ओमिक्रॉन डेल्टा से 4-5 गुना घातक:तीसरी लहर के पीक पर रोजाना 16 लाख केस आने का अनुमान, हर दिन 40 हजार हॉस्पिटलाइजेशन होंगे

7 महीने पहले

भारत में ओमिक्रॉन की एंट्री 2 दिसंबर को हुई थी और करीब 1 महीने में ही केसेज बढ़कर 1700 से भी ज्यादा हो गए हैं। इस वजह से एक हफ्ते में देश में कोरोना संक्रमण की दर लगभग तीन गुना बढ़ गई है।

ओमिक्रॉन को लेकर चिंता की बात ये है कि ये तेजी से फैल रहा है, लेकिन इससे संक्रमित लोगों में गंभीर लक्षण कम है। गंभीर लक्षण भले ही कम हों, लेकिन मरीजों की ज्यादा संख्या हमारे लिए खतरे की घंटी है। अनुमान के मुताबिक, तीसरी लहर की पीक के दौरान 40-60 हजार मरीजों को हॉस्पिटलाइज करने की जरूरत पड़ सकती है। ये हमारे हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए नई चुनौती पैदा कर सकता है।

समझते हैं, अलग-अलग देशों में ओमिक्रॉन की वजह से हॉस्पिटलाइजेशन का डेटा किस ट्रेंड की ओर इशारा कर रहा है? ओमिक्रॉन कितनी तेजी से फैल रहा है? और गंभीर मरीज कम होने के बावजूद ओमिक्रॉन हमारे लिए कितना बड़ा खतरा है?...

सबसे पहले हॉस्पिटलाइजेशन से जुड़ा अलग-अलग देशों का डेटा समझते हैं

ब्रिटेन

ब्रिटेन हेल्थ सिक्योरिटी एजेंसी ने 5,28,176 ओमिक्रॉन और 5,73,012 डेल्टा केसेज का एनालिसिस किया था। इसमें सामने आया कि डेल्टा के मुकाबले ओमिक्रॉन में केवल एक तिहाई लोगों को ही हॉस्पिटल में एडमिट करना पड़ा था। ओमिक्रॉन पर वैक्सीन के प्रभाव को लेकर एजेंसी ने कहा था कि वैक्सीन के 2-3 डोज लेने के बाद हॉस्पिटलाइजेशन में 81% की कमी आती है। साथ ही ओमिक्रॉन की वजह से वेंटिलेटर वाले मरीजों की संख्या भी डेल्टा की तुलना में कम है।

अमेरिका

अमेरिका में चिंता वाली बात ये है कि यहां पर बच्चों में हॉस्पिटलाइजेशन रेट ज्यादा है। 28 दिसंबर तक के आंकड़ों के मुताबिक, 0-17 एज ग्रुप में के 378 बच्चों को हॉस्पिटलाइज करना पड़ा। पिछले हफ्ते के मुकाबले ये 66% और डेल्टा की वजह से आई दूसरी लहर के पीक से भी ज्यादा है। हालांकि, हॉस्पिटलाइजेशन ज्यादा होने के बावजूद गंभीर लक्षण कम हैं।

दक्षिण अफ्रीका

नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर कम्युनिकेबल डिसीज (NICD) ने दक्षिण अफ्रीका में अप्रैल से नवंबर तक मिले डेल्टा और ओमिक्रॉन केसेज को एलानाइज किया है। इसके मुताबिक, डेल्टा के मुकाबले ओमिक्रॉन की वजह से हॉस्पिटल में ए़डमिट लोगों में गंभीर लक्षण का खतरा 30% तक कम है।

ओमिक्रॉन से गंभीर मरीज भले ही कम, लेकिन मरीजों की ज्यादा संख्या चिंताजनक

ओमिक्रॉन को लेकर एक अच्छी और एक बुरी बात है। अच्छी बात ये कि इससे संक्रमित ज्यादातर मरीजों में गंभीर लक्षण नहीं है। बुरी बात ये कि ओमिक्रॉन डेल्टा से 4-5 गुना तेजी से फैल रहा है। अगर ओमिक्रॉन की तुलना डेल्टा से करें तो तीसरी लहर के पीक पर एक दिन में 16-20 लाख तक नए केसेज आ सकते हैं। हमारे लिए समझने वाली बात ये है कि मरीजों में गंभीर लक्षण भले ही कम हों, लेकिन मरीजों की संख्या ज्यादा होना भी अपने आप में चिंता का विषय है। जैसे-जैसे मरीज बढ़ेंगे उसी अनुपात में गंभीर मरीज भी बढ़ते जाएंगे।

  • दूसरी लहर के पीक के दौरान भारत में हर रोज 4 लाख के करीब नए केसेज आ रहे थे। इनमें से करीब 25 हजार को हॉस्पिटल में एडमिट करना पड़ा था। माना जा रहा है कि ओमिक्रॉन की वजह से रोजाना 16-20 लाख तक नए केसेज आ सकते हैं और इनमें से 40-60 हजार को हॉस्पिटलाइज करना होगा। जब 25 हजार लोगों को हॉस्पिटलाइज करना पड़ा था तब आपने स्वास्थ्य सुविधाओं का हाल देखा ही था। 40-60 हजार लोगों को जब हॉस्पिटालइज करने की जरूरत होगी तब स्थिति भयावह हो सकती है।
  • सरकारी आंकड़ों में फिलहाल ओमिक्रॉन के कम मामले आ रहे हैं, लेकिन एक्सपर्ट्स का मानना है कि संक्रमितों की संख्या 18 हजार तक हो सकती है। चूंकि वैरिएंट का पता लगाने के लिए जीनोम सीक्वेंसिंग करनी होती है और भारत में इसके लिए लैब कम हैं, इस वजह से टेस्टिंग भी कम हो रही है और आंकड़े भी कम आ रहे हैं। जबकि वास्तविकता में ये काफी ज्यादा हैं।
  • ओमिक्रॉन काफी तेजी से फैल रहा है। भारत में 2 दिसंबर को पहले 2 केस डिटेक्ट हुए थे। उसके बाद एक महीने में ही कुल केसेज के करीब आधे केसेज ओमिक्रॉन की वजह से आ रहे हैं।