पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

डॉ. जयंतीलाल भंडारी का कॉलम:अगले वित्त वर्ष में 8.9% की वृद्धि दर्ज कर सकती है अर्थव्यवस्था

10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
डॉ. जयंतीलाल भंडारी, विख्यात अर्थशास्त्री - Dainik Bhaskar
डॉ. जयंतीलाल भंडारी, विख्यात अर्थशास्त्री

हाल ही में 8 जनवरी को आईएचएस मार्किट ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि कोविड-19 की चुनौतियों के बीच साल 2020 के अंतिम छोर पर भारतीय अर्थव्यवस्था में उल्लेखनीय सुधार हुआ है। ऐसे में अर्थव्यवस्था अगले वित्त वर्ष में 8.9% की वृद्धि दर्ज कर सकती है। कोरोना का टीकाकरण शुरू होने, बढ़ते विदेशी निवेश और महत्वपूर्ण आर्थिक संकेतों में सतत सुधार के कारण भारत की अर्थव्यवस्था वी आकार की रिकवरी के साथ तेजी से आगे बढ़ रही है। ऐसे में इस साल भारत का आर्थिक परिदृश्य बेहतर होगा और विकास दर बढ़ने के आसार हैं।

जनवरी 2021 की शुरुआत में प्रकाशित आर्थिक संकेतकों के मुताबिक साल 2020 के अंतिम छोर पर उद्योग-कारोबार की गतिविधियों में तेजी, पीएमआई मैन्युफैक्चरिंग में वृद्धि, माल ढुलाई, ई-वे बिल, टोल संग्रह तथा बिजली मांग में वृद्धि का परिदृश्य निर्मित हुआ है। दिसंबर 2020 में जीएसटी कलेक्शन 1.15 लाख करोड़ रुपए से अधिक का रहा। दिसंबर 2020 में उद्योग संगठन फिक्की और ध्रुवा एडवाइजर्स के साझा सर्वे के मुताबिक देश की 95 फीसदी कंपनियों का मानना है कि 2021 में अर्थव्यवस्था बेहतर हो जाएगी।

यहां यह भी महत्वपूर्ण है कि पांच जनवरी को बीएसई सेसेंक्स 48437 अंकों की रिकॉर्ड ऊंचाई के पार दिखाई दिया। यह पिछले वर्ष 23 मार्च को यह 25981 अंकों पर था। वर्ष 2020 की शुरुआत में भारत दुनिया के शेयर बाजारों में दसवें स्थान पर था, अब 2021 की शुरुआत में भारत आठवें स्थान पर आ गया है। बाजार के तेजी से बढ़ने के कई कारण स्पष्ट दिखाई दे रहे हैं। कोविड के लिए टीकाकरण अभियान, वैश्विक अर्थव्यवस्था में सुधार, ब्रेक्जिट समझौते और अमेरिका के नए प्रोत्साहन पैकेज से निवेशकों की धारणा को बल मिला है। वैश्विक स्तर पर उभरते बाजारों में विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों में निवेश के लिहाज से भारत शीर्ष पर है। देश की अर्थव्यवस्था में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के तेजी से बढ़ने संबंधी अनुकूलताएं है। गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों के संकट में कमी आई है। कंपनियों की लागत में कमी आने के साथ-साथ उत्पादकता में सुधार हुआ है।

यह स्पष्ट दिख रहा है कि साल 2021 को 2020 से कई आर्थिक अनुकूलताएं विरासत में मिली हैं। इंटरनेट के तेजी से बढ़ते हुए उपयोगकर्ताओं, सस्ती दरों पर डेटा उपलब्ध होने, किफायती मोबाइल, ऑनलाइन शॉपिंग, बिल पेमेंट और डिजिटलीकरण के नए अध्याय लिखे गए हैं। वर्ष 2020 में यह भी पाया गया है कि एक अरब डॉलर से अधिक मूल्य वाले युनिकॉर्न स्तर के 21 स्टार्टअप्स हो गए हैं। इनका कुल मूल्य करीब 73.2 अरब डॉलर है। अमेरिका, चीन, ब्रिटेन के बाद भारत चौथे स्थान पर है। नए वर्ष 2021 में इनकी संख्या और इनमें रोजगार के नए मौके तेजी से बढ़ने की संभावनाएं हैं।

लेकिन अभी भी कोविड के चलते कठिन आर्थिक चुनौतियों के बीच इन चमकीली संभावनाओं को साकार करने के लिए भारी रणनीतिक प्रयासों की जरूरत होगी। आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत घोषित किए गए विभिन्न आर्थिक पैकेजों के क्रियान्वयन पर पूरा ध्यान देना होगा। विकास को गति देने के लिए सरकार द्वारा स्वास्थ्य, श्रम, भूमि, कारोबार, विदेशी निवेश, कौशल, बैंकिंग और वित्तीय क्षेत्रों में घोषित किए गए सुधारों को कार्यान्वयन की डगर पर तेजी से आगे बढ़ाना होगा।

(ये लेखक के अपने विचार हैं।)

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कोई लाभदायक यात्रा संपन्न हो सकती है। अत्यधिक व्यस्तता के कारण घर पर तो समय व्यतीत नहीं कर पाएंगे, परंतु अपने बहुत से महत्वपूर्ण काम निपटाने में सफल होंगे। कोई भूमि संबंधी लाभ भी होने के य...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser