पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Coronavirus
  • Coronavirus Vaccine Side Effects; COVID Vaccine FAQs Updated | How To Register For Vaccination In India? Here's What AIIMS Director Says

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भास्कर एक्सप्लेनर:कोरोना वैक्सीन के लिए रजिस्ट्रेशन कैसे होगा? वैक्सीन किसे लगेगी? एम्स डायरेक्टर से जानिए जवाब

2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • रजिस्ट्रेशन, पात्रता, शेड्यूल से जुड़े सभी सवाल पर केंद्र ने जारी किया वीडियो
  • तीन हिस्सों में जारी वीडियो में वैक्सीनेशन की पूरी प्रोसेस को समझाया गया है

भारत में अगले हफ्ते वैक्सीनेशन शुरू करने की तैयारी है। सरकार ने भी कहा है कि 13-14 जनवरी को वैक्सीनेशन शुरू हो सकता है। इस संबंध में 3 जनवरी को दो वैक्सीन- कोवीशील्ड और कोवैक्सिन को मंजूरी भी दे दी है।

फिर सवाल उठते हैं कि किसे और कब मिलेगी वैक्सीन? क्या वैक्सीन सबको एक साथ लगेगी? वैक्सीन लगने के बाद शरीर में एंटीबॉडी बनने में कितना वक्त लगेगा? लगाने के लिए वैक्सीन का सिलेक्शन कैसे होगा? इन और इनके जैसे कई सवालों का जवाब देने के लिए सरकार ने तीन हिस्सों में वीडियो जारी किए हैं। इनमें एम्स-दिल्ली के डायरेक्टर डॉ. रणदीप गुलेरिया ने जवाब दिए हैं। यहां पेश हैं कुछ चुनिंदा सवालों पर डॉ. गुलेरिया के जवाब-

क्या सबको वैक्सीन एक साथ लगेगी?
नहीं। फिलहाल तो नहीं। यह वैक्सीन की उपलब्धता पर निर्भर करेगा। सरकार ने रिस्क फैक्टर को ध्यान में रखते हुए प्रायोरिटी ग्रुप्स तय किए हैं। पहले ग्रुप में हेल्थकेयर वर्कर्स और फ्रंटलाइन वर्कर्स है। दूसरे ग्रुप में 50 वर्ष से ज्यादा के लोग और 50 वर्ष के ऐसे लोग हैं जो डाइबिटीज, ब्लड प्रेशर जैसी बीमारियों से जूझ रहे हैं। यह मिलकर 30 करोड़ होते हैं।

क्या वैक्सीन लगवाना अनिवार्य है?
नहीं। सरकार ने यह आपकी इच्छा पर छोड़ा है। इसके बाद भी मेरी सलाह तो यही है कि अपनी और अपने प्रियजनों की सुरक्षा के लिए वैक्सीन जरूर लगवाएं।

वैक्सीन के कितने डोज दिए जाएंगे?
वैक्सीन के दो डोज होंगे। इन्हें 28 दिन के अंतर से दिया जाएगा। सभी को दो डोज लगाने होंगे, तभी वैक्सीन शैड्यूल पूरा होगा।

एंटीबॉडी बनने में कितना वक्त लगेगा?
पहले डोज से कम से कम 42 दिन में। यानी दूसरा डोज देने के दो हफ्ते बाद शरीर में कोरोना से बचाने वाले एंटीबॉडी बन जाएंगे।

क्या साइड इफेक्ट्स होंगे और वह किस तरह के होंगे?
साइड-इफेक्ट्स से इनकार नहीं किया जा सकता। वैक्सीन से सामान्य साइड-इफेक्ट्स आम बात है। हल्के बुखार, वैक्सीन लगने वाली जगह पर दर्द, शरीर में दर्द जैसे साइड-इफेक्ट्स हो सकते हैं। वैक्सीन लगाने की प्रक्रिया की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए राज्यों को निर्देश दिए गए हैं। किसी को किसी तरह का साइड-इफेक्ट होता है, तो उससे निपटने के उचित उपाय उसी साइट पर किए जाएंगे।

मुझे कैसे पता चलेगा कि मैं वैक्सीनेशन के लिए पात्र हूं?
शुरुआती चरणों में वैक्सीन प्रायोरिटी ग्रुप्स को दी जा रही है। इन लोगों को रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर सूचना दी जाएगी। जहां वैक्सीन लगेगी, उस प्राइमरी सेंटर से ही मैसेज आएगा। यह भी बताया जाएगा कि कब और कहां वैक्सीन लगाई जाएगी, ताकि लोगों के रजिस्ट्रेशन और वैक्सीनेशन में कोई दिक्कत न आए।

क्या बिना रजिस्ट्रेशन के वैक्सीन लग सकेगी?
नहीं। ऐसा नहीं होगा। रजिस्ट्रेशन अनिवार्य है। जिस जगह पर वैक्सीन लगाई जाएगी, उसकी सूचना रजिस्ट्रेशन के बाद ही दी जाएगी। सरकार ने कोविन (Co-WIN) ऐप और प्लेटफॉर्म बनाया है, जो वैक्सीन की रियल-टाइम मॉनिटरिंग में टेक्निकल मदद करेगा। इस पर ही लोग वैक्सीनेशन कर सकेंगे।

पात्र लोगों को रजिस्ट्रेशन के लिए किस तरह के दस्तावेज लगेंगे?
फोटो के साथ इन दस्तावेजों को रजिस्ट्रेशन के लिए पेश करना होगाः ड्राइविंग लाइसेंस, श्रम मंत्रालय की ओर से जारी किया गया हेल्थ इंश्योरेंस स्मार्ट कार्ड, मनरेगा जॉब कार्ड, सांसद, विधायकों को जारी आईडी कार्ड, पैन कार्ड, बैंक/पोस्ट ऑफिस की पासबुक, पासपोर्ट, पेंशन दस्तावेज, केंद्र और राज्य सरकार की ओर से कर्मचारियों के लिए जारी सर्विस आईडी और वोटर आईडी कार्ड।

मेरे पास फोटो आईडी नहीं हो तो क्या होगा?
रजिस्ट्रेशन और वैक्सीनेशन के वक्त फोटो ID पेश करना जरूरी है। इससे ही यह पता चलेगा कि सही व्यक्ति को वैक्सीन लगी है।

लोगों को वैक्सीनेशन की तारीख के बारे में सूचना कैसे मिलेगी?
ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के बाद रजिस्ट्रेशन करा चुके लोगों को SMS मिलेगा। उन्हें तय तारीख, जगह और वक्त की जानकारी दी जाएगी।

क्या वैक्सीनेशन होने पर स्टेटस की जानकारी मिलेगी?
हां। वैक्सीन लगने के बाद व्यक्ति को रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर SMS आएगा। सभी डोज लगाने के बाद QR-Code बेस्ड सर्टिफिकेट भी भेजा जाएगा।

अगर किसी व्यक्ति को कोरोना के लक्षण हैं या वह पॉजिटिव है तो क्या उसे वैक्सीन लगेगी?
नहीं। ऐसे लोग वैक्सीनेशन साइट्स पर आकर इंफेक्शन फैला सकते हैं। हमें नहीं पता कि वैक्सीन ऐसी स्थिति में कितनी असरदार रहेगी। मेरा मानना है कि जिन्हें इंफेक्शन हुआ है, उन्हें लक्षण खत्म होने के 14 दिन बाद वैक्सीनेशन करवाना चाहिए।

क्या कोरोना से रिकवर हो चुके व्यक्ति को वैक्सीन लगाना जरूरी है?
हां। जिन लोगों को कोरोना हो चुका है और वे रिकवर कर चुके हैं, उन्हें भी वैक्सीन लगाने का सुझाव दिया जा रहा है। इससे वे इस इंफेक्शन के प्रति बेहतर इम्यून रिस्पॉन्स डेवलप कर सकते हैं।

अगर कोई व्यक्ति कैंसर, डाइबिटीज, हाइपरटेंशन जैसी बीमारियों की दवा ले रहा है तो क्या उसे वैक्सीन लगवानी चाहिए?
हां। मुझे लगता है कि यह बेहद जरूरी है कि इस तरह के लोगों को वैक्सीन लगाई जाए क्योंकि वे हाई-रिस्क ग्रुप्स में आते हैं। उनके लिए यह समझना भी जरूरी है कि दवाओं से वैक्सीन का असर प्रभावित नहीं होगा।

वैक्सीन लगने के बाद किस तरह की सावधानी बरतनी होगी?
मेरी सलाह है कि वैक्सीन लगने के बाद कम से कम आधा घंटा वहीं आराम करें। अगर कोई लक्षण दिखता है या परेशानी होती है तो वहां अधिकारियों को इसकी सूचना दें, ताकि वे जरूरत के मुताबिक आपका इलाज कर सकें।

वैक्सीन को काफी कम समय में तैयार किया गया है। क्या वह सुरक्षित हैं?
हां। भारत में जिन वैक्सीन को अप्रूवल दिया गया हैं, उन्हें रेगुलेटरी संस्था ने सेफ्टी और इफेक्टिवनेस देखकर ही अप्रूव किया है। सभी स्टैंडर्ड्स को ध्यान में रखा है। वैक्सीन अप्रूवल के लिए पहले जो सावधानी रखी जाती थी, अब भी लागू रहेगी।

क्या भारत में लाई जा रही वैक्सीन विदेशी वैक्सीन जैसी ही असरदार है?
हां। भारत में लगने वाली वैक्सीन भी किसी अन्य देश में विकसित वैक्सीन जितनी ही इफेक्टिव होगी। वैक्सीन की सेफ्टी और इफेक्टिवनेस की जांच करने के लिए ट्रायल्स की प्रक्रिया पूरी दुनिया में एक-सी है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आपकी प्रतिभा और व्यक्तित्व खुलकर लोगों के सामने आएंगे और आप अपने कार्यों को बेहतरीन तरीके से संपन्न करेंगे। आपके विरोधी आपके समक्ष टिक नहीं पाएंगे। समाज में भी मान-सम्मान बना रहेगा। नेग...

    और पढ़ें