पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

एन. रघुरामन का कॉलम:अगर आप जानते हैं कि समय कैसे खर्च करना है, तो आप अपनी कमाई का 200% आनंद ले पाएंगे, फिर इससे फर्क नहीं पड़ता कि कमाई कितनी है

2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
एन. रघुरामन, मैनेजमेंट गुरु
Advertisement
Advertisement

ब हुत लोगों के पास इन दिनों पैसे से ज्यादा समय है। हालांकि हम यह सुनते हुए बड़े हुए हैं कि ‘समय पैसा है’, लेकिन यह नहीं जानते कि कैसे। हम नहीं जानते कि समय कैसे खर्च करें कि इसमें वही आनंद मिले जो कई लोगों को पैसा खर्चने में मिलता है।

क्या आप जानना चाहते हैं? तो इन सवालों का जवाब दें: 1. आप क्या चाहते हैँ? संपत्ति की गुणवत्ता या जीवन की? 2. जीवनभर काम कर, 60 के बाद के जीवन का आनंद लेने के लिए पैसा जोड़ना चाहते हैं या पैसा कमाते हुए जीवन का आनंद लेना चाहते हैं? अगर दोनों का जवाब दूसरा विकल्प है, तो आपने सीख लिया है कि केवल पैसों की जरूरत पड़ने पर कैसे काम करें। कोरोना के बाद के दौर में इसे ‘गिग वर्कर’ कहते हैं। ‘गिग वर्कर’ का अर्थ है कि आप ‘परमानेंट इम्प्लॉयी’ नहीं हैं लेकिन ‘परमानेंटली टेम्पररी इम्प्लॉयी’ हैं। न सिर्फ एक संस्थान के लिए बल्कि कई संस्थानों के लिए, जो कीमत चुकाकर आपका कौशल खरीदना चाहती हैं। जिसका मतलब है कि आपको जब पैसा चाहिए होगा, आप काम करेंगे और फिर कुछ समय के लिए उस पैसे का आनंद लेंगे।

मैं ऐसे एक व्यक्ति को जानता हूं जो मेरे प्रिय दोस्त हैं और वर्षों से ऐसी जिंदगी जी रहे हैं। ये हैं बॉलीवुड एक्टर नाना पाटेकर। वे निर्माता-निर्देशकों से रोल के लिए तभी संपर्क करते हैं जब उनकी आय खत्म होने वाली हो! सुनने में अजीब लगेगा लेकिन वे ऐसे ही जीते हैं। खाली समय में शौक पूरे करते हैं और उनमें से एक है शूटिंग (बंदूक से निशानेबाजी)। वे जब इंदौर के पास मऊ में शूटिंग प्रैक्टिस के लिए आते, तो मेरे घर आया करते थे। मैं उन्हें आश्चर्य से देखता था क्योंकि 2000 में गिग वर्कर मेरे लिए नया था। वे मुझसे कहते थे, ‘जब भी मुझे कुछ ऐसा खरीदना हो, जिसके लिए मेरे पास पैसे न हों, तो मैं प्रोड्यूसर्स से रोल मांग लेता हूं।’ आप भी एक कंपनी के लिए कई प्रोजेक्ट्स पर काम कर ‘डिपेंडेंट गिगर’ बन सकते हैं, जो फ्रीलांस नौकरी से बिल्कुल अलग है। और गिग वर्कर कभी आपदाओं से प्रभावित भी नहीं होते, जिसमें कोरोना के बाद के असर भी शामिल हैं। वे हर पल का पूरा आनंद उठाते हैं।

जो लोग ‘गिग इम्प्लॉयमेंट’ समझते हैं, वे 34 वर्षीय ट्रेसा सोरिआनो की तरह जीवन जीते हैं, जो स्पेन के वैलेंसिआ में इंडस्ट्रीयल डिजाइनर है। फिलहाल वह कर्नाटक के कुंडापुर में हेरांजल गांव में दोस्त के घर पर रह रही है क्योंकि मार्च में उसकी भारत और श्रीलंका की यादगार यात्रा भारत आने के बाद अटक गई।

तब से वह उस गांव की सभी गतिविधियों में शामिल हो गई। उसने सिर्फ रंगोली बनाना और गाय दुहना ही नहीं सीखा, बल्कि उसे मूंगफली की खेती, धान बोना, नारियल के पत्तों से झाड़ू बनाना, अलग-अलग सामान बनाने के लिए जंगल से पत्तियां इकट्‌ठी करना और नदी से मछलियां पकड़ना तक आने लगा है। उसने अंतरराष्ट्रीय फ्लाइट्स शुरू होने के बाद स्पेन लौटने से पहले गोवा जाने की योजना बनाई है। ट्रेसा की मार्च के बाद की जिंदगी हमसे एक विकल्प पूछ रही है। क्या हमें अपने कॅरिअर की चूहा-दौड़ याद आती है या हम उस समय का आनंद लेते हैं, जो इस आपदा ने दिया है? अगर आपने फिर से दूसरा विकल्प चुना तो आप जानते हैं कि समय कैसे खर्च करें क्योंकि समय भी पैसों से ज्यादा मूल्यवान है!

फंडा यह है कि अगर आप जानते हैं कि समय कैसे खर्च करना है, तो आप अपनी कमाई का 200% आनंद ले पाएंगे। फिर इससे फर्क नहीं पड़ता कि कमाई कितनी है।

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज आप अपनी रोजमर्रा की व्यस्त दिनचर्या में से कुछ समय सुकून और मौजमस्ती के लिए भी निकालेंगे। मित्रों व रिश्तेदारों के साथ समय व्यतीत होगा। घर की साज-सज्जा संबंधी कार्यों में भी समय व्यतीत हो...

और पढ़ें

Advertisement