिलने वाली राशि में से 50 करोड़ रुपए का सर्व सुविधायुक्त हाईटेक मोटल व ओपन एयर थियेटर बनाने में खर्च किया जाएगा।

प्रस्तावित स्थल पर जाने के लिए रास्ते की जरूरत पड़ने पर दो संस्थानों की निजी जमीन भी मिल गई है तथा निजी जमीन मालिकों ने रास्ता देने के लिए सहमति भी दे दी है। परंतु अफसरों ने जमीन चयनित होने के बाद डीपीआर तैयार कर राज्य पर्यटन मंडल को अब तक रिपोर्ट नहीं भेजा है, जिसके चलते केंद्र से राशि की स्वीकृति अटकी हुई है। मामले में केंद्रीय पर्यटन मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल ने पत्र में भी उल्लेख किया है कि राज्य सरकार से परियोजना रिपोर्ट मिलने में लेटलतीफी होने से ही धरातल पर योजना के क्रियान्वयन में देरी हो रही है। परियोजना रिपोर्ट मिलने के बाद ही केंद्र सरकार प्रसाद योजना के लिए राशि स्वीकृत करेगी।

जानिए, कहां पर क्रियान्वयन में हो रही देरी: प्रसाद योजना में डोंगरगढ़ को शामिल करने के बाद निर्माण कार्यों के लिए राज्य सरकार को जमीन मुहैया कराना है, साथ ही विकास कार्यों के प्रपोजल व डीपीआर तैयार कर केंद्र को भेजना होगा। इसमें एसडीएम के माध्यम से परियोजना रिपोर्ट तैयार कर कलेक्टर राजनांदगांव छग पर्यटन मंडल को भेजेंगे, परंतु अब तक जिले से ही रिपोर्ट तैयार होकर राज्य सरकार तक नहीं पहुंची है। केंद्रीय पर्यटन मंत्री ने भी राज्य की ओर से 10 माह की देरी होने की बात कही है। आगामी दिनों में चुनावी आचार संहिता लगने से प्रोजेक्ट शुरू में फिर से देरी होगी।

2015 से चल रही प्रक्रिया: सुविधाएं मुहैया कराने बनाई गई है 600 करोड़ की योजना

डोंगरगढ़. ऑक्सीजोन के समीप साढ़े 9 एकड़ में प्रस्तावित है 50 करोड़ का मोटल व ओपन एयर थियेटर।

सरकार बदली पर नहीं हुआ क्रियान्वयन

प्रज्ञागिरि ट्रस्ट समिति के सचिव शैलेंद्र डोंगरे ने तत्कालीन केंद्रीय पर्यटन मंत्री डॉ. महेश शर्मा से मुलाकात कर डोंगरगढ़ में पर्यटन सुविधा बढ़ाने के लिए मुलाकात किया था। साथ ही उन्होंने विकास कार्यों का प्रपोजल भी सौंपा था। इसके बाद केंद्र ने राज्य सरकार को प्रसाद योजना के संबंध में सर्वे कराकर रिपोर्ट मांगी। 2 अप्रैल 2016 को छग पर्यटन मंडल ने कलेक्टर को डीपीआर तैयार करने निर्देशित किया। परंतु विडंबना यह है कि अब तक डीपीआर बनाकर परियोजना रिपोर्ट राज्य पर्यटन मंडल तक नहीं पहुंच पाई है।

जानिए, देश में अंतरराष्ट्रीय पर्यटकों का प्रतिशत

क्षेत्रीय सांस्कृतिक केंद्रों (जेडसीसी) के साथ दोनों पहलों की शुरूआत 2016-17 तक अंतरराष्ट्रीय पर्यटकों की वर्तमान प्रतिशत 0.68 है। प्रसाद योजना के माध्यम से देश के चयनित 26 स्थानों में विश्व स्तरीय सुविधाओं से युक्त बनाकर पर्यटकों का प्रतिशत 0.68 से एक प्रतिशत करने का लक्ष्य शामिल है। विदेशी पर्यटकों के आने से वित्तीय आय में बढ़ोतरी होती है।

पर्यटकों को विश्व स्तरीय सुविधा देने की पहल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार की पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए एक बहुत की विशेष पहल है। 50 करोड़ के मोटल व ओपन एयर थियेटर के अलावा 9.52 एकड़ जमीन में सत्संग हॉल, फूड कोर्ट, हस्तशिल्प कला शॉप, ई-लाइब्रेरी, म्यूजियम, मेडिटेशन हॉल, लॉन, लैंड स्कैपिंग, कैफेटेरिया आदि का निर्माण होना है। बता दें कि देश के चुनिंदा 26 धार्मिक स्थलों को डेवलप करने की योजना बनने के बाद प्रदेश से डोंगरगढ़ को चयनित किया गया। सुविधा विकसित करने के बाद केंद्र के पर्यटन मैप पर स्थान मिल जाएगा।

योजना के लिए बहुत जल्द स्वीकृति मिल जाएगी


X
Rajnandgaon News - chhattisgarh news project report for 50 million motel and open air theater has not been completed yet
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना