• Hindi News
  • Coronavirus
  • Omicron Coronavirus Variant Outbreak India LIVE Updates | Mumbai Delhi Bhopal Indore Kerala Rajasthan Haryana, Reported Cases And Deaths By State Wise

कोरोना देश-दुनिया में:भारतीय वैज्ञानिकों को मिली बड़ी सफलता, दो घंटे में ओमिक्रॉन पहचानने वाली किट तैयार की

7 महीने पहले

दुनिया भर में तेजी से फैल रहे कोरोना के ओमिक्रॉन वैरिएंट की पहचान को लेकर इंडियन साइंटिस्ट्स को बड़ी सफलता हाथ लगी है। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) ने असम के डिब्रूगढ़ में एक कोविड टेस्ट किट तैयार की है। इस किट से सिर्फ दो घंटों के भीतर में नए ओमिक्रॉन वैरिएंट का पता लगाया जा सकता है। देश के कई राज्यों में ओमिक्रॉन के बढ़ते मामलों को देखते हुए यह किट काफी अहम साबित होगी।

अन्य प्रमुख अपडेट्स...
एक्सपर्ट्स की चेतावनी; अगले साल जनवरी में ओमिक्रॉन की बड़ी लहर का सामना कर सकता है ब्रिटेन

ब्रिटेन में ओमिक्रॉन को लेकर एक्सपर्ट्स ने नई चेतावनी जारी की है। इसमें कहा गया है कि अगर पब्लिक गैदरिंग पर रोक नहीं लगाई जाती है, तो ब्रिटेन अगले साल जनवरी से ओमिक्रॉन की बड़ी लहर का सामना कर सकता है। लंदन स्कूल ऑफ हाइजीन एंड ट्रॉपिकल मेडिसिन (LHSTM) के मॉडल के मुताबिक, ओमिक्रॉन संक्रमण की वजह से कारण अस्पताल में भर्ती होने वाले कोरोना पेशेंट्स की संख्या में भी इजाफा हो सकता है।

भारत में कोविड वैक्सीनेशन का आंकड़ा 133 करोड़ पहुंचा, आज लगाई गई 81 लाख वैक्सीन की डोज
भारत में कोविड वैक्सीनेशन आंकड़ा करीब 133 करोड़ (132,84,04,705) पहुंच गया। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि इस आंकड़े में आज शाम 7 बजे तक लगाई गई 81 लाख से अधिक डोज भी शामिल हैं।

केंद्र ने ज्यादा पॉजिटिविटी रेट वाले राज्यों को दिए निर्देश; कहा- नाइट कर्फ्यू समेत कड़े नियम लागू कीजिए
केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने उन राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के नाम नोटिस जारी किया है जहां पिछले दो हफ्तों में कोरोना पॉजिटिविटी रेट ज्यादा रिपोर्ट किया गया है। इस नोटिस में लिखा है कि कोरोना के मामले में चिन्हित किए गए इलाकों में नाइट कर्फ्यू लगाया जाए। साथ ही ज्यादा लोगों के इकठ्‌ठा होने पर रोक लगे और शादी-अंतिम संस्कार जैसे समारोह में कम लोगों को आने की अनुमति दी जाए।

महाराष्ट्र में ओमिक्रॉन संक्रमित डेढ़ साल का बच्चा निगेटिव
महाराष्ट्र के पुणे जिले के पिंपरी चिंचवाड़ में हाल ही में ओमिक्रॉन वैरिएंट से संक्रमित हुए डेढ़ साल के बच्चे को अस्पताल से छुट्‌टी दे दी गई। शनिवार को बच्चे की कोविड रिपोर्ट निगेटिव आई थी। इस इलाके में सामने आए 4 नए मरीजों में 3 साल का बच्चा भी शामिल है। बाकी 3 संक्रमित वयस्क हैं। इनमें 2 पुरुष और 1 महिला है।

कोवीशील्ड बूस्टर डोज की मांग खारिज
सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन (CDSCO) के तहत आने वाली सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी (SEC) ने कहा कि कोरोना के बूस्टर डोज को बिना क्लिनिकल ट्रायल के अप्रूव नहीं किया जा सकता है। SEC ने शुक्रवार को सीरम इंस्टीट्यूट की एप्लिकेशन का रिव्यू करते हुए यह बात कही। पूरी खबर यहां पढ़ें...

MP में 24 घंटे में 15 नए केस; सबसे ज्यादा 7 पॉजिटिव भोपाल में
मध्यप्रदेश में 24 घंटे में 15 नए कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। सबसे ज्यादा केस भोपाल में 7 आए हैं। इंदौर में 6 और रायसेन में 2 संक्रमित मिले हैं। प्रदेश में शुक्रवार को 13 मरीज ठीक भी हुए हैं। एक्टिव मरीजों की संख्या 156 हो गई है। इससे पहले प्रदेश में 7 अगस्त को 156 एक्टिव मरीज थे। यानी 126 दिन बाद फिर एक्टिव मरीजों की संख्या 156 पहुंच गई है। पूरी खबर यहां पढ़ें...

स्विट्जरलैंड में 5 साल से बड़े बच्चों के लिए फाइजर वैक्सीन को अप्रूवल
स्विट्जरलैंड की स्विस एजेंसी फॉर थैरेप्यूटिक प्रोडक्ट्स (स्विसमेडिक) ने शुक्रवार को वहां 5 से 11 साल के बच्चों के लिए फाइजर वैक्सीन के इस्तेमाल को अप्रूवल दिया है। स्विसमेडिक ने अपनी वेबसाइट पर एक बयान में कहा कि हमने फाइजर-बायोएनटेक की एप्लीकेशन के साथ जमा कराए गए डेटा का बहुत ध्यान से अध्य्यन किया है।

बयान के मुताबिक, यह अध्य्यन 1500 से ज्यादा बच्चों पर किया गया और इसमें सामने आया कि यह 5 से 11 साल के बच्चों के लिए पूरी तरह सुरक्षित है। एजेंसी ने यह भी बताया कि इंजेक्शन लगाने वाली जगह पर दर्द होने के साथ थकान, सिरदर्द, बुखार और हाथ और पैरों में दर्द जैसे साइड इफेक्ट देखे गए।

कनाडा में कोरोना के डेली केस 10 हजार तक जाने की आशंका
कनाडा की पब्लिक हेल्थ एजेंसी ने कहा है कि अगर ओमिक्रॉन के मामले तेजी से बढ़ते हैं तो जनवरी से पहले कोरोना के रोजाना केस 10,000 तक जा सकते हैं। कनाडा में अब भी डेल्टा वैरिएंट ही सबसे ज्यादा प्रभावी स्ट्रेन है, लेकिन ओमिक्रॉन के मामलों में इजाफा हो रहा है।

दिल्ली में ओमिक्रोन का दूसरा मामला सामने आया
ओमिक्रॉन के बढ़ते खतरों के बीच दिल्ली में ओमिक्रॉन का दूसरा मामला सामने आया है। दिल्ली सरकार ने जानकारी दी कि संक्रमित व्यक्ति वैक्सीन की दोनों डोज़ लगवा चुका था और वह जिम्बाब्वे से आ रहा था। उसने दक्षिण अफ्रीका की भी यात्रा की थी।

इसके साथ ही देश में कोरोना के कुल 33 मामले हो गए हैं। शुक्रवार को देश में ओमिक्रॉन के 9 नए मामले सामने आए हैं। इनमें 7 महाराष्ट्र के हैं, जबकि 2 गुजरात में मिले हैं। महाराष्ट्र में ही 3 साल का बच्चा भी ओमिक्रॉन पॉजिटिव मिला है।

ब्राजील में एक दिन में 7,765 नए कोरोना केस और 234 मौतें
ब्राजील में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 7,765 नए मामले सामने आए हैं और 234 लोागें की मौत हुई है। यह जानकारी ब्राजील के स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी। दक्षिण अमेरिकी देश में अब तक कोरोना के 2.21 करोड़ मामले दर्ज किए गए हैं। यहां कोरोना के चलते अब तक कुल 6.16 लाख लोगों की जान भी गई है।

मदुरई में 13 दिसंबर से वैक्सीन सर्टिफिकेट के बिना नहीं मिलेगी सार्वजनिक जगहों पर एंट्री
ओमिक्रॉन के खतरे को देखते हुए तमिलनाडु के मदुरई में सार्वजनिक स्थानों में एंट्री लेने के लिए वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट अनिवार्य किया गया है। सार्वजनिक स्थानों में बाजार, स्कूल, थिएटर, प्लेग्राउंड, रेस्टोरेंट, होटल, लॉज, इंडस्ट्रीज, फैक्ट्री, दुकानें, मंदिर और कमर्शियल एस्टैबलिशमेंट शामिल हैं। मदुरई कलेक्टर डॉ एस अनीश शेखर ने शुक्रवार को दुकानदारों के साथ बैठक की। उन्होंने बताया कि पब्लिक हेल्थ एक्ट, 1939 के तहत कोरोना को संक्रामक रोग घोषित किया गया है।

ब्रिटेन की हेल्थ एजेंसी का दावा- ओमिक्रॉन के हल्के सिम्पटम्स के खिलाफ बूस्टर डोज 75% तक प्रभावी
ब्रिटेन की स्वास्थ्य सुरक्षा एजेंसी ने दावा किया है कि ओमिक्रॉन के हल्के लक्षणों को खत्म करने में कोरोना का बूस्टर डोज 70 से 75% तक प्रभावी है। एजेंसी के मुताबिक वैक्सीन को लेकर शुरुआती अध्ययन में इस बात की जानकारी सामने आई है। जिसके डेटा यह बताते हैं कि नए वैरिएंट से पीड़ित हल्के मरीजों में वैक्सीन का बूस्टर डोज 75% तक काम करता है।

वैज्ञानिकों ने एस्ट्राजेनेका और फाइजर-बायोएनटेक के बूस्टर डोज को लेकर ओमिक्रॉन प्रभावित 581 लोगों पर हाल ही में ये रिसर्च किया है। वैज्ञानिकों का कहना है कि डेल्टा वैरिएंट के मुकाबले ओमिक्रॉन के मरीजों पर बूस्टर डोज का असर काफी कम रहा। डेल्टा वैरिएंट में वैक्सीन का असर 90% तक पाया गया।

हालांकि ये शुरुआती जानकारी है, इसलिए बेहतर होगा कि जो लोग बूस्टर डोज लेने के पात्र हैं उन्हें टीका लेना चाहिए। डेटा में ये बात सामने आई है कि कुछ हद तक बूस्टर डोज से नए वैरिएंट का खतरा काफी कम हो जाता है।