• Hindi News
  • Coronavirus
  • President Trump Wants To Reopen Schools To Change The Atmosphere, But 40 Out Of 50 US States Have Closed Classes For The Entire Season

न्यूयॉर्क टाइम्स से:राष्ट्रपति ट्रम्प माहौल बदलने के लिए स्कूलों को दोबारा खोलना चाहते हैं, पर अमेरिका के 50 में से 40 राज्य पूरे सत्र के लिए स्कूल बंद कर चुके हैं

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
तस्वीर कैलिफोर्निया के केंट मिडिल स्कूल की है। यहां ग्राउंड में सोशल डिस्टेंसिंग के लिए गोले बनाए गए हैं। अमेरिका का मैप बनाकर कोरोना संक्रमण के बारे में भी बताया गया है। - Dainik Bhaskar
तस्वीर कैलिफोर्निया के केंट मिडिल स्कूल की है। यहां ग्राउंड में सोशल डिस्टेंसिंग के लिए गोले बनाए गए हैं। अमेरिका का मैप बनाकर कोरोना संक्रमण के बारे में भी बताया गया है।
  • अमेरिका में लॉकडाउन खोलने को लेकर थ्री फेज गाइडलाइन बनाई गई, इसमें स्कूल दूसरे फेज में खुलने हैं
  • अधिकारियों का मानना है कि इकोनॉमी पटरी पर तभी वापस आएगी, जब वर्किंग पैरेंट्स के बच्चे स्कूल जाएंगे

वॉशिंगटन. कोरोनावायरस और शटडाउन के चलते अमेरिका आर्थिक तौर पर पीछड़ गया है। ऐसे में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प स्कूलों को दोबारा खोलने की बात कर रहे हैं। उनका मानना है कि इससे माहौल बदलेगा। अधिकारियों का भी मानना है कि इकोनॉमी पटरी पर तभी वापस आ सकेगी, जब काम कर रहे माता-पिता के बच्चे स्कूल जाएंगे। उनके मुताबिक बच्चों का वापस स्कूल जाना सामान्य माहौल को बहाल करने के लिए जरूरी है। हालांकि कुछ अधिकारियों ने ऐसा करने पर कोरोना के और ज्यादा फैलने की आशंका जताई है।

रिमोट एजुकेशन अनिश्चितकाल के लिए चलानी पड़ सकती है

  • कैलिफॉर्निया के गवर्नर गेविन न्यूसम के मुताबिक अगला सत्र जुलाई से शुरू हो सकता है, लेकिन अगर हम जल्दबाजी करेंगे तो फिर से कोरोना लहर शुरू हो सकती है। इलिनॉइस के अधिकारियों ने चेतावनी दी है कि रिमोट एजुकेशन को अनिश्चितकाल के लिए चलाना पड़ सकता है।
  • ट्रम्प के थ्री फेज रीओपन प्लान में स्कूलों को दूसरे फेज के तहत खोलना है। इसमें राज्यों से अपील की गई कि जहां सोशल डिस्टेंसिंग संभव नहीं है, वहां 50 से ज्यादा लोग न जुटें। इसपर शिक्षकों ने एतराज जताया था कि स्कूलों में स्टाफ और छात्रों को मिलाकर सैकड़ों लोग होते हैं।

स्कूलों में बच्चों और टीचर्स को बुलाने से कोरोना का खतरा बढ़ जाएगा

  • अमेरिका के कई राज्य अपनी तैयारियों के लिए स्थानीय स्वास्थ्य अधिकारियों पर निर्भर हैं। यहां 50 में से 40 राज्यों ने पहले ही स्कूलों में क्लासेज को पूरे सत्र के लिए निलंबित कर दिया है। उनका कहना है कि स्कूलों में बच्चों और टीचर्स को बुलाने से कोरोना का खतरा बढ़ जाएगा।
  • न्यूकैसल पब्लिक स्कूल्स की सुप्रिटेंडेंट मेलनी हाउ ने कहा कि, वे एक डेस्क पर इकट्ठा होकर बात कर रहे सेक्रेट्रीज को देखकर चिंतित हैं। स्कूलों में सभी को एक साथ वापस लाने को लेकर चिंता हो रही है। स्कूलों में सोशल डिस्टेंसिंग बेहद कठिन हो जाएगी।

दोबारा स्कूल शुरू होने से बदलेगा माहौल

  • क्लासेज लगने के वक्त में बदलाव हो सकते हैं, ताकि डेस्क को दूरी पर रखा जा सके और बस में कम से कम बच्चे सफर करें। छात्रों की स्कूल से जुड़ी चीजों की सफाई, डेस्क पर सोशल डिस्टेंसिंग के साथ खाना, मास्क लगाए टीचर्स, स्कूल के गेट पर टेंपरेचर चेक, ग्रुप स्टडी और खेल पर रोक जैसे कई बदलाव नजर आ सकते हैं। सरकार पहले दूर-दराज इलाकों के स्कूलों को खोलने पर विचार कर रही है।
  • जॉर्जिया के गवर्नर ब्रायन केम्प इकोनॉमी को सुधारने के लिए तेजी से जुटे हैं। लेकिन केम्प क्लासेज में पढ़ाई शुरू करने के खिलाफ हैं। अमेरिका के कुछ राज्यों ने क्लासेज को रद्द करने का फैसला भी किया है। जॉर्जिया शिक्षा विभाग के स्टाफ प्रमुख मैट जोन्स के मुताबिक कुछ राज्य आंशिक रूप से दोबारा क्लासेज शुरू करने के बारे में सोच रहे हैं। कुछ हालात के सामान्य होने की उम्मीद कर रहे हैं।
  • शिक्षक भी दोबारा क्लास में वापसी करना चाहते हैं। टीचर्स के मुताबिक, वे बच्चों से मुलाकात को मिस कर रहे हैं। रीइनवेंटिंग पब्लिक एजुकेशन में सेंटर के डायरेक्टर रॉबिन लेक बताते हैं कि शिक्षा को लेकर कुछ चिंताएं हैं। छूट चुकी क्लासेज के सुधार के लिए स्कूलों को कुछ निर्देश और अतिरिक्त शिक्षा व्यवस्थाओं की जरूरत होगी। इसके अलावा पॉलिसी मेकर्स के बीच भी बहस जारी है।

जल्दबाजी करने से बढ़ सकता है कोरोना का खतरा

  • न्यूयॉर्क सिटी के मेयर बिल डे ब्लासियो ने कहा है कि शहर के 10 लाख से ज्यादा बच्चे सितंबर तक क्लासरूम में वापसी नहीं कर पाएंगे। इस बात को लेकर भी डर बना हुआ है कि बच्चों और टीचर्स को जल्दी एक साथ लाना खतरनाक हो सकता है। शिक्षकों को पढ़ाने के लिए मजबूर करना भी खतरे से भरा कदम हो सकता है। इसके अलावा अन्य कर्मचारियों के बीच भी इससे परेशानियां बढ़ सकती हैं।
  • स्ट्रैटफॉर्ड पब्लिक स्कूल्स की सुप्रिटेंडेंट जैनेट रॉबिन्सन कहती हैं कि वे राष्ट्रपति के दोबारा स्कूल खोलने की अपील से डर गईं हैं। उनके स्टाफ में कई टीचर्स कैंसर को मात देकर आई हैं और स्कूल वापसी की बात से काफी परेशान हैं। मैंने राष्ट्रपति को कहते हुए सुना कि बच्चे बीमार नहीं पड़ेंगे। लेकिन मुझे डर है कि यह वायरस बच्चों से उनके परिवार के बाकी लोगों में फैल जाएगा।

कई देशों में बड़े बदलावों के साथ दोबारा शुरू हुए स्कूल 

  • चीन में दोबारा स्कूल खुल गए हैं। यहां बच्चे न केवल मास्क लगा रहे हैं, बल्कि वे ग्लास डिवाइडर्स की आड़ में बैठ रहे हैं। टीचर सुरक्षा सूट पहनकर आ रहे हैं, लंच टेबल के बीच में छह फीट की दूरी हैं, लंच के दौरान बातचीत की मनाही है। स्कूलों में सारी बास्केटबॉल्स को एक-एक कर साफ किया जा रहा है।
  • हेल्थ एक्सपर्ट्स ने टीनएजर्स से पहले छोटे बच्चों को स्कूल वापस लाने की सलाह दी है। क्योंकि टीनएजर्स वायरस के प्रति ज्यादा संवेदनशील हैं और वे घर पर पढ़ाई भी कर सकते हैं। जर्मनी में बड़ी उम्र के बच्चों को एग्जाम देने के लिए पहले बुलाया है। डेनमार्क में भी स्कूल खुल गए हैं।
  • हालांकि अमेरिका की तुलना में कुछ दूसरे देशों ने टेस्टिंग और कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग में तेजी दिखाई है। ऐसे में सवाल उठ रहे हैं कि अमेरिका में हेल्थ सिस्टम की वायरस से लड़ने की क्षमता को देखते हुए क्या दोबारा स्कूल शुरू करना समझदारी है।
  • लॉस एंजेलिस में अमेरिका का दूसरा सबसे बड़ा पब्लिक स्कूल सिस्टम है। यहां करीब 7 लाख बच्चे पढ़ते हैं। सुप्रिटेंडेंट ऑस्टिन बीटनर ने सोमवार को कहा कि स्कूल दोबारा खोलने के लिए मजबूत टेस्टिंग और ट्रेसिंग होनी चाहिए। हमने स्कूल 13 मार्च को बंद कर दिए थे, ताकि हम समाज में वायरस फैलाने के कारण न बनें।
खबरें और भी हैं...