• Hindi News
  • Coronavirus
  • Coronavirus Vaccine | Coronavirus Covid 19 Vaccine Trial Latest News Updates On Oxford University

नया मोड़:वैक्सीन के ट्रायल में सफल होने की उम्मीद 50 फीसदी, ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में वैक्सीन के प्रोजेक्ट हेड ने दिया बयान

2 वर्ष पहले
  • ऑक्सफोर्ड यूनिवार्सिटी के जेनर इंस्टीट्यूट ने वैक्सीन तैयार करने के लिए अब बायोफार्मा कंपनी एस्ट्राजेनेका के साथ हाथ मिलाया
  • हाल ही में वैक्सीन ChAdOx1 का छह रीसस बंदरों पर ट्रायल हुआ जो असफल रहा और प्रयोग के बाद भी उनमें वायरस मिला

कोरोना वैक्सीन का इंतजार कर रहे लोगों को एक और झटका लगा है। वैक्सीन तैयार कर रही ऑक्सफोर्ड यूनिवार्सिटी के जेनर इंस्टीट्यूट के प्रोजेक्ट हेड एड्रियन हिल ने कहा है कि ट्रायल में इसके सफल होने की दर 50 फीसदी ही है। हाल ही में जेनर इंस्टीट्यूट ने जानी मानी बायोफार्मा कंपनी एस्ट्राजेनेका के साथ वैक्सीन तैयार करने के लिए हाथ मिलाया है। अगर ट्रायल सफल रहता है तो दोनों मिलकर वैक्सीन लोगों तक पहुंचाएंगे।सफल नहीं रहा

अगले ट्रायल में 1 हजार लोग शामिल होंगे 
वैक्सीन के प्रोजेक्ट हेड एड्रियन हिल के मुताबिक, जल्द ही इंसानों पर शुरु होने वाले ट्रायल में 1 हजार लोगों को शामिल किया जाएगा लेकिन हो सकता है इसका कोई परिणाम न मिले। यह ऐसी रेस है जहां वायरस पकड़ नहीं आ रहा और समय तेजी से भाग रहा है।
दूसरे ट्रा्यल में 10,260 बच्चे और बड़े शामिल किए जाएंगे
शोधकर्ता के मुताबिक, 1000 इंसानों पर पहले ट्रायल के बाद दूसरा ट्रायल शुरू होगा। यह तीन चरणों में पूरा होगा और इसमें 10,260 बच्चे और बड़े शामिल किए जाएंगे। वैक्सीन पर उनकी इम्युनिटी का क्या असर होता है और अलग-अलग उम्र के लोगों पर होने वाले प्रभाव को भी समझा जा सकेगा।
तीसरा चरण निर्णायक साबित होगा
शोधकर्ताओं के मुताबिक, ट्रायल के दूसरे और तीसरे चरण को मिलाया जाएगा। तीसरे चरण एक बड़ी तादात में इंसानों पर वैक्सीन का प्रयोग होगा। ट्रायल के दौरान यह देखा जाएगा कि वैक्सीन 18 साल से अधिक लोगों पर कैसे काम कर रही है। यह लोगों को संक्रमित होने से कैसे रोकती है और जो पहले से संक्रमित हैं उन पर क्या असर होता है। 
असफल रहा था बंदरों पर हुआ ट्रायल
ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में कोविड-19 की वैक्सीन ChAdOx1 की जा रही है। हाल ही में बंदरों पर हुआ इस वैक्सीन का ट्रायल सफल नहीं रहा था। हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर के डॉ. विलयम हेसलटाइन के मुताबिक, जिन छह रीसस बंदरों पर इस वैक्सीन का ट्रायल किया गया उनकी नाक में उतनी ही मात्रा में वायरस पाया गया जितना कि तीन अन्य नॉन वैक्सीनेटेड (जिन्हें टीका नहीं लगाया गया था) बंदरों की नाक में था।

8 अलग-अलग वैक्सिन पर काम चल रहा

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने पिछले दिनों स्पष्ट करते हुए कहा था कि कोरोनो के लिए 8 वैक्सिन पर काम चल रहा है।  संगठन के प्रमुख डॉ. टेड्रॉस गेब्रयेसस कहा है कि दो महीने पहले तक ऐसा सोचा जा रहा था वैक्सीन बनाने में 1 साल से 18 महीने लगेंगे। हालांकि, अब इस काम में तेजी लाया जा रहा है। एक हफ्ते पहले दुनिया के 40 देशों के नेताओं ने इसके लिए 8 बिलियन डॉलर(करीब 48 हजार करोड़ रु.) की मदद की है, लेकिन यह इस काम के लिए कम पड़ेगा। 

खबरें और भी हैं...