पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Db original
  • Explainer
  • Coronavirus Death Per Day USA India Brazil; Covid 19 Cases And Number Of Deaths By Country | Global Coronavirus Deaths Cross 30 Million Mark

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भास्कर डेटा स्टोरी:दुनिया में कोरोना से अब तक 30 लाख लोगों की मौत; हर मिनट 8 मौतें, हर घंटे 500 और हर दिन 12,000 बन रहे कोरोना का शिकार

एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

दुनियाभर में कोरोनावायरस इन्फेक्शन से हुई मौतों ने शनिवार को तीस लाख यानी तीन मिलियन का आंकड़ा पार कर लिया। पिछले हफ्ते दुनियाभर में हर दिन कोरोनाव इन्फेक्शन के करीब 7 लाख नए केस सामने आए। औसतन 12 हजार की रोज मौत हुई। यानी हर घंटे 500 और हर मिनट 8 मौतें कोरोना की वजह से हो रही हैं।

वास्तविक संख्या अधिक भी हो सकती है, क्योंकि दुनिया के कई देशों में नए केस और मौतों के सही आंकड़े सामने नहीं आ रहे।

ब्राजील में रोज तकरीबन 3,000 मौतें हो रही हैं। पिछले हफ्तों में दुनियाभर में हुई मौतों में हर चौथा व्यक्ति ब्राजील का रहा है। दुनियाभर में वैक्सीनेशन कैंपेन के बाद भी भारत और ब्राजील जैसे देशों में कोरोना विकराल रूप लेता जा रहा है।

अस्पतालों में बिस्तर खाली नहीं हैं और लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के अनुसार 2019 के अंत में चीन के वुहान से कोरोना शुरू हुआ और शुरुआती 10 लाख मौतें 8.5 महीने में हो गईं। यानी पिछले साल सितंबर महीने में ये आंकड़ा छू गया था।

जैसे-जैसे देश लॉकडाउन से बाहर आते गए, मौतें बढ़ती गईं। इस साल 15 जनवरी को ही कुल 20 लाख मौतें दर्ज हो चुकी थीं। और शनिवार को यह आंकड़ा 30 लाख को पार कर गया।

जमैका और आर्मेनिया की आबादी से अधिक मौतें
इन 15 महीनों में कोरोना की वजह से जितने लोगों की जान गई है, वह तो जमैका या आर्मेनिया की आबादी से भी अधिक है। 1980 से 1988 तक चले इरान-इराक युद्ध में हुई मौतों का तीन गुना है। इजरायल जैसे देशों को कोरोना वैक्सीनेशन का लाभ मिला है, पर दुनिया से महामारी खत्म होने के निशान अब तक तो नहीं दिख रहे। शुक्रवार को दुनियाभर में 8.29 लाख नए केस सामने आए, जो अब तक का एक दिन का सबसे बड़ा आंकड़ा है।

आइए जानते हैं, जिन देशों में सबसे ज्यादा मौतें दर्ज हुई, उन्होंने क्या गलती की….

अमेरिका: सबसे अधिक मौतें
महामारी को लेकर एक स्टडी में उम्मीद जताई गई थी कि कोरोना से निपटने में अमेरिका ही सबसे अच्छा काम करेगा। पर हुआ इसका उलट। अमेरिका में अब तक 5.66 लाख से ज्यादा मौतें कोरोना की वजह से हो चुकी हैं। इसकी समस्या की जड़ थे प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रम्प, जो शुरुआत में इसे महामारी मानने तक तो तैयार नहीं थे। उन्होंने दुनियाभर में इसे रोकने के लिए किए गए प्रयासों का मजाक तक उड़ाया। हालांकि, बाद में ट्रम्प बोले की लोग घबराएं नहीं, इसलिए उन्होंने इसे ज्यादा महत्व नहीं दिया।

ब्राजीलः दुनियाभर में हो रही चार मौतों में से एक मौत यहीं
ब्राजील 3.68 लाख मौतों के साथ दूसरे नंबर पर है। विशेषज्ञों का कहना है कि अगले कुछ हफ्तों में यहां पीक नहीं जाने वाला। यानी मौतें बढ़ती ही जाएंगी। ब्राजील में तकरीबन हर दिन 3,000 से अधिक मौतें कोरोना के कारण हो रही है। दुनियाभर में हो रही चार मौतों में से एक मौत ब्राजील में हो रही है। यहां भी काफी हद तक इसके लिए राजनीतिक नेतृत्व ही जिम्मेदार रहा। अमेरिका में जो ट्रम्प ने किया, वही ब्राजील में प्रेसिडेंट जायर बोल्सोनारो ने किया। उन्होंने खतरे की अनदेखी की और लॉकडाउन की अपीलों को लगातार ठुकराया। उनके लिए कोविड-19 महज एक फ्लू है, उससे ज्यादा कुछ नहीं। यूनिवर्सिटी ऑफ वॉशिंगटन की स्टडी के मुताबिक जुलाई तक ब्राजील में 5 लाख से अधिक मौतें हो सकती हैं।

मैक्सिकोः 3.30 लाख हो सकती हैं मौतें
यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया की रिपोर्ट के मुताबिक, मैक्सिको हेल्थकेयर सिस्टम पर पैसा खर्च करने को तैयार ही नहीं था। ट्रीटमेंट, टेस्टिंग और महामारी को लेकर नए शोधों पर भी अनदेखी ही करता रहा। मैक्सिको के हेल्थ डिपार्टमेंट के मुताबिक 12.6 करोड़ की आबादी वाले इस देश में 2.11 लाख मौतें हो चुकी हैं। उसका मानना है कि वास्तविक संख्या 3.30 लाख के करीब हो सकती है।

भारतः पॉजिटिव केसेस पर 0.08% मौतें
भारत भले ही इस लिस्ट में 1.75 लाख मौतों के साथ चौथे नंबर पर हो, पर उसने दूसरे देशों से बेहतर काम किया है। अगर आप इन्फेक्शन केसेस के मुकाबले मौतों का प्रतिशत भारत में देखेंगे तो यह 0.08% है। वहीं अमेरिका में 0.6% यानी करीब आठ गुना ज्यादा। इसकी बड़ी वजह सख्त लॉकडाउन। युवा आबादी भी एक बड़ा कारण है, जिसने बड़ी संख्या में कोरोना को मात दी है।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय अनुसार अपने प्रयासों को अंजाम देते रहें। उचित परिणाम हासिल होंगे। युवा वर्ग अपने लक्ष्य के प्रति ध्यान केंद्रित रखें। समय अनुकूल है इसका भरपूर सदुपयोग करें। कुछ समय अध्यात्म में व्यतीत कर...

और पढ़ें