• Hindi News
  • Coronavirus
  • Coronavirus China Italy | Coronavirus Outbreak China Italy Iran USA Japan France Live Today News Updates World Cases Novel Corona COVID 19 Death Toll

कोरोना दुनिया में:42.32 लाख संक्रमित: अमेरिकी ने कहा- वैक्सीन रिसर्च का डाटा चुराने की साजिश रच रहे चीनी हैकर; डब्लूएचओ ने भारत को सराहा

वॉशिंगटन2 वर्ष पहले
शंघाई के डिज्नीलैंड थीम पार्क में मौजूद एक परिवार। इस पार्क को करीब दो महीने बंद रखा गया था। डब्लूएचओ ने सोमवार को कहा कि जिन देशों ने लॉकडाउन में जल्द ढील दी, वहां संक्रमण की दूसरी लहर देखने मिल रही है। चीन के वुहान से ही संक्रमण शुरू हुआ था। यहां 45 दिन बाद 6 मामले सामने आ चुके हैं। - Dainik Bhaskar
शंघाई के डिज्नीलैंड थीम पार्क में मौजूद एक परिवार। इस पार्क को करीब दो महीने बंद रखा गया था। डब्लूएचओ ने सोमवार को कहा कि जिन देशों ने लॉकडाउन में जल्द ढील दी, वहां संक्रमण की दूसरी लहर देखने मिल रही है। चीन के वुहान से ही संक्रमण शुरू हुआ था। यहां 45 दिन बाद 6 मामले सामने आ चुके हैं।
  • अमेरिका में अब तक 81 हजार से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं, जबकि 13 लाख से ज्यादा संक्रमित हैं
  • डब्लूएचओ ने कहा- जिन देशों ने लॉकडाउन में जल्द ढील दी, वहां संक्रमण की दूसरी लहर सामने आई
  • सऊदी अरब ने अर्थव्यवस्था को हो रहे नुकसान की भरपाई के लिए वैट 5 से 15 फीसदी कर दिया

दुनिया में संक्रमितों की संख्या 42 लाख 32 हजार 350 हो गई है। 2 लाख 85 हजार 743 की मौत हुई है। इसी दौरान 15 लाख 17 लाख हजार 483 स्वस्थ भी हुए हैं। कोरोनावायरस का वैक्सीन तैयार करने में भारत समेत कई देश जुटे हैं। अब अमेरिकी जांच एजेंसी एफबीआई और सायबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट्स ने वैक्सीन रिसर्च पर चेतावनी दी है। इन दोनों एजेंसियों ने कहा- चीन सरकार के हैकर्स वैक्सीन रिसर्च का डाटा चुराने की साजिश रच रहे हैं। वहीं, डब्लूएचओ ने महामारी से निपटने में भारत की तारीफ की है।

डब्लूएचओ ने कुवैत, जर्मनी, दक्षिण कोरिया और वुहान का उदाहरण देते हुए कहा है कि लॉकडाउन में ढील देते वक्त कई बातों का ध्यान रखना होगा। संगठन के मुखिया टेड्रोस एडनहोम ने सोमवार रात कहा- जिन देशों ने लॉकडाउन में ढील देने में हालात के हिसाब से फैसले नहीं किए, वहां संक्रमण की दूसरी लहर देखी जा रही है।

द. अफ्रीका में सड़कों पर उतरी मिलिट्री

कोरोनावायरस से बचने के लिए दुनिया के कई देशों में लॉकडाउन किया गया। लेकिन, दक्षिण अफ्रीका में जब लोगों ने इसका पालन नहीं किया, तो सुरक्षाबलों को सख्ती दिखानी पड़ी। जोहान्सबर्ग के अलेक्जेंड्रिया इलाके में पुलिस के साथ मिलिट्री को सड़कों पर गश्त करनी पड़ी, ताकि लोग लॉकडाउन का पालन करें। कई जगह तंग गलियों में सुरक्षाबलों ने छापामार कार्रवाई की और लॉकडाउन तोड़कर बाहर निकल रहे लोगों को वापस घरों में भेजा।

कोरोनावायरस : सबसे ज्यादा प्रभावित 10 देश

देशकितने संक्रमितकितनी मौतेंकितने ठीक हुए
अमेरिका13,76,31781,1572,58,3345
स्पेन2,68,143 26,7441,7,846
रूस2,21,3442,00939,801
ब्रिटेन2,23,06032,065 उपलब्ध नहीं
इटली2,19,81432,0501,06,286
फ्रांस1,76,97026,38056,038
जर्मनी1,71,8797,5691,44,400
ब्राजील1,62,69911,12364,957
तुर्की1,38,6573,78692,691
ईरान1,07,6036,64086,143

ये आंकड़े https://www.worldometers.info/coronavirus/ से लिए गए हैं। 

डब्लूएचओ : लॉकडाउन में ढील से संक्रमण बढ़ा
वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन के मुताबिक, जिन देशों ने लॉकडाउन में ढील देने में जल्दबाजी की, वहां संक्रमण की दूसरी लहर देखी जा रही है। डब्लूएचओ डायरेक्टर टेड्रोस एडनहोम घेब्रियेसुस ने कहा, “कुवैत, जर्मनी, दक्षिण कोरिया और वुहान के उदाहरण हमारे सामने हैं। वुहान में हमने फिर मामले देखे। जर्मनी में भी यही हुआ और दक्षिण कोरिया में भी यही खतरा है। अच्छी बात ये है कि इन सभी देशों के पास महामारी से निपटने की पूरी क्षमता है। 

ब्रिटेन : 1 जून से खेल शुरू होंगे
सरकार ने 1 जून से सभी खेल शुरू करने की मंजूरी दे दी है। हालांकि, इस दौरान दर्शक मौजूद नहीं रह सकेंगे। इन सभी खेलों का लाइव टेलिकास्ट किया जा सकेगा। हालांकि, इसके लिए भी पांच तरह की शर्तें रखी गई हैं। ‘द गार्डियन’ के मुताबिक, खेलों से संबंधित 60 पेज का दस्तावेज तैयार किया गया है। इसमें कहा गया है कि सरकार खेल गतिविधियां शुरू करने को तैयार है लेकिन, सोशल कॉन्टैक्ट्स को मंजूरी नहीं दी जाएगी। 

इटली : राहत की खबर
दो महीने बाद पहली बार ऐसा हुआ जब 24 घंटे में एक हजार से कम (999) संक्रमित आईसीयू में एडमिट किए गए। इसी दौरान 744 नए मामले सामने आए। ये भी 4 मार्च के बाद संक्रमितों का सबसे कम आंकड़ा है। शनिवार को 802 पॉजिटिव केस मिले थे। देश में कुल मामले 2 लाख 19 हजार 814 हो गए हैं। प्रधानमंत्री गिसेपी कोंटे कैबिनेट के साथ 59 करोड़ डॉलर के राहत पैकेज पर विचार कर रहे हैं। इसका इस्तेमाल अर्थव्यवस्था को गति देने में किया जाएगा।

इटली डेला पेसकेसिया में पैडल बोर्डिंग करते लोग। सरकार ने लॉकडाउन में कुछ राहत दी है। खासतौर पर उन हिस्सों में जो दूर दराज में हैं। यहां आईसीयू में रोज भर्ती होने वालों की संख्या भी सोमवार को एक हजार से कम रही।
इटली डेला पेसकेसिया में पैडल बोर्डिंग करते लोग। सरकार ने लॉकडाउन में कुछ राहत दी है। खासतौर पर उन हिस्सों में जो दूर दराज में हैं। यहां आईसीयू में रोज भर्ती होने वालों की संख्या भी सोमवार को एक हजार से कम रही।

अमेरिका : चीन की हरकत
जांच एजेंसी एफबीआई ने कोविड-19 वैक्सीन पर जारी रिसर्च को लेकर एक चेतावनी जारी की। इसमें सायबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट्स की राय भी शामिल है। चेतावनी के मुताबिक, ‘कोरोनावायरस की वैक्सीन पर दुनिया के कई देशों में तेजी से काम चल रहा है। कई देश सफलता के करीब हैं। ऐसे में चीन के हैकर्स वैक्सीन का रिसर्च डाटा चुराने की साजिश रच रहे हैं।’ यह रिपोर्ट वॉल स्ट्रीट जर्नल और न्यूयॉर्क टाइम्स में प्रकाशित की गई है। इतना ही नहीं चीन के हैकर्स कोरोना टेस्टिंग के आंकड़ों और तरीकों पर भी नजर रख रहे हैं। अमेरिकी अधिकारियों का आरोप है कि हैकर्स का सीधा संबंध वहां की सरकार से है। ये लोग शी जिनपिंग सरकार के इशारे पर ही काम कर रहे हैं।  

न्यूयॉर्क के एक अस्पताल में संक्रमित का इलाज करते डॉक्टर। यहां जांच एजेंसी एफबीआई और सायबर एक्सपर्ट्स की टीम ने चेतावनी दी है कि चीन के हैकर वैक्सीन का रिसर्च डाटा चोरी कर सकते हैं। बता दे कि दुनिया के कई देशों में कुल मिलाकर 109 वैक्सीन पर काम चल रहा है। इजराइल और इटली ने सफलता का दावा भी किया है।
न्यूयॉर्क के एक अस्पताल में संक्रमित का इलाज करते डॉक्टर। यहां जांच एजेंसी एफबीआई और सायबर एक्सपर्ट्स की टीम ने चेतावनी दी है कि चीन के हैकर वैक्सीन का रिसर्च डाटा चोरी कर सकते हैं। बता दे कि दुनिया के कई देशों में कुल मिलाकर 109 वैक्सीन पर काम चल रहा है। इजराइल और इटली ने सफलता का दावा भी किया है।

डब्लूएचओ : भारत की सराहना
इस संगठन की चीफ साइंटिस्ट सौम्या स्वामीनाथन ने महामारी से निपटने में भारत की कोशिशों की तारीफ की। यह उम्मीद भी जताई कि वैक्सीन तैयार करने में भी भारत अहम रोल अदा करेगा। सौम्या ने कहा, “दूसरे देशों की तुलना में भारत ने संक्रमण और मृत्यु दर काफी कम रखने में कामयाबी हासिल की।” उनके मुताबिक, संक्रमण कई महीनों या शायद कुछ साल तक रह सकता है।  

दक्षिण कोरिया : स्कूल खोलना टला
लॉकडाउन में ढील के बाद यहां संक्रमण बढ़ा। शनिवार को 54 मामले सामने आए। इसके बाद सरकार ने नाइटक्लब, जिम, बार और होटल फिर बंद कर दिए। कुछ और बंदिशें लगा दी गईं। बुधवार से स्कूल भी फिर शुरू होने थे। लेकिन, सोमवार को कहा गया कि स्कूल एक हफ्ते और नहीं खुलेंगे। इसके बाद सरकार समीक्षा करेगी। सरकार ने एजुकेशन डिपार्टमेंट से कहा है कि वो एक हफ्ते में ऑनलाइन एजुकेशन का पूरा प्लान बनाए। सियोल समेत बाकी शहरों में टेस्टिंग फैसेलिटीज बढ़ाई जा रही हैं। 

दक्षिण कोरिया की राजधानी सियोल में सोमवार को एक टेस्टिंग सेंटर के बाहर मौजूद लोग। यहां संक्रमण की दूसरी लहर आती दिख रही है। लॉकडाउन में ढील के बाद अकेले सियोल में ही 54 मामले सामने आ चुके हैं।
दक्षिण कोरिया की राजधानी सियोल में सोमवार को एक टेस्टिंग सेंटर के बाहर मौजूद लोग। यहां संक्रमण की दूसरी लहर आती दिख रही है। लॉकडाउन में ढील के बाद अकेले सियोल में ही 54 मामले सामने आ चुके हैं।

पोलैंड : चुनाव में दिक्कत
रविवार को यहां राष्ट्रपति चुनाव के लिए वोटिंग थी। ‘द गार्डियन’ के मुताबिक, वोटिंग 0 प्रतिशत रही। यानी किसी ने वोट नहीं डाला। यहां दो बातें समझने लायक हैं। पहली- सरकार और विपक्ष महामारी के दौर में चुनाव रद्द करने पर बातचीत कर रहे थे। सहमति नहीं बनी। दूसरी- मतदान आधिकारिक तौर पर रद्द नहीं किया गया। लेकिन, कई पोलिंग बूथ खुले ही नहीं। 

पार्टियों में तनातनी 

यहां लॉ एंड जस्टिस पार्टी के नेतृत्व वाली गठबंधन सरकार है। विपक्ष का सवाल है कि सरकार कोविड-19 जैसे खतरे के बावजूद चुनाव क्यों करा रही है, ये लोकतंत्र के खिलाफ है। दूसरी तरफ, सरकार का कहना है कि चुनाव समय पर कराए जाने जरूरी हैं। अब लोगों के पास विकल्प है कि वो बुधवार तक पोस्टल बैलेट के जरिए मतदान कर सकें। 

पोलैंड के शहर सोपोत के एक बीच पर रविवार को टहलते लोग। यहां महामारी के बीच चुनाव कराने की कोशिश विफल हो गई है। लोग मतदान करने नहीं पहुंचे। ज्यादातर पोलिंग स्टेशन्स पर ताले नजर आए।
पोलैंड के शहर सोपोत के एक बीच पर रविवार को टहलते लोग। यहां महामारी के बीच चुनाव कराने की कोशिश विफल हो गई है। लोग मतदान करने नहीं पहुंचे। ज्यादातर पोलिंग स्टेशन्स पर ताले नजर आए।

अमेरिका : पुरानी एयरलाइंस बंद होगी
विश्व की दूसरी सबसे पुरानी एयरलाइंस एविएंका दिवालिया हो चुकी है। सीएनएन के मुताबिक, कंपनी ने न्यूयॉर्क की जिला अदालत में एक याचिका दायर कर यह जानकारी दी है। याचिका में कहा गया है कि महामारी के दौर में वह आर्थिक तौर पर लगभग खत्म हो चुकी है। लिहाजा, भविष्य में उसके एयरक्राफ्ट ऑपरेशनल नहीं हो सकेंगे। 

चीन : बीजिंग में छात्रों को स्मार्ट ब्रेसलेट्स
राजधानी बीजिंग में स्कूल फिर शुरू हो गए हैं। छात्रों को सरकार स्मार्ट ब्रेसलेट्स देने जा रही है जो उनके टेम्परेचर की जानकारी देते रहेंगे। इसके लिए डाटा सेंटर बनाया गया है। ये सभी स्टूडेंट्स के टेम्परेचर को रियल टाइम मॉनिटर करेगा। किसी भी छात्र का टेम्परेचर अगर ज्यादा हुआ तो इसकी जानकारी हेल्थ डिपार्टमेंट को भेजी जाएगी। यह जानकारी बीजिंग डेली अखबार ने सरकार द्वारा जारी बयान के आधार पर दी है। 

चीन में राजधानी बीजिंग समेत कई शहरों में स्कूल फिर खोले जा चुके हैं। बीजिंग में छात्रों को स्मार्ट ब्रेसलेट दिए जा रहे हैं। इनके जरिए स्टूडेंट्स के टेम्परेचर पर नजर रखी जा सकेगी।
चीन में राजधानी बीजिंग समेत कई शहरों में स्कूल फिर खोले जा चुके हैं। बीजिंग में छात्रों को स्मार्ट ब्रेसलेट दिए जा रहे हैं। इनके जरिए स्टूडेंट्स के टेम्परेचर पर नजर रखी जा सकेगी।

ब्रिटेन : कोरोनावायरस रिकवरी प्लान
बोरिस जॉनसन सरकार ने सोमवार को संक्रमण से निपटने के लिए तीन चरणों वाली योजना जारी की। पहला चरण- बुधवार से शुरू होगा। लोग घर से निकलकर ऐहितियाती उपायों का पालन करते हुए दोस्तों से मिल सकेंगे। इंग्लैंड में ड्राइविंग भी की जा सकेगी। जो लोग घर से काम नहीं कर सकते। अपने वाहन से ऑफिस जा सकेंगे। दूसरा चरण- 1 जून से। गैरजरूरी कारोबार शुरू हो सकेगा। गाइडलाइंस का पालन करते हुए कुछ स्कूल खुल सकते हैं। तीसरा चरण- 4 जुलाई से। कुछ और कारोबार शुरू हो सकते हैं। हालांकि, ये दो चरणों की समीक्षा के बाद तय किया जाएगा।

सोमवार को लंदन के एक बस स्टेशन पर मौजूद महिलाएं। ब्रिटिश सरकार ने तीन सूत्रीय कोरोनावायरस रिकवरी प्लान जारी किया है। इसमें लोगों को ऐहतियात के साथ घर से निकलने की छूट दी गई है।
सोमवार को लंदन के एक बस स्टेशन पर मौजूद महिलाएं। ब्रिटिश सरकार ने तीन सूत्रीय कोरोनावायरस रिकवरी प्लान जारी किया है। इसमें लोगों को ऐहतियात के साथ घर से निकलने की छूट दी गई है।

रूस : सोमवार से लॉकडाउन राहत
संक्रमण के मामलों में रूस दुनिया में तीसरे स्थान पर पहुंच गया है। लेकिन, सरकार लॉकडाउन में ढील देने जा रही है। राष्ट्रपति पुतिन ने सोमवार को कहा, “कुछ लोग काम पर जा सकेंगे। सार्वजनिक स्थानों पर प्रतिबंध पहले जैसे रहेंगे। हमारे सामने रास्ता बहुत मुश्किल है। गलती की गुंजाइश नहीं है।” मॉस्को में सख्त प्रतिबंध जारी रहेंगे। सरकार का यह कदम अर्थव्यवस्था को संभावित नुकसान से बचाने के लिए है।

सोमवार को राष्ट्र के नाम संदेश देते रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन। इकोनॉमी को नुकसान न हो, इसलिए सरकार ने लॉकडाउन में राहत का फैसला किया है। ये फैसला हैरान करने वाला है क्योंकि संक्रमण के मामलों के हिसाब से रूस दुनिया में अब तीसरे स्थान पर पहुंचा चुका है।
सोमवार को राष्ट्र के नाम संदेश देते रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन। इकोनॉमी को नुकसान न हो, इसलिए सरकार ने लॉकडाउन में राहत का फैसला किया है। ये फैसला हैरान करने वाला है क्योंकि संक्रमण के मामलों के हिसाब से रूस दुनिया में अब तीसरे स्थान पर पहुंचा चुका है।

सऊदी अरब : वैट तीन फीसदी बढ़ा
यहां वैल्यू एडेड टैक्स यानी वैट 5 से 15 फीसदी कर दिया गया है। 1 जुलाई से यह प्रभावी होगा। सरकार संक्रमण से निपटने के लिए खर्च किए जा रहे पैसे की भरपाई कई तरीकों से कर रही है। वित्त मंत्री मोहम्मद अजदान के मुताबिक, देश की अर्थव्यवस्था को संभालना बेहद जरूरी है। ऑयल की डिमांड में कमी की वजह से सऊदी अर्थव्यवस्था पर गंभीर असर हुआ है। सरकारी खर्च में भी कटौती के कई कदम उठाए गए हैं। अमीर तबके पर आने वाले दिनों में कुछ नए टैक्स लगाए जा सकते हैं। पुराने करों में बढ़ोतरी की जा सकती है। 

तस्वीर 2 मई की है। रियाद के एक शॉपिंग मॉल में महिलाएं खरीदारी कर रही हैं। यहां सरकार ने अर्थव्यवस्था सुधारने के लिए वैट तीन गुना बढ़ा दिया है।
तस्वीर 2 मई की है। रियाद के एक शॉपिंग मॉल में महिलाएं खरीदारी कर रही हैं। यहां सरकार ने अर्थव्यवस्था सुधारने के लिए वैट तीन गुना बढ़ा दिया है।

बेलारूस : लापरवाही से बढ़े मामले
विक्ट्री डे परेड हो या सीमाओं को खुला रखना। बेलारूस सरकार गंभीर दिखाई नहीं दी। उसने संक्रमण रोकने के लिए कोई सख्त कदम नहीं उठाया। 24 घंटे में यहां 933 नए मामले सामने आए। कुल आंकड़ा 24 हजार हो गया है। 135 लोगों की मौत हो चुकी है। यहां राष्ट्रपति ने बॉर्डर सील करने से इनकार कर दिया था। इसके अलावा 9 मई को विक्ट्री डे परेड भी हुई थी। इसमें हजारों लोग शामिल हुए थे। इसके बाद संक्रमण तेजी से बढ़ा। दो दिन में करीब दो हजार नए केस सामने आए। 

तस्वीर 9 मई की है। बेलारुस में विक्ट्री डे परेड हुई थी। सैनिकों के अलावा हजारों आम लोग भी इसे देखने मौजूद थे। इसके बाद यहां संक्रमण दर तेज हुई। 24 घंटे में 933 नए मामले सामने आए। संक्रमितों की कुल संख्या 24 हजार हो गई है।
तस्वीर 9 मई की है। बेलारुस में विक्ट्री डे परेड हुई थी। सैनिकों के अलावा हजारों आम लोग भी इसे देखने मौजूद थे। इसके बाद यहां संक्रमण दर तेज हुई। 24 घंटे में 933 नए मामले सामने आए। संक्रमितों की कुल संख्या 24 हजार हो गई है।

ईरान : संक्रमण पर काबू नहीं
यहां बंदिशों में ढील का नुकसान होता दिखाई दे रहा है। 24 घंटे में 1683 नए मामले दर्ज किए गए। 11 अप्रैल के बाद यह सबसे बड़ी संख्या है। इसी दौरान 45 लोगों ने दम तोड़ा। अब तक कुल 6685 संक्रमितों की मौत हो चुकी है। विपक्ष के मुताबिक, सरकार सही आंकड़े छिपा रही है। देश में ज्यादातर बाजार और कारोबार फिर शुरू हो गए हैं। इस दौरान लोग ऐहतियात बरतने भी तैयार नहीं हैं। 

ईरान में लॉकडाउन में ढील दी गई तो संक्रमित बढ़ने लगे। 24 घंटे में 1683 नए मामले दर्ज किए गए। 11 अप्रैल के बाद यह सबसे बड़ी संख्या है। तस्वीर 8 मई को तेहरान के एक मनी एक्सचेंज सेंटर की है।
ईरान में लॉकडाउन में ढील दी गई तो संक्रमित बढ़ने लगे। 24 घंटे में 1683 नए मामले दर्ज किए गए। 11 अप्रैल के बाद यह सबसे बड़ी संख्या है। तस्वीर 8 मई को तेहरान के एक मनी एक्सचेंज सेंटर की है।

ऑस्ट्रेलिया : क्रिसमस जैसी भीड़
सरकार ने यहां प्रतिबंधों में ढील दी तो शॉपिंग सेंटर्स और सड़कों पर भीड़ नजर आने लगी। परेशानी ये है कि लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं कर रहे हैं। इससे संक्रमण बढ़ने का खतरा है। साउथ कोरिया में भी यही दिक्कत हुई थी। वहां अब फिर नाइट क्लब, बार और होटल बंद कर दिए गए। ढील के बाद ब्रिस्बेन के एक व्यक्ति ने कहा- यहां ठीक वैसी ही भीड़ नजर आ रही है, जैसी क्रिसमस के दौरान होती है।

ब्रिटेन: अदालतें खुलेंगी

इंग्लैंड और वेल्स में अगले हफ्ते से अदालतें काम करना शुरू कर देंगी। मुख्य न्यायधीश लॉर्ड बर्नेट ने यह जानकारी दी। कहा, “शुरुआत में कुछ जरूरी केस ही सुने जाएंगे। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग समेत सभी गाइडलाइंस का पालन किया जाएगा। इससे हमें यह भी अंदाजा हो जाएगा कि संक्रमण के इस दौर में हम न्यायिक कामकाज बड़े स्तर पर कैसे कर सकते हैं।”

लंदन में मास्क पहनकर काम पर जाता व्यक्ति। प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने लॉकडाउन 1 जून तक बढ़ा दिया है।
लंदन में मास्क पहनकर काम पर जाता व्यक्ति। प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने लॉकडाउन 1 जून तक बढ़ा दिया है।

रूस: 11 हजार से ज्यादा नए मामले 

रूस में 24 घंटे में 11 हजार 656 नए मामले मिले। 94 की जान गई है। संक्रमण का कुल आंकड़ा 2 लाख 21 हजार 344 हो गया। 2009 की मौत हो चुकी है। संक्रमण के मामले में रूस अब अमेरिका और स्पेन के बाद तीसरे नंबर पर आ गया है।

यूरोप में लॉकडाउन में छूट

फ्रांस :  आज से प्राइमरी स्कूल खुलेंगे। कपड़ों, किताबों के अलावा सैलून और फूल के स्टोर भी शुरू होंगे। 

बेल्जियम : आज से कई बिजनेस फिर शुरू होंगे। सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखना होगा। रेस्टोरेंट, बार और कैफे बंद ही रहेंगे।

नीदरलैंड : यहां भी प्राइमरी स्कूल दोबारा खुलेंगे। लाइब्रेरी, फिजियोथेरेपिस्ट, ड्राइविंग स्कूल और हेयरड्रेसर की दुकानें भी फिर शुरू होंगी। 

स्विट्जरलैंड : प्राइमरी और मिडिल स्कूल फिर से खुलेंगे। क्लास में बच्चों की संख्या कम रहेगी। कुछ प्रतिबंधों के साथ रेस्तरां, बुकशॉप और म्यूजियम भी खोले जा सकते हैं।

स्पेन : कुछ इलाकों में दस लोगों तक जमा होने की अनुमति दी जाएगी। रेस्टोरेंट सोशल डिस्टेंसिंग नियमों को ध्यान में रखते हुए फिर से खोले जा सकते हैं।

डेनमार्क : शॉपिंग सेंटर सोमवार फिर शुरू होंगे। पोलैंड में भी होटल इस सप्ताह खुल सकते हैं। विदेशी पर्यटकों को अभी भी दो सप्ताह के लिए क्वारैंटाइन किया जाएगा।

जर्मनी, ऑस्ट्रिया और इटली जैसे अन्य यूरोपीय देशों ने पहले ही अपने प्रतिबंधों को कम करना शुरू कर दिया है।

फ्रांस के एक पार्क में मौजूद लोग। देश में सोमवार से किताब की दुकान, सैलून समेत कई चीजें दोबारा खुल गईं।
फ्रांस के एक पार्क में मौजूद लोग। देश में सोमवार से किताब की दुकान, सैलून समेत कई चीजें दोबारा खुल गईं।

सिंगापुर: 486 नए केस 

सिंगापुर में विदेशी मजदूरों में संक्रमण के मामले बढ़ते जा रहे हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को बताया कि 24 घंटे में 486 नए मामले सामने आए हैं। इनमें केवल दो केस स्थानीय लोगों के हैं, बाकि विदेशी मजदूरों के हैं। देश में अब तक 23 हजार 822 मामलों की पुष्टि हो चुकी है।

कुवैत : भारतीय डॉक्टर की मौत

कुवैत में संक्रमण से 54 साल के भारतीय डेंटिस्ट की मौत हो गई। देश में संक्रमण से अब तक दो स्वास्थ्यकर्मियों की मौत हो चुकी है। डॉ वासुदेव राव लगभग 15 साल से कुवैत में रह रहे थे। राव सरकार के स्वामित्व वाली कंपनी कुवैत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन की सहायक कंपनी कुवैत ऑयल में काम करते थे। वे कुवैत में इंडियन डेंटिस्टों के संगठन के भी सदस्य थे।

जर्मनी: संक्रमण का आंकड़ा बढ़ा

लॉकडाउन प्रतिबंधों में ढील देने के बाद जर्मनी में संक्रमण के मामले बढ़ गए हैं। रॉबर्ट कोच इंस्टीट्यूट के मुताबिक, जर्मनी में संक्रमण का रीप्रोडक्शन रेट फिलहाल 1 से बढ़कर 1.3 हो गया है यानी एक संक्रमित व्यक्ति ज्यादा लोगों को बीमार कर सकता है। लॉकडाउन हटाने की मांग को लेकर शनिवार को हजारों लोगों ने प्रदर्शन किया था। इससे पहले, जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल ने बुधवार को 16 राज्यों के नेताओं से बातचीत करने के बाद लॉकडाउन में छूट की घोषणा की थी। यहां एक लाख 71 हजार से ज्यादा लोग संक्रमित हैं, जबकि 7569 की मौत हो चुकी है।

जर्मनी में लॉकडाउन में छूट के बाद चर्च भी खोल दिए गए। बर्लिन के कैथेड्रल में लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए प्रार्थना कर रहे हैं।
जर्मनी में लॉकडाउन में छूट के बाद चर्च भी खोल दिए गए। बर्लिन के कैथेड्रल में लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए प्रार्थना कर रहे हैं।

अमेरिका: उपराष्ट्रपति क्वारैंटाइन नहीं होंगे

अमेरिकी उपराष्ट्रपति के कार्यालय ने रविवार को कहा कि वे 14 दिनों के लिए क्वारैंटाइन नहीं होंगे। शुक्रवार को उनकी प्रवक्ता कोरोना पॉजिटिव मिली थी। इसके बाद पेंस की भी जांच की गई थी, लेकिन उनका टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव निगेटिव आई। वहीं, व्हाइट हाउस में ट्रम्प के सैन्य सहयोगी की भी रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। इसके बाद टास्क फोर्स में शामिल डॉ. एंथनी फॉसी भी शनिवार को सेल्फ क्वारैंटाइन हो गए।

  • अमेरिका में 24 घंटे में 776 लोगों की जान गई है, जबकि 20 हजार से ज्यादा संक्रमण के मामले मिले हैं।
  • देश में मरने वालों की संख्या 80 हजार से ज्यादा हो गई है, जबकि 13 लाख से ज्यादा मरीज मिल चुके हैं।
  • डेमोक्रेटिक गवर्नर एंड्रयू क्यूमो ने कहा- न्यूयॉर्क के केयर होम्स में हफ्ते में दो बार कोरोनावायरस का टेस्ट किया जाना चाहिए।
  • अमेरिका में करीब 25 हजार मौतें केयर होम्स में हुई हैं, जिसमें 5300 केवल न्यूयॉर्क में हुई।
  • न्यूयॉर्क और आस-पास के इलाकों में 15 मई के बाद बिजनेस खोले जा सकते हैं।
  • न्यूयॉर्क अमेरिका में महामारी को एपिसेंटर बना हुआ है। यहां 26,670 लोगों की जान जा चुकी है, जबकि तीन लाख 35 हजार 395 केस मिल चुके हैं।
न्यूयॉर्क में मास्क पहनकर घूमते लोग। यह राज्य अमेरिका में सबसे ज्यादा प्रभावित है। यहां अब तक 26 हजार से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं।
न्यूयॉर्क में मास्क पहनकर घूमते लोग। यह राज्य अमेरिका में सबसे ज्यादा प्रभावित है। यहां अब तक 26 हजार से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं।

ब्रिटेन: 31 हजार से ज्यादा मौतें

ब्रिटेन में अब तक 31 हजार से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है। यहां अब तक दो लाख 19 हजार 183 लोग संक्रमित हैं। यह दुनिया का तीसरा सबसे ज्यादा प्रभावित देश है। प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने लॉकडाउन 1 जून तक बढ़ा दिया है। हालांकि, इस दौरान ज्यादा कड़े नियम नहीं रहेंगे। पीएम ने अब ‘स्टे होम’ की जगह ‘स्टे अलर्ट’ नारा दिया है। उन्होंने कहा कि पब्लिक प्लेस 1 जुलाई से खोले जा सकेंगे।

लंदन में एक दीवार पर मास्क पहने युवक का चित्र बनाया गया है। ब्रिटेन दुनिया का तीसरा सबसे ज्यादा प्रभावित देश बन गया है।
लंदन में एक दीवार पर मास्क पहने युवक का चित्र बनाया गया है। ब्रिटेन दुनिया का तीसरा सबसे ज्यादा प्रभावित देश बन गया है।

प्रतिबंधों में छूट के बाद ब्रिटेन में क्या-क्या बदलेगा?

  • लोगों को बुधवार से एक्सरसाइज करने, पार्क में बैठने या धूप सेंकने और घर के सदस्यों के साथ खेलने की अनुमति होगी।
  • दो अलग-अलग घर के लोग पार्क में मिल सकेंगे, लेकिन उन्हें दो मीटर की दूरी का ध्यान रखना होगा।
  • जो लोग घर से काम नहीं कर सकते, वे ऑफिस जा सकते हैं, लेकिन उन्हें पब्लिक ट्रांसपोर्ट से बचना चाहिए।
  • जितना हो सके लोगों को घर में ही रहना चाहिए।

अमेरिका :  200 पाकिस्तानी नागरिक रवाना
अमेरिका के वॉशिंगटन डीसी से इस्लामाबाद के लिए रविवार को पहली फ्लाइट 200 पाकिस्तानी नागरिकों को लेकर रवाना हुई।  सरकार ने दूसरे देशों में फंसे अपने नागरिकों को निकालने के लिए 6 चार्टर फ्लाइट्स की व्यवस्था की है। पाकिस्तान के दूतावास ने कहा कि अमेरिका में करीब 1500 पाकिस्तानी फंसे हैं। दूसरे फ्लाइट से सोमवार को 150 छात्रों को ले जाया जाएगा। देश में 30 हजार से ज्यादा केस मिल चुके हैं, जबकि 600 ज्यादा मौतें हो चुकी हैं।

चीन: वुहान में 5 नए केस मिले

बीबीसी के मुताबिक, चीन के शुलान शहर में संक्रमण के बढ़ते मामलों के बाद लॉकडाउन लगा दिया गया है। एक दिन पहले यहां 11 नए मामले सामने आए थे। बताया जाता है कि सभी मामले एक कपड़े धोने वाली महिला के संपर्क में आने के बाद बढ़े। महिला की कोई ट्रैवल हिस्ट्री नहीं है। चीन में महामारी का एपिसेंटर रहे वुहान से लॉकडाउन हटने के बाद पहली बार पांच नए केस सामने आए। जानकारी के मुताबिक, सभी एक ही जगह रहते थे। एक दिन पहले भी यहां एक केस मिला था। देश में अब तक 82 हजार 918 मामले मिल चुके हैं।

प्रतिबंध हटने के बाद बीजिंग के एम्यूजमेंट पार्क में एक झूले का लुत्फ लेेते लोग।
प्रतिबंध हटने के बाद बीजिंग के एम्यूजमेंट पार्क में एक झूले का लुत्फ लेेते लोग।

इटली: 24 घंटे में सबसे कम मामले दर्ज
इटली में 24 घंटे में 802 नए मामले सामने आए हैं। इससे यहां 165 और लोगों की मौत हुई है। पिछले दो महीनों में यहां एक दिन में सबसे कम मामले दर्ज किए गए हैं। इटली में अब तक 30,560 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि कुल 2 लाख 19 हजार 70 संक्रमित हैं।

इटली की सिल्विया रोमानो रोम के सियाम्पिनो सैन्य हवाई अड्डे पर अपने परिवार से मिलती हुईं। उनका 18 महीने पहले केन्या में बंदूकधारियों ने अपहरण कर लिया था।
इटली की सिल्विया रोमानो रोम के सियाम्पिनो सैन्य हवाई अड्डे पर अपने परिवार से मिलती हुईं। उनका 18 महीने पहले केन्या में बंदूकधारियों ने अपहरण कर लिया था।

ब्राजील: 1.6 लाख संक्रमित

ब्राजील में मामले बढ़कर 1 लाख 62 हजार 699 हो गए हैं। मरने वालों का आंकड़ा 11 हजार के पार पहुंच गया है। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार 24 घंटे में 6760 नए मामले सामने आए हैं और 496 लोगों की मौत हुई है। शनिवार को यहां 10 हजार 611 नए मामले सामने आए थे और 730 लोगों की मौत हुई थी। यहां अब तक  61 हजार से ज्यादा मरीज ठीक हो चुके हैं। शनिवार को ब्राजील की संसद ने कोरोना से मरने वाले मरीजों की याद में तीन दिन के राष्ट्रीय शोक की घोषणा की थी।

ब्राजील में मदर्स डे के मौके पर ड्राइवरों पर पवित्र जल छिड़कते प्रीस्ट। देश में संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है।
ब्राजील में मदर्स डे के मौके पर ड्राइवरों पर पवित्र जल छिड़कते प्रीस्ट। देश में संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है।

तुर्की: 1.38 लाख संक्रमित
तुर्की में 24 घंटे में 1542 नए मामले सामने आए हैं और 47 लोगों की मौत हुई है। स्वास्थ्य मंत्री फाहरेतिन कोजा ने बताया कि तुर्की में अब तक कोरोना के 1 लाख 38 हजार 657 मामले सामने आए हैं। इससे 3786 लोगों की मौत हुई है। यहां 24 घंटे में 36 हजार 187 टेस्ट हुए हैं। अब तक कुल 13 लाख 70 हजार से ज्यादा टेस्ट हो चुके हैं। तुर्की में 11 मार्च के कोरोना का पहला मामला सामने आया था।

ये भी पढ़ें

न्यूयॉर्क में रहस्यमय बीमारी से 3 बच्चों की मौत, अमेरिका के 7 राज्यों में ऐसे 100 मामले सामने आए