• Hindi News
  • Coronavirus
  • Coronavirus USA Brazil China Russia Update; Reported Cases And Deaths By Worldwide Today Latest Data

कोरोना दुनिया में:सबसे ज्यादा ओमिक्रॉन केस साउथ अफ्रीका में, लेकिन हॉस्पिटल जाने की नहीं पड़ रही जरूरत

5 महीने पहले

कोरोना के ओमिक्रॉन वैरिएंट से सबसे ज्यादा प्रभावित साउथ अफ्रीका में हैं, लेकिन वहां संक्रमितों को अस्पताल जाने की जरूरत नहीं पड़ रही है। राष्ट्रपति सिरिल रामाफोसा ने बताया है कि अफ्रीका के अस्पतालों में भर्ती होने वाले मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी नहीं हो रही है। रामाफोसा इन दिनों घाना की यात्रा पर हैं। उन्होंने ही ओमिक्रॉन वैरिएंट का पता लगाने के बाद दक्षिण अफ्रीका और कई अन्य अफ्रीकी राज्यों में ट्रैवल बैन लगाए थे।

कोरोना से जुड़े अन्य प्रमुख अपडेट्स...

अमेरिका और ब्रिटेन पहुंचने वाले यात्रियों को दिखानी होगी निगेटिव टेस्ट रिपोर्ट
ओमिक्रॉन के बढ़ते केस के बीच अमेरिका और ब्रिटेन ने आने वाले सभी यात्रियों के लिए कोरोना निगेटिव रिपोर्ट अनिवार्य कर दी है। अमेरिका में 20 से ज्यादा लोगों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। जबकि ब्रिटेन में ओमिक्रॉन के 160 से ज्यादा मामले दर्ज किए गए हैं। ऐसे में ब्रिटेन ने यात्रियों के लिए नियमों को कड़ा किया है। ब्रिटेन आने वाले 12 साल से ऊपर के सभी लोगों को PCR या LFD टेस्ट रिपोर्ट दिखानी होगी।

फ्रांस में 1 करोड़ से ज्यादा लोगों को लगी बूस्टर डोज
ओमिक्रॉन के बढ़ते मामलों के बीच फ्रांस ने अपने 1 करोड़ नागरिकों को बूस्टर डोज लगाया है। फ्रांस के स्वास्थ्य मंत्री ओलिवियर वेरन ने सोशल मीडिया पर इस बात की जानकारी दी है। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक फ्रांस में अब तक 5.20 करोड़ लोगों को वैक्सीन की एक डोज लग चुकी है। फ्रांस ने फाइजर/बायोएनटेक, मॉडर्ना, जॉनसन एंड जॉनसन और एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन को मंजूरी दी है।

शुक्रवार को फ्रांस ने 51,624 नए कोरोना केस रजिस्टर कराए। यहां पर एक हफ्ते में कोरोना मामलों में करीब 60% इजाफा हुआ है, जिसके चलते सरकार की चिंता बढ़ गई है। सोमवार को स्वास्थ्य मंत्री बैठक करने जा रहे हैं। इसमें वे कोरोना संक्रमण रोकने के लिए अतिरिक्त उपायों पर चर्चा करेंगे।

नए कोरोना वैरिएंट ओमिक्रॉन की चपेट में आए 38 देशों में इससे कोई मौत नहीं
नया कोरोना वैरिएंट ओमिक्रॉन अब तक दुनिया के 38 देशों में पहुंच चुका है, लेकिन राहत की बात यह है कि वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) के मुताबिक, दो सप्ताह में अब तक किसी भी देश में इस वैरिएंट से संक्रमित व्यक्ति की मौत की खबर नहीं आई है। ओमिक्रॉन का पहला मामला 24 नवंबर को दक्षिण अफ्रीका में मिला था।

WHO के डायरेक्टर (इमरजेंसी) माइकल रयान ने कहा है कि बेहद ज्यादा म्यूटेशन वाला यह कोविड-19 स्ट्रेन कितना खतरनाक है, इसकी सही जानकारी मिलने में अभी कई सप्ताह लगेंगे। साथ ही यह वैक्सीन के खिलाफ कैसा प्रभाव दिखा रहा है, यह भी कुछ समय बाद ही स्पष्ट हो पाएगा।

खबरें और भी हैं...