पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Db original
  • Columnist
  • At This Time When There Is A Need Of Caution From Every Point Of View In Life, Balancing Hardness And Flexibility Will Be The Greatest Caution.

पं. विजयशंकर मेहता:इस समय जब जीवन में हर दृष्टि से सावधानी की जरूरत है, सख्ती और लचीलेपन का संतुलन साध लेना ही सबसे बड़ी सावधानी होगी

12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पं. विजयशंकर मेहता

सूखे दरिया में कंकर डालकर मछली पकड़ रहे हैं लोग। पांडवों के साथ युद्ध मेंं कौरवों की स्थिति लगभग ऐसी ही थी। वे जिसको अपना धर्म बता रहे थे, वह सबसे बड़ा अधर्म था। महाभारत युद्ध के दसवें दिन जब भीष्म अर्जुन के बाणों से घायल होकर गिर पड़े तो उन्होंने कहा था मेरे पूरे शरीर में बाण लग चुके हैं, मेरे चारों ओर खाई खोद दें। जब तक देह त्यागने का समय नहीं आ जाता, मैं यहां सूर्य उपासना करूंगा।

दुर्योधन ने कई वैद्य बुलाए जो बाण निकालने में दक्ष थे। तब भीष्म ने कहा था, इन्हें सम्मानपूर्वक विदा कर दो। इस अवस्था में मुझे इनका क्या काम? भीष्म की बात, हमारे लिए भी बड़ा संदेश बनती है। जीवन में कई घटनाएं ऐसी घटती हैं जिनके पीछे की गहराई देखने की समझ होना चाहिए। महामारी के दौरान कुछ परिस्थितियां ऐसी बन गई हैं जिनमें न हमारा धन काम आएगा, न सुविधाएं।

काम आएगा तो भीष्म की तरह शरशैया का तप, जिसे आज की परिस्थितियों में सावधानी कहा जा सकता है। भीष्म बहुत सख्त थे, पर यहां उन्होंने लचीलापन दिखाया था। हम भी समझ लें इस समय जब जीवन में हर दृष्टि से सावधानी की जरूरत है, सख्ती और लचीलेपन का संतुलन साध लेना ही सबसे बड़ी सावधानी होगी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज किसी समाज सेवी संस्था अथवा किसी प्रिय मित्र की सहायता में समय व्यतीत होगा। धार्मिक तथा आध्यात्मिक कामों में भी आपकी रुचि रहेगी। युवा वर्ग अपनी मेहनत के अनुरूप शुभ परिणाम हासिल करेंगे। तथा ...

और पढ़ें