भास्कर एक्सप्लेनर:देश में ओमिक्रॉन की एंट्री के बीच राजस्थान में 1 महीने में 257% केस बढ़े, MP में 5 दिन में 90 मामले

8 महीने पहलेलेखक: आबिद खान

कोरोना का नया वैरिएंट ओमिक्रॉन भारत में भी पहुंच गया है। देश में ओमिक्रॉन से संक्रमित 2 मरीज कर्नाटक में पाए गए हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने ओमिक्रॉन की जानकारी देने वाली प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि देश में कोरोना के मामले तेजी से घट रहे हैं। हालांकि अगर हम कुछ प्रमुख राज्यों के पिछले कुछ दिनों के आंकड़ों पर नजर डालें, तो यहां कोरोना केस तेजी से बढ़ रहे हैं।

आइए समझते हैं, देश में अभी कोरोना की क्या स्थिति है? किन राज्यों में केसेज बढ़ रहे हैं? और अलग-अलग राज्यों में एक्टिव केस, टोटल डेथ और टोटल केसेज का आंकड़ा क्या है?

सबसे पहले देश का हाल समझते हैं

1 दिसंबर को भारत में 9,765 नए केस दर्ज किए गए हैं। 477 लोगों की कोरोना संक्रमण से जान गई है, जबकि 8,548 लोगों ने इस बीमारी को मात दी है। मरने वालों का आंकड़ा 4.69 लाख को पार कर गया है।

देश में कोरोना के एक्टिव केस पूरे डेढ़ साल बाद एक लाख से कम हुए हैं। आज एक्टिव केस की संख्या 99,753 है। पिछले साल 1 जून को 97,009 एक्टिव मामले थे। रिकवरी रेट 98.35% है। कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के खतरे के बीच एक्टिव केस कम होना राहत की खबर है।

मध्यप्रदेश: पिछले 15 दिन में बढ़े केस

मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमित का आंकड़ा बीते दिनों में लगातार बढ़ रहा है। MP में 1 दिसंबर को 17 केस सामने आए हैं, जिनमें राजधानी भोपाल में 9 इंदौर में 5, जबलपुर में 2 और अशोकनगर में 1 पॉजिटिव केस मिला है। पिछले 12 दिन के भीतर प्रदेश में 188 नए कोरोना केस मिल चुके। इंदौर में बीते 5 दिन में 33 संक्रमित मिले हैं। राज्य में फिलहाल एक्टिव केस 124 हैं। बढ़ते केसेज के बीच सरकार ने 1 दिसंबर से मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग को लेकर सख्ती बढ़ा दी है।

गुजरात: दो दिन में बढ़े मामले

1 दिसंबर को गुजरात में 45 नए केसेज मिले हैं, जिसके बाद राज्य में कुल केसेज का आंकड़ा 8,27,520 हो गया है। सोमवार को राज्य में 27 केस मिले थे उसके बाद 1 दिसंबर को ये आंकड़ा बढ़कर 45 पर पहुंच गया है। राज्य में कोरोना से 1 मरीज की मौत भी हुई है। राज्य में फिलहाल 293 एक्टिव केस हैं, जिसमें सबसे ज्यादा 100 मरीज अहमदाबाद में हैं।

राजस्थान: एक महीने में 257% बढ़े नए केस

राजस्थान में कोरोना का ग्राफ नवंबर में तेजी से बढ़ने लगा है। अक्टूबर के मुकाबले नवंबर में केस 257% बढ़े हैं। नवंबर के 30 दिनों में राजस्थान में 365 नए मरीज मिले हैं। अक्टूबर में यह संख्या केवल 102 थी, जबकि सितम्बर में 232 मरीज मिले थे। राज्य के 33 में से 16 जिले ऐसे भी हैं, जहां कोरोना के पूरे महीने में एक भी केस नहीं मिला है। जयपुर की बात करें तो यहां अक्टूबर की तुलना में नवंबर में 3 गुना केस बढ़े हैं। 4 महीने बाद जयपुर में इस बीमारी से एक मौत भी हुई है।

महाराष्ट्र: नए केस घटे, पर देश में सबसे ज्यादा केस यहीं मिले

महाराष्ट्र उन राज्यों में से है, जहां नए केसेज की रफ्तार बाकी राज्यों के मुकाबले ज्यादा रही है। 1 दिसंबर को राज्य में 767 नए केस मिले जिसमें सबसे ज्यादा 112 मुंबई और 101 पुणे में मिले। राज्य में फिलहाल 7,391 एक्टिव केसेज हैं। राहत वाली बात ये है कि महाराष्ट्र के ग्रामीण इलाकों में कोरोना के नए केसेज कम हैं। 1 दिसंबर को 11 जिलों और 5 म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन में एक भी पॉजिटिव केस नहीं आया है।

छत्तीसगढ़: छत्तीसगढ़ में 1 दिसंबर को 20 नए केस मिले हैं। दुर्ग और बिलासपुर में 3, राजधानी रायपुर में 2 और बस्तर में 1 केस मिला है। इसके बाद राज्य में टोटल केसेज का आंकड़ा 10,06,833 हो गया है। राहत की बात ये है कि राज्य में 10 अगस्त के बाद से अभी तक नए केसेज का आंकड़ा कभी भी 100 को पार नहीं किया है। साथ ही राज्य के 17 जिलों में एक भी नया केस नहीं मिला है।

केरल: अब भी रोजोना केसेज के मामले में टॉप पर

नए केसेज के लिहाज से केरल पिछले कई महीनों से देश में टॉप पर बना हुआ है। 1 दिसंबर को भारत में कुल 9,765 केस मिले जिसमें से केवल केरल में ही 5,405 केस मिले। ज्यादातर बड़े राज्यों में जहां दूसरी लहर के बाद ही केसेज कम होना शुरू हो गए थे वहीं, केरल में सितंबर तक नए केसेज रफ्तार पकड़ते रहे। राज्य सरकार के मुताबिक, अभी भी 1.52 लाख लोग होम आइसोलेशन में हैं।