पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

पं. विजयशंकर मेहता का कॉलम:प्रसन्न रहना हो तो मन को निष्क्रिय करना होगा, इसमें सबसे बड़ा मददगार होगा ध्यान, यानी मेडिटेशन

4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पं. विजयशंकर मेहता

बुद्धि यदि आदेश देना बंद कर दे तो आंखें देखकर भी नहीं देख पाएंगीं। मन यदि बुद्धि को आदेश दे रहा हो तो बुद्धि चाहकर भी कुछ नहीं सोच पाएगी। हमारा मन शरीर में कहां है, यह बहुत देखने पर भी नहीं दिखता। जिस प्रकार पुष्प में गंध, तिल में तेल, लकड़ी में अग्नि, दूध में घी और गन्ने में मिठास होती है पर दिखती नहीं, वैसे ही शरीर में मन घुला हुआ है।

‘पुष्पे गंधं तिले तेलं काष्ठे अग्निं पयसि घृतं।’ मन को देखने के लिए एक अलग ही दृष्टि चाहिए, क्योंकि उसके भीतर विचारों की जबरदस्त भीड़ है। यह भीड़ हमारी जिंदगी के वीराने को और बढ़ा देती है। मायूसी का मजमा लगाने में मन को बड़ा मजा आता है। वह तो चाहता ही है मेरा मालिक अशांत और उदास बना रहे। इसलिए शांति की चाहत हो तो अपने मन को विचारों, व्यक्तियों और परिस्थितियों को कट-पेस्ट करने से रोकें। ‘कट-पेस्ट’ कंप्यूटर सिस्टम की भाषा है। मन इसमें बड़ा माहिर होता है।

अपने ऊपर कब किसको जोड़ दे, घटा दे, प्रवेश करा दे, हटा दे, कोई भरोसा नहीं। बस, मन की यही सक्रियता हमें अशांत करती है। शांत रहना हो, प्रसन्न रहना हो तो मन को निष्क्रिय करना होगा। मन सक्रिय रहता है, विचारों के भोजन से। उसे विचारों का आहार देना बंद कीजिए। यहां हमारा सबसे बड़ा मददगार होगा ध्यान, यानी मेडिटेशन।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- लाभदायक समय है। किसी भी कार्य तथा मेहनत का पूरा-पूरा फल मिलेगा। फोन कॉल के माध्यम से कोई महत्वपूर्ण सूचना मिलने की संभावना है। मार्केटिंग व मीडिया से संबंधित कार्यों पर ही अपना पूरा ध्यान कें...

और पढ़ें