पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

एन. रघुरामन का कॉलम:ईश्वर शायद सभी आंत्रप्रेन्योर्स को छप्पर फाड़कर न दें। सावधान रहें और ‘ईश्वर का उपहार’ स्वीकारने से पहले अच्छे से जांच-परख लें

11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
एन. रघुरामन, मैनेजमेंट गुरु - Dainik Bhaskar
एन. रघुरामन, मैनेजमेंट गुरु

बाजार में कई तरह के मास्क मिलते हैं, लेकिन बच्चे के लिए सही मास्क तलाशना अक्सर मुश्किल होता है। साथ ही, बच्चों की अलग पसंद होती है, जो कई बार सभी जगह उपलब्ध नहीं होती। चार वर्षीय ईथन का उदाहरण देखें, जिसने अपनी मां शर्ली नेसामनी से मांग की कि उसे फायर ट्रक थीम वाला मास्क चाहिए। उन्हें दुकानों पर ऐसा मास्क नहीं मिला।

इसलिए उन्होंने खुद बनाने का फैसला लिया। आजकल सुरक्षा और टिकाऊपन ज्यादातर माता-पिता की प्राथमिकता होती है और मैं ऐसे माता-पिता को जानता हूं जो बच्चों के लिए खुद उत्पाद बनाते हैं। बेंगलुरु की शर्ली ने नया मास्क बनाया और उसे पहने हुए ईथन की तस्वीर सोशल साइट्स पर भी डालीं। दोस्तों और रिश्तेदार के उत्साहवर्धन पर उन्होंने डिजाइन पोस्ट कीं और उनका काम जान-पहचान के बाहर भी पहुंचने लगा।

यह सच है कि अच्छी चीजें सभी स्वीकारते हैं लेकिन याद रखें कि वे धीरे-धीरे बढ़ती हैं। जब कोई बिजनेस अचानक तेजी से बढ़े तो हमेशा जांच करें कि ऐसा क्यों हुआ। शायद यह जिज्ञासा हमें जवाब दे कि हम वाकई खुशकिस्मत हैं या ठगे गए हैं। खुद को बैंकर, नौकरी देने वाला या ऑनलाइन विक्रेता बताकर सायबर ठगी करने वाले अब ‘ग्राहक’ बनकर भी ठग रहे हैं।

अहमदाबाद निवासी होम शेफ मोनाली बाग मेहता का उदाहरण देखें, जो बंगाली और अन्य व्यंजन बनाती हैं। पिछले साल पति की नौकरी जाने के बाद मोनाली ने कैटरिंग सर्विस शुरू की और ग्राहकों तक पहुंचने के लिए सोशल मीडिया पर जानकारी साझा की। उन्हें एक अंजान नंबर से किसी व्यक्ति का फोन आया। वह बोला कि वह 15 दिन के लिए 20 लोगों के खाने का ऑर्डर देना चाहता है। उसने खुद को आर्मी से जुड़ा बताया। उसकी आवाज में आत्मविश्वास था। वह कुछ दिन पूछताछ करता रहा। ऑर्डर मिलने पर मोनाली ने इस गुरुवार बाजार से सामग्री लाकर 20 लोगों का खाना तैयार किया।

रात 9 बजे उसी व्यक्ति ने फोन कर खाने और पेमेंट मोड के बारे में पूछा। उसने कैश, यूपीआई या वॉलेट की जगह बैंक ट्रांसफर पर जोर दिया। मोनाली बैंक खाते की जानकारी वाले चेक की तस्वीर भेजने तैयार थीं, लेकिन वह डेबिट कार्ड की दोनों तरफ की फोटो मांगने लगा। तब मोनाली को शक हुआ। उन्होंने कार्ड की फोटो भेजने से मना कर दिया। व्यक्ति ने फोन रख दिया और कभी खाना लेने नहीं आया। शुक्रवार की सुबह मोनाली ने खाना गरीबों में बांट दिया।

कुछ लोग बिजनेस करते हैं क्योंकि उनमें जुनून है, जबकि कुछ बिजनेस करते हैं क्योंकि उनकी मजबूरी होती है। लेकिन दोनों ही ऐसा बिजनेस करते हैं, जो कुछ पैसा दे। लेकिन बिजनेस में तुरंत छप्पर फाड़ कमाई की उम्मीद करना गलत है।

मैं लोगों के बारे में नहीं जानता, लेकिन पुलिस यह समझ गई है कि सायबर बदमाश ठगी के नए-नए तरीके ला रहे हैं। बेंगलुरु पुलिस ने आम सायबर अपराधों के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए एक एनजीओ के सहयोग से शॉर्ट फिल्में बनाई हैं। इन छह शॉर्ट फिल्मों की थीम क्यूआर कोड स्कैन, डेटिंग एप स्कैन, ओटीपी/क्रेडिट कार्ड स्कैम, मानसिक रोग/सायबर बुलिइंग और मॉर्फिंग (तस्वीरों से छेड़छाड़) हैं। वीडियो ठगे जाने के बाद उठाए जाने वाले कदमों और शिकायत के लिए पुलिस से संपर्क के तरीकों के बारे में भी बताते हैं।

फंडा यह है कि कलियुग में अब ईश्वर शायद सभी आंत्रप्रेन्योर्स को छप्पर फाड़कर न दें। सावधान रहें और ‘ईश्वर का उपहार’ स्वीकारने से पहले अच्छे से जांच-परख लें।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कोई लाभदायक यात्रा संपन्न हो सकती है। अत्यधिक व्यस्तता के कारण घर पर तो समय व्यतीत नहीं कर पाएंगे, परंतु अपने बहुत से महत्वपूर्ण काम निपटाने में सफल होंगे। कोई भूमि संबंधी लाभ भी होने के य...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser