भास्कर एक्सप्लेनर:क्यों बार-बार भारत में घुसपैठ की कोशिश करता रहता है चीन, जानें 1962 के युद्ध के बाद कब-कब बिगड़े हालात?

11 दिन पहलेलेखक: जयदेव सिंह

अरुणाचल प्रदेश के तंगवा सेक्टर में चीनी सैनिकों की घुसपैठ का मामला सामने आया है। घटना पिछले हफ्ते तवांग के यांग्से की है, जहां चीनी सैनिकों की हकरत की वजह से घंटों तनावपूर्ण स्थिति बनी रही। इसके बाद तय प्रोटोकॉल के तहत स्थानीय कमांडर्स के बीच बातचीत हुई और मामले को सुलझा लिया गया। एक हफ्ते पहले हुई ये घटना गुरुवार देर रात सामने आई। दोनों देशों के बीच पिछले 17 महीने से तनाव जारी है।

इस संघर्ष की नौबत क्यों आई? दोनों देशों के बीच बार-बार झड़प क्यों होती है? 1962 में दोनों के बीच युद्ध क्यों हुआ था? 1962 के बाद कब-कब दोनों देशों में तनाव चरम पर रहा? आइये जानते हैं...

संघर्ष की नौबत क्यों आई और इसमें कितना नुकसान हुआ?
कहा जा रहा है कि पेट्रोलिंग के दौरान कुछ चीनी सैनिक भारतीय सीमा में घुस आए। चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के सैनिकों को भारतीय सैनिकों ने वापस खदेड़ दिया। दोनों देशों के बीच पूर्वी सीमा पर लद्दाख में होने वाली हाई-लेवल मिलिट्री मीटिंग से पहले इस घटना के बारे में जानकारी बाहर आई। कोर कमांडर लेवल की ये बातचीत अगले तीन से चार दिन में होनी है।

सेना से जुड़े सूत्रों का कहना है कि कुछ घंटे चला तनाव आपसी बातचीत से बाद खत्म हो गया। वैसे इस तनाव में भारतीय डिफेंस को किसी तरह का नुकसान नहीं हुआ है।

बार-बार क्यों होता है दोनों देशों के बीच इस तरह का विवाद?
दरअसल भारत और चीन के बार्डर की पूरी तरह से मैपिंग नहीं हुई है। यह दुनिया की ऐसी सबसे बड़ी सीमा भी मानी जाती है, जिसकी पूरी तरह से मैपिंग नहीं हो सकी है। भारत मैकमोहन लाइन को वास्तविक सीमा मानता है, जबकि चीन इसे सीमा नहीं मानता। इसी लाइन को लेकर 1962 में भारत और चीन के बीच जंग भी हुई थी, क्योंकि चीन ने लद्दाख, अरुणाचल प्रदेश समेत कई जगहों पर भारतीय जमीन पर कब्जा कर लिया था। चीन का यह कब्जा 59 साल बाद आज भी कायम है। जहां तक चीन का कब्जा है, वहां तक की सीमा लाइन ऑफ ऐक्चुअल कंट्रोल (LAC) या वास्तविक नियंत्रण रेखा के नाम से जानी जाती है।

भारत-चीन के बीच 1962 में जंग की वजह क्या थी?
चीन ने 20 अक्टूबर 1962 को भारत हमला बोल दिया था। बहाना- विवादित हिमालय सीमा ही थी, लेकिन मुख्य वजह कुछ और मुद्दे भी थे। इनमें सबसे प्रमुख 1959 में तिब्बती विद्रोह के बाद दलाई लामा को शरण देना था।

चीन ने लद्दाख के चुशूल में रेजांग-ला और अरुणाचल के तवांग में भारतीय जमीनों पर अवैध कब्जा कर लिया था। इसके साथ ही चीन ने भारत पर चार मोर्चों पर एक साथ हमला किया। यह मोर्चे- लद्दाख, हिमाचल, उत्तराखंड और अरुणाचल थे।

इस जंग में चीन को जीत मिली थी। हालांकि, तब भारत युद्ध के लिए तैयार ही नहीं था। चीन ने एक महीने बाद 20 नवम्बर 1962 को युद्ध विराम की घोषणा कर दी।

1962 के बाद दोनों देशों में कौन से बड़े विवाद हुए?

1967- नाथू ला दर्रे के पास टकराव हुआ
1967 का टकराव तब शुरू हुआ, जब भारत ने नाथू ला से सेबू ला तक तार लगाकर बॉर्डर की मैपिंग कर डाली। 14,200 फीट पर स्थित नाथू ला दर्रा तिब्बत-सिक्किम सीमा पर है, जिससे होकर पुराना गैंगटोक-यातुंग-ल्हासा सड़क गुजरती है। 1965 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान चीन ने भारत को नाथू ला और जेलेप ला दर्रे खाली करने को कहा। भारत ने जेलेप ला तो खाली कर दिया, लेकिन नाथू ला दर्रे पर स्थिति पहले जैसी ही रही। इसके बाद से ही नाथू ला विवाद का केंद्र बन गया। भारतीय सीमा पर चीन ने आपत्ति की और फिर सेनाओं के बीच हाथापाई व टकराव की नौबत आ गई। कुछ दिन बाद चीन ने मशीन गन से भारतीय सैनिकों पर हमला किया और भारत ने इसका जवाब दिया। कई दिनों तक ये लड़ाई चलती रही और भारत ने अपने जवानों की पोजिशन बचाकर रखी। चीनी सेना ने बीस दिन बाद फिर से भारतीय इलाके में आगे बढ़ने की कोशिश की। अक्टूबर 1967 में सिक्किम तिब्बत बॉर्डर के चो ला के पास भारत ने चीन को करारा जवाब दिया। उस समय भारत के 80 सैनिक शहीद हुए थे, जबकि चीन के 300 से 400 सैनिक मारे गए थे।

1975- चीन ने अरुणाचल के तुलुंग में हमला किया
1967 की शिकस्त चीन कभी हजम नहीं कर पाया और लगातार सीमा पर टेंशन बढ़ाने की कोशिश करता रहा। ऐसा ही एक मौका 1975 में आया। अरुणाचल प्रदेश के तुलुंग ला में असम राइफल्स के जवानों की पेट्रोलिंग टीम पर अटैक किया गया।

इस हमले में चार भारतीय जवान शहीद हो गए। भारत ने कहा कि चीन ने LAC पर भारतीय सेना पर हमला किया, लेकिन चीन ने भारत के दावे को नकार दिया।

1987- तवांग में दोनों देशों के बीच टकराव हुआ
1987 में भी भारत-चीन के बीच टकराव देखने को मिला, ये टकराव तवांग के उत्तर में समदोरांग चू इलाके में हुआ। भारतीय फौज नामका चू के दक्षिण में ठहरी थी, लेकिन एक IB टीम समदोरांग चू में पहुंच गई, ये जगह नयामजंग चू के दूसरे किनारे पर है। समदोरंग चू और नामका चू दोनों नाले नयामजंग चू नदी में गिरते हैं। 1985 में भारतीय फौज पूरी गर्मी में यहां डटी रही, लेकिन 1986 की गर्मियों में पहुंची तो यहां चीनी फौजें मौजूद थीं। समदोरांग चू के भारतीय इलाके में चीन अपने तंबू गाड़ चुका था, भारत ने चीन को अपने सीमा में लौट जाने के लिए कहा, लेकिन चीन मानने को तैयार नहीं था। भारतीय सेना ने ऑपरेशन फाल्कन चलाया और जवानों को विवादित जगह एयरलैंड किया गया। जवानों ने हाथुंग ला पहाड़ी पर पोजीशन संभाली, जहां से समदोई चू के साथ ही तीन और पहाड़ी इलाकों पर नजर रखी जा सकती थी। लद्दाख से लेकर सिक्किम तक भारतीय सेना तैनात हो गई। हालात काबू में आ गए और जल्द ही दोनों देशों के बीच बातचीत के जरिए मामला शांत हो गया। हालांकि, 1987 में हिंसा नहीं हुई, न ही किसी की जान गई।

2017- डोकलाम में 75 दिन तक सेनाएं आमने-सामने डटी रहीं
डोकलाम की स्थिति भारत, भूटान और चीन के ट्राई-जंक्शन जैसी है। डोकलाम एक विवादित पहाड़ी इलाका है, जिस पर चीन और भूटान दोनों ही अपना दावा जताते हैं। डोकलाम पर भूटान के दावे का भारत समर्थन करता है।

जून, 2017 में जब चीन ने यहां सड़क निर्माण का काम शुरू किया तो भारतीय सैनिकों ने उसे रोक दिया था। यहीं से दोनों पक्षों के बीच डोकलाम को लेकर विवाद शुरू हुआ था भारत की दलील थी कि चीन जिस सड़क का निर्माण करना चाहता है, उससे सुरक्षा समीकरण बदल सकते हैं।

चीनी सैनिक डोकलाम का इस्तेमाल भारत के सिलिगुड़ी कॉरिडोर पर कब्जे के लिए कर सकते हैं। दोनों देशों के सीमाएं 75 दिन से ज्यादा वक्त तक आमने-सामने डटी रहीं, लेकिन कोई हिंसा नहीं हुई थी।

2020- गलवान में 10 महीने चले टकराव के बाद पीछे हटी सेनाएं, लेकिन तनाव अब भी
मई-जून 2020 में दोनों देशों के सैनिकों के बीच टकराव शुरू हुआ। चीन ने 27 साल पुराने समझौते को तोड़ा। कुछ जगहों पर हिंसक झड़प भी हुई। करीब 45 साल बाद दोनों देशों के बीच खूनी संघर्ष देखने को मिला, जिसमें भारत के बीस जवान शहीद हुए। इस झड़प में 40 चीनी सैनिक भी मारे गए। 10 महीने बाद दोनों देशों के बीच अपनी सेनाओं को पीछे हटाने को लेकर सहमति बनी। दोनों देशों ने अप्रैल 2020 से पैंगॉन्ग लेक के नॉर्थ और साउथ बैंक पर जो भी कंस्ट्रक्शन किए थे, उन्हें हटाने और पहले की स्थिति कायम करने को राजी हुए।

खबरें और भी हैं...