पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पं. विजयशंकर मेहता का कॉलम:अस्थिरता हमें ईश्वर से दूर कर शांति से वंचित कर देती है, तो योग कीजिए, थोड़ा ठहरिए

2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पं. विजयशंकर मेहता - Dainik Bhaskar
पं. विजयशंकर मेहता

‘जो शांति से बैठ जाता है, वह मुझे जल्दी पा लेता है’। ऐसा भगवान ने शास्त्रों में कई बार अलग-अलग ढंग से अलग-अलग लोगों से कहा है। इसका सतही अर्थ तो यह है कि बैठ गए तो निकम्मे हो जाएंगे। तो क्या परमात्मा को पाने के लिए काम-धंधा छोड़ दें? ऊपरी तौर पर देखेंगे तो बात ऐसी ही लगेगी, लेकिन यदि गहराई में उतरेंगे तो पाएंगे परमात्मा कहता है दुनिया की वस्तुएं पाना हो तो चलना क्या, दौड़ना पड़ेगा।

दौड़ने पर दुनिया, दुनिया की तमाम वस्तुएं मिल भी जाएंगी, लेकिन यदि मुझे पाना है तो दौड़ नहीं लगा पाओगे। मेरी ओर उठाया हुआ कदम यदि दौड़ से आरंभ किया तो जल्दी हांफ जाओगे। मैं कहता हूं बैठ जाओ, इसका मतलब है भीतर से ठहर जाओ। शरीर सक्रिय रहे, पर मन निष्क्रिय हो जाए। जो लोग बहुत दौड़ते हैं, उनका शरीर तो हांफेगा ही, मन भी अशांत होता है।

इसलिए भीतर से अस्थिर लोगों को परमात्मा बहुत प्रतीक्षा करवाता है। लेकिन, जो भीतर से स्थिर होंगे, ठहर गए होंगे, परमात्मा खुद उन तक पहुंचता है। कभी अपना मूल्यांकन करें। आपका बैठा हुआ शरीर एक स्थान पर होगा, लेकिन भीतर से आप पता नहीं कहां-कहां घूम रहे होंगे। बस, यही अस्थिरता हमें ईश्वर से दूर कर शांति से वंचित कर देती है। तो योग कीजिए, थोड़ा ठहरिए।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज आप में काम करने की इच्छा शक्ति कम होगी, परंतु फिर भी जरूरी कामकाज आप समय पर पूरे कर लेंगे। किसी मांगलिक कार्य संबंधी व्यवस्था में आप व्यस्त रह सकते हैं। आपकी छवि में निखार आएगा। आप अपने अच...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser