पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जयप्रकाश चौकसे का कॉलम:व्यवस्था इतनी कुटिल है कि उसने हर एक को दूसरे पर नजर रखने के काम में लगा दिया है

2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

आजकल विशाल भारद्वाज कश्मीर में अपनी अगली फिल्म की पटकथा लिख रहे हैं। अगाथा क्रिस्टी के उपन्यासों की काल्पनिक पात्र उम्रदराज महिला जासूस है और उसका नाम मिस मार्पल है। अगाथा क्रिस्टी के जासूस नायक का नाम हरक्यूल पॉयरोट है। किसी भी उपन्यास में मिस मार्पल और हरक्यूल पॉयरोट को एक टीम के रूप में सक्रिय प्रस्तुत नहीं किया गया है। आलिया भट्ट ने इस फिल्म में काम करना स्वीकार किया है।

ज्ञातव्य है कि आर.व्ही पंडित ने अपनी फिल्म ‘माचिस’ में विशाल भारद्वाज को संगीत देने का अवसर दिया था। इसके पूर्व में वे विज्ञापन के जिंगल बनाते थे। विशाल भारद्वाज ने ‘मैकबेथ’ से प्रेरित तब्बू, इरफान खान और पंकज कपूर अभिनीत ‘मकबूल’ बनाई थी। ‘मकबूल’ अत्यंत रोचक फिल्म थी। विशाल ने ‘हैमलेट’ से प्रेरित तब्बू और शाहिद कपूर अभिनीत फिल्म ‘हैदर’ बनाई थी। शरत बाबू के ‘देवदास’ और शेक्सपियर के ‘हैमलेट’ से प्रेरित फिल्में बार-बार बनाई गई हैं। दोनों ही पात्र दुविधाग्रस्त पात्र हैं। संभव है कि आम आदमी भी दुविधाग्रस्त है। इसलिए अवाम इन पात्रों से भावनात्मक रिश्ते महसूस करते रहे हैं। इसी दुविधा का लाभ उठाकर संकीर्णता के हामी चुनाव जीतते रहे हैं।

पश्चिम के प्रकाशक यह मानते हैं कि ‘बाइबिल’ के बाद अगाथा क्रिस्टी की किताबें हीं सबसे अधिक बिकी हैं। भारत में महाराष्ट्र और बंगाल के आम नागरिक किताबें खरीदते हैं। राष्ट्र भाषा हिंदी के प्रकाशक उसी लेखक या कवि की किताबें प्रकाशित करते हैं जो स्वयं 300 से 500 प्रतियों के अग्रिम दाम उनके के पास जमा करता है।

विद्या बालन अभिनीत फिल्म में विद्या बालन ने एक महिला जासूस का पात्र अभिनीत किया था। इस पात्र से एक ही काम अच्छा होता है कि वह बिछड़े हुए पिता-पुत्र को मिला देती है। फिल्म ‘बेशर्म’ में रणबीर कपूर नौसिखिए जासूस हैं। इस फिल्म में ऋषि कपूर और नीतू सिंह ने भी काम किया था। कपूर परिवार ने कमजोर पटकथा वाली फिल्म में मात्र इसलिए अभिनय किया था कि वे एक साथ लंबा समय व्यतीत कर सकें। राज कपूर और राजेंद्र कुमार ने भी हास्य फिल्म ‘दो जासूस’ में अभिनय किया था। हमारे यहां प्राइवेट जासूस को प्राय: शक्की महिलाएं अपने पतियों पर नजर रखने का काम देती हैं। बोनी कपूर की ‘नो एंट्री’ भी इसी शंका के इर्द-गिर्द घूमने वाली हास्य फिल्म थी।

हमारे यहां महिला जासूस पात्र पर फिल्में नहीं बनी हैं। यह महिला के प्रति हमारे सामान्य व्यवहार का ही एक हिस्सा है। दूसरे विश्व युद्ध में माता हारी नामक एक महिला स्पाई रही है। यह कल्पना ही गुदगुदाती है कि पी.जी वुडहाउस मिस मार्पल को किरदार लेकर उपन्यास लिखते तो क्या खूब रचना जारी होती। फूहड़ फिल्म ‘बादशाह’ में ट्विंकल खन्ना अनचाहे ही एक जासूस का साथ देती हैं। ट्विंकल प्रतिभाशाली पत्रकार हैं। उनके कॉलम में हास्य व्यंग के साथ हकीक़त प्रस्तुत की जाती है।

टेलीविजन पर लंबे समय से चले आ रहे ‘सीआईडी’ में कुछ महिलाएं दल की सदस्य हैं। एक अनअभिव्यक्त प्रेम कहानी उनमें पिरोई गई है। इस सीरियल में एक ही संवाद अनेक पात्र दोहराते हैं। 30 मिनट के कार्यक्रम में 8 मिनट के विज्ञापन और 1-1 मिनट के अंतराल हैं। लेखन कार्य मात्र 20 मिनट का मसाला लिखने का है। संवाद को दोहराने से वह कष्ट भी कम हो जाता है।

व्यक्ति को अपनी निजता की रक्षा करने का अधिकार है परंतु जासूसी के कार्य में इस नैतिक मूल्य का बलिदान करना होता है। उद्देश्य अपराध रोकने का है, अपराधी को दंडित करने का है। सेटेलाइट द्वारा सब पर नजर रखी जा सकती है। व्यवस्था इतनी कुटिल है कि उसने हर एक को दूसरे पर नजर रखने के काम में लगा दिया है। परिवार में भी कोई संकीर्णता का हामी सदस्य आप पर नजर रख रहा है। वर्तमान में हम सभी निगरानी में हैं। याद आता है ‘अनाड़ी’ का गीत, दिल की नज़र से, नज़रों की दिल से ये बात क्या है, ये राज़ क्या है कोई हमें बता दे..., हम खो चले, चांद है या कोई जादूगर है।’

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज आप में काम करने की इच्छा शक्ति कम होगी, परंतु फिर भी जरूरी कामकाज आप समय पर पूरे कर लेंगे। किसी मांगलिक कार्य संबंधी व्यवस्था में आप व्यस्त रह सकते हैं। आपकी छवि में निखार आएगा। आप अपने अच...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser