• Hindi News
  • Coronavirus
  • Omicron Coronavirus Variant Outbreak India LIVE Updates | Mumbai Delhi Bhopal Indore Kerala Rajasthan Haryana, Reported Cases And Deaths By State Wise

कोरोना देश-दुनिया में:ब्रिटेन ने दक्षिण अफ्रीका समेत 11 देशों को अपने ट्रैवल रेड लिस्ट से हटाया, आज से लागू होंगे नए नियम

एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन से एक मरीज की मौत के बाद ब्रिटेन ने ट्रैवल बैन को लेकर बड़ा फैसला किया है। हेल्थ सेक्रेटरी साजिद जाविद ने मंगलवार को बताया कि बुधवार यानी 15 दिसंबर से ब्रिटेन 11 देशों पर लगाए गए ट्रैवल बैन को हटा लेगा। यानी इन देशों के नागरिकों को ब्रिटेन आने पर क्वारैंटाइन में नहीं रहना होगा।

जाविद ने बताया कि दुनियाभर में ओमिक्रॉन के केस तेजी से बढ़ रहे हैं। हालांकि ट्रैवल बैन जैसे नियम ओमिक्रॉन को रोकने में असफल साबित हो रहे हैं। ऐसे में इन नियमों को वापस लेने का फैसला किया गया है। नए ट्रैवल नियम 15 दिसंबर सुबह 4 बजे से लागू हो जाएंगे। ब्रिटेन रेड लिस्ट से जिन 11 देशों को हटाएगा उनमें अंगोला, बोत्सवाना, एसवंतिनी, लेसोथो, मलावी, मोजाम्बिक, नामीबिया, नाइजीरिया, दक्षिण अफ्रीका, जाम्बिया और जिम्बाब्वे शामिल हैं।

अन्य प्रमुख खबरें...

फाइजर का दावा- हमारी कोरोना टैबलेट 90% प्रभावी, ओमिक्रॉन पर भी होगा इसका असर
अमेरिकी ड्रग निर्माता कंपनी फाइजर ने मंगलवार को कहा कि उनकी एंटीवायरल कोविड दवा कोरोना के खिलाफ 90% प्रभावी है। इस दवा से हाई रिस्क पेशेंट्स को मौत या अस्पताल में भर्ती होने से बचाया जा सकता है। लैब डेटा के मुताबिक, यह दवा कोरोना के नए ओमिक्रॉन वैरिएंट पर भी कारगर साबित हुई है।

फाइजर ने पिछले महीने बताया था कि यह मेडिसिन अस्पताल में भर्ती होने या मौतों को रोकने में करीब 89% प्रभावी थी। यह आंकड़े करीब 1200 लोगों पर दवा के परीक्षण के बाद जारी किए गए थे। हालांकि, मंगलवार को जारी किए गए नए आंकड़ों में 1000 और लोगों को शामिल किया गया था।

महाराष्ट्र में एक ही दिन में ओमिक्रॉन के 8 नए केस मिले; इनमें 7 मुंबई के

कोरोना का नया वैरिएंट ओमिक्रॉन भारत में भी तेजी से फैलता हुआ दिख रहा है। मंगलवार सुबह दिल्ली में 4 नए केस मिलने के बाद शाम को महाराष्ट्र में भी इसके 8 नए मामले सामने आए हैं। आज संक्रमित हुए 8 में से 7 मरीज मुंबई से और एक वसई-विरार से है। खास बात यह है कि इनमें से कोई विदेश नहीं गया है। इस तरह देशभर में नए वैरिएंट के केस बढ़कर 61 हो गए हैं।

आज संक्रमित हुए 8 मरीजों में से एक राजस्थान का रहने वाला है। इसके अलावा एक बेंगलुरु और एक ने दिल्ली की यात्रा की थी। आज संक्रमित हुए 8 में से 2 मरीज हॉस्पिटल में और छह होम आइसोलेशन में हैं। इनके संपर्क में आने वाले लोगों को ट्रैक कर लिया गया है। संक्रमित हुए 8 में से 7 लोगों ने वैक्सीन ली हुई थी। पढ़ें पूरी खबर...

WHO की चेतावनी- अस्पताल कमर कस लें, ओमिक्रॉन से मौतों के मामले बढ़ सकते हैं, मरीजों की संख्या भी बढ़ेगी
कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने चेतावनी दी है। WHO ने कहा है कि ओमिक्रॉन डेल्टा से भी ज्यादा तेजी से फैल रहा है। इससे अस्पतालों को तैयार रहने की जरूरत है। संगठन ने ये भी बताया है कि नया वैरिएंट कितना जानलेवा होगा, इस पर अभी कुछ कहना जल्दबाजी होगी, लेकिन इससे मौतों के मामले बढ़ सकते हैं। ऐसे में अस्पतालों को विशेष तैयारी करने की जरूरत है।

चीन में ओमिक्रॉन का दूसरा केस मिला; 67 साल का संक्रमित नवंबर में विदेश से लौटा था

चीन के गुआंगझाउ प्रांत में ओमिक्रॉन का दूसरा केस मिला है। इससे पहले चीन में ओमिक्रॉन के एक केस मिलने की पुष्टि की जा चुकी है। चीनी मीडिया के मुताबिक, संक्रमित शख्स की उम्र 67 साल है, जो नवंबर में विदेश से लौटा था। यह शख्स पिछले हफ्ते क्वारैंटाइन में रहने के बाद गुआंगझाउ प्रांत पहुंचा। यहां हुए कोविड टेस्ट में वह पॉजिटिव पाया गया। चीन में ओमिक्रॉन का पहला केस उत्तरी तियानजिन शहर में मिला था। यह संक्रमित भी विदेश से लौटा था।

अदार पूनावाला ने कहा- देश में 6 महीने के भीतर मिलेगी बच्चों की वैक्सीन

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) ने 6 महीने में देश में बच्चों के लिए नोवावैक्स कोविड वैक्सीन लॉन्च करने की योजना बनाई है। SII के CEO अदर पूनावाला ने मंगलवार को कहा कि ने 3 साल और उससे अधिक उम्र के बच्चों पर नोवावैक्स वैक्सीन का ट्रॉयल हुआ। इस ट्रायल में अच्छे नतीजे सामने आए हैं। अदार ने यह बात कांफेडरेशन ऑफ इंडियन इंडस्ट्री की वर्चुअल कांफ्रेंस के दौरान कही।

भारतीय एक्स्पर्ट्स की राय- बूस्टर डोज लगाने में जल्दबाजी की जरूरत नहीं
भारत के मेडिकल एक्सपर्ट्स का कहना है कि दुनियाभर में जो तस्वीर सामने आ रही है उसके मुताबिक, ओमिक्रॉन हल्का इंफेक्शन ही फैला रहा है। इसके बावजूद साइंटिफिक एडवाइजरी ग्रुप ऐसे लोगों को वैक्सीन का तीसरा या बूस्टर डोज देने के बारे में चर्चा कर रहा है, जिनका इम्यून सिस्टम कमजोर है या जो हाई रिस्क पर हैं।

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के एपिडेमोलॉजी एंड कम्युनिकेबल डिसीज के हेड समीरन पांडा ने बताया कि तीसरा डोज भी ओमिक्रॉन के संक्रमण को नहीं रोक सकता है। ये वैक्सीन इंफेक्शन को रोकती नहीं हैं, ये सिर्फ इंफेक्शन की गंभीरता को कम करती है। ऐसे में अगर लोग ओमिक्रॉन से संक्रमित होंगे भी तो उन्हें हल्की बीमारी ही होगी। ऐसे में इस बात में कोई वजन नहीं है कि वैक्सीन के कम प्रभावी होने के कारण कोरोना संक्रमण होता है।

खबरें और भी हैं...